Friday, December 3, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयWHO में भारत को मिला अहम स्थान, डॉ हर्षवर्धन बने कार्यकारी बोर्ड अध्यक्ष

WHO में भारत को मिला अहम स्थान, डॉ हर्षवर्धन बने कार्यकारी बोर्ड अध्यक्ष

डॉ हर्षवर्धन को मिलने वाला ये पद हर साल बदलता रहता है। लेकिन पिछले साल WHO के दक्षिण-पूर्व एशिया समूह ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया था कि भारत को तीन साल के कार्यकाल के लिए कार्यकारी बोर्ड के लिए चुना जाएगा।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WH0) के मुख्यालय में वार्षिक बैठक का नेतृत्व करने के लिए अब भारत पूरी तरह तैयार है। भारत की ओर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन 22 मई को विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्यकारी बोर्ड अध्यक्ष का पद संभालने वाले हैं।

डॉ हर्षवर्धन वैश्विक स्तर पर इस बड़े पद को संभालते हुए जापान के डॉ हिरोकी नकातानी को रिप्लेस करेंगे। डॉ हिरोकी वर्तमान में 34 सदस्यों के बोर्ड के अध्यक्ष हैं।

गौरतलब है कि इससे पहले WHO की बैठक में भारत की तरफ से नामित किए गए डॉ हर्षवर्धन को नियुक्त करने का प्रस्ताव 19 मई को 194 देशों ने पारित किया था।

स्वास्थ्य क्षेत्र में बेहतर 34 देशों को ही कार्यकारी बोर्ड का सदस्य बनाया जाता है। लेकिन पहली बार इसमें ऐसे देशों को शामिल किया गया है, जो इस क्षेत्र में बहुत आगे नहीं हैं।

जानकारी के मुताबिक, भारत के अलावा बोर्ड के सदस्यों में बोट्सवाना, कोलंबिया, घाना, गिनि बिसाऊ, मेडागास्कर, ओमान, रिपब्लिक ऑफ कोरिया, रूस और ब्रिटेन को जगह मिली है।

यहाँ बता दें कि डॉ हर्षवर्धन को मिलने वाला ये पद हर साल बदलता रहता है। लेकिन यह जानना भी जरूरी है कि पिछले साल WHO के दक्षिण-पूर्व एशिया समूह ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया था कि भारत को तीन साल के कार्यकाल के लिए कार्यकारी बोर्ड के लिए चुना जाएगा।

इससे पहले हर्षवर्धन ने सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 73वीं विश्व स्वास्थ्य सभा को संबोधित किया था। उन्होंने कहा कि भारत ने COVID-19 महामारी का मुकाबला करने के लिए समय पर सभी आवश्यक कदम उठाए। उन्होंने दावा किया था कि देश ने बीमारी से निपटने में अच्छा किया है और आने वाले महीनों में बेहतर करने का भरोसा है।

WHO में कार्यकारी अध्यक्ष के पद के लिए चुने जाने के बाद सोशल मीडिया पर डॉ हर्षवर्धन को बधाइयाँ दी जा रही हैं। स्तंभकार सुहेल सेठ ने भी उनको इस बड़ी कामयाबी के लिए शुभकामनाएँ दी हैं, जिसपर केंद्रीय मंत्री ने उन्हें आभार प्रकट किया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सियासत होय जब ‘हिंसा’ की, उद्योग-धंधा कहाँ से होय: क्या अडानी-ममता मुलाकात से ही बदल जाएगा बंगाल में निवेश का माहौल

एक उद्योगपति और मुख्यमंत्री की मुलाकात आम बात है। पर जब मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हों और उद्योगपति गौतम अडानी तो उसे आम कैसे कहा जा सकता?

पाकिस्तानी मूल की ऑस्ट्रेलियाई सीनेटर मेहरीन फारुकी से मिलिए, सुनिए उनकी हिंदू घृणा- जानिए PM मोदी से उनको कितनी नफरत

मेहरीन फारूकी ने ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन के अच्छे दोस्त PM नरेंद्र मोदी को घेरने के बहाने संघीय सीनेट में घृणा के स्तर तक उतर आईं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,299FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe