J&K: पुलवामा में लश्कर के 4 आतंकी ढेर, सर्च ऑपरेशन अब भी जारी

जब आतंकवादी सुरक्षा बलों से घिर गए तो उन्होंने सुरक्षाबलों पर फायरिंग करना शुरू कर दिया, जिसका सुरक्षाबलों ने मुँहतोड़ जवाब दिया और इस दौरान हुए मुठभेड़ में चार आतंकवादी ढेर हो गए।

जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षाबलों को बड़ी सफलता हाथ लगी है। आज तड़के पुलवामा जिले के लस्सीपोरा में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच जारी मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने 4 आतंकियों को मार गिराया। सुरक्षाबलों को खुफिया सूत्रों से जानकारी मिली थी कि एक घर में कुछ आतंकी छिपे हैं। इसके बाद सेना, सीआरपीएफ और पुलिस ने संयुक्त रूप से तलाशी अभियान चलाया और इलाके को घेर लिया। जब आतंकवादी सुरक्षा बलों से घिर गए तो उन्होंने सुरक्षाबलों पर फायरिंग करना शुरू कर दिया, जिसका सुरक्षाबलों ने मुँहतोड़ जवाब दिया और इस दौरान हुए मुठभेड़ में चार आतंकवादी ढेर हो गए।

जानकारी के मुताबिक, सभी आतंकवादी लश्‍कर-ए-तैयबा के थे। सुरक्षाबलों ने आतंकियों के पास से 2 एके राइफल, एक एसएलआर और एक पिस्टल बरामद की है। सर्च ऑपरेशन अब भी जारी है। जम्मू-कश्मीर पुलिस के अधिकारी ने बताया कि, मुठभेड़ के दौरान सेना के तीन जवान और एक पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। यह एक साफ ऑपरेशन था। मुठभेड़ के दौरान किसी तरह की नागरिक संपत्ति की क्षति नहीं हुई। मुठभेड़ स्थल से हथियार और गोला-बारूद बरामद किया गया है और मामला दर्ज कर लिया गया है।

गौरतलब है कि, इससे पहले सुरक्षा बलों ने 29 मार्च को दो आतंकवादी मार गिराए थे। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने बताया था कि श्रीनगर शहर के बाहरी क्षेत्र नौगाम में एक मुठभेड़ में आतंकवादी मारे गए। वहीं, 28 मार्च को जम्मू कश्मीर के शोपियां और कुपवाड़ा जिलों में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में चार आतंकवादी मार गिराए थे। आतंकियों के खिलाफ ‘ऑपरेशन ऑलआउट’ काफी लंबे समय से चल रहा है। इस ऑपरेशन के तहत इस साल अभी तक 250 से ज्यादा आतंकवादियों को मुठभेड़ में मारा गया है, जबकि पिछले साल 217 आतंकवादी ही मारे गए थे। पुलवामा आतंकी हमले के बाद सुरक्षाबलों ने कार्रवाई तेज कर दी है। लोकसभा चुनाव के मद्देनजर भी घाटी में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू विरोध प्रदर्शन
छात्रों की संख्या लगभग 8,000 है। कुल ख़र्च 556 करोड़ है। कैलकुलेट करने पर पता चलता है कि जेएनयू हर एक छात्र पर सालाना 6.95 लाख रुपए ख़र्च करता है। क्या इसके कुछ सार्थक परिणाम निकल कर आते हैं? ये जानने के लिए रिसर्च और प्लेसमेंट के आँकड़ों पर गौर कीजिए।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,921फैंसलाइक करें
23,424फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: