Sunday, October 17, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षामारा गया जैश-ए-मुहम्मद चीफ मसूद अजहर, #Balakot में मौजूद था वह जब IAF का...

मारा गया जैश-ए-मुहम्मद चीफ मसूद अजहर, #Balakot में मौजूद था वह जब IAF का गिरा था बम: रिपोर्ट्स

मीडिया रिपोर्टस् के अनुसार, पाकिस्तान के रावलपिंडी के एक सैन्य अस्पताल में उसकी मौत हो गई है। मसूद के साथ ही आईएसआई का कर्नल सलीम भी मारा गया है।

वैश्विक स्तर पर पाकिस्तान की किरकिरी के बीच बड़ी खबर यह है कि आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद का सरगना मसूद अजहर की मौत हो गई है। मीडिया रिपोर्ट से मिली जानकारी के अनुसार उसकी 2 मार्च 2019 को ही मौत हो गई थी। अभी तक किसी भी मीडिया हाउस ने इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की है। बताया यह भी जा रहा है कि पाकिस्तानी सेना की अनुमति के बाद ही मसूद की मौत की आधिकारिक घोषणा की जाएगी।

हाल ही में CNN को दिए एक इंटरव्यू में पाकिस्तान के विदेश मंत्री महमूद कुरैशी ने कहा था,  “जितना मेरी जानकारी है वह काफी बीमार है। वह इतना बीमार है कि वह घर से बाहर नहीं जा सकता।”

ज्ञात हो कि भारतीय वायुसेना सेना ने 26 फरवरी को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी शिविरों और लॉन्च पैड्स को तबाह कर दिया था। इसके दो दिन बाद ही खूंखार आतंकवादी संगठन जैश-ए-मुहम्मद के संस्थापक मसूद अजहर के गुर्दे खराब होने की खबरें लगातार सामने आ रही थीं। वहीं, कुछ मीडिया रिपोर्टस् में दावा किया गया है कि मसूद अजहर की मौत हो चुकी है। कहा जा रहा है कि सेना की एयर स्ट्राइक के दौरान मसूज अजहर आतंकी शिविर में ही मौजूद था।

यह भी कहा जा रहा है कि मसूद अजहर एयर स्ट्राइक के दौरान आतंकी शिविर में सो रहा था। मीडिया रिपोर्टस् के अनुसार, पाकिस्तान के रावलपिंडी के एक सैन्य अस्पताल में उसकी मौत हो गई है।

बता दें कि भारतीय सेना ने इस एयर स्ट्राइक में मिराज-2000 लड़ाकू विमान का प्रयोग किया था। एयर स्ट्राइक दौरान भारतीय वायुसेना ने PoK और बालाकोट में लगभग 1000 किलो बम की बरसात की थी। मीडिया रिपोर्ट में यह भी दावा किया जा रहा है कि मसूद के साथ ही आईएसआई का कर्नल सलीम भी मारा गया है।

जो भी हो जब तक आधिकारिक सच्चाई सामने नहीं आ जाती तब तक कुछ भी मान लेना जल्दबाजी होगी। विभिन्न मीडिया संस्थान पाकिस्तान की तरफ से इसकी आधिकारिक पुष्टि के लिए टकटकी लगाए हुए हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe