Tuesday, July 27, 2021
Homeरिपोर्टमीडियामेरे पिता का पूरा जीवन दुश्मनों से लड़ते हुए बीता: कारवाँ के 'प्रोपेगेंडा' लेख...

मेरे पिता का पूरा जीवन दुश्मनों से लड़ते हुए बीता: कारवाँ के ‘प्रोपेगेंडा’ लेख पर अदालत में विवेक डोभाल

लेख में ‘डोभाल परिवार’ को ‘डी कंपनी’ का नाम दिया गया, जिसका इस्तेमाल 1993 मुंबई बम धमाकों के आरोपी और कुख्यात आतंकवादी दाऊद इब्राहिम के गैंग के लिए किया जाता है।

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल के बेटे विवेक डोभाल द्वारा कारवाँ मैगज़ीन और कॉन्ग्रेस नेता जयराम रमेश के ख़िलाफ़ आपराधिक मानहानि मामले पर सुनवाई पटियाला हाउस में हुई। इस मामले की सुनवाई अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल द्वारा की गई। विवेक डोभाल का प्रतिनिधित्व एडवोकेट डीपी सिंह ने किया। सुनवाई के दौरान विवेक डोभाल ने कहा कि यह मामला आने वाले वर्षों में उनके करियर पर एक धब्बे की तरह है। अपने पिता को लेकर उन्होंने कहा कि उनका पूरा जीवन इस देश के दुश्मनों से लड़ते बीता है, ऐसा कैसे हो सकता है कि वो अपने बेटे को अवैध गतिविधियों को अंजाम देने की अनुमति दे दें।

फ़िलहाल, अदालत ने सुनवाई के लिए 10 जुलाई का दिन मुक़र्रर कर दिया है। विवेक डोभाल को सुनवाई की अगली तारीख पर जिरह करनी होगी।

विवेक ने कहा कि कारवाँ के लेख से ऐसा लगता है जैसे कि डोभाल परिवार काले धन और अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद में शामिल हो। यह लेख बहुत ही व्यवस्थित तरीके से लिखा गया लेख था जिसे पढ़कर पाठकों को सच में ऐसा लग सकता था कि विवेक डोभाल, और उनका परिवार अवैध गतिविधियों में शामिल था। इस लेख में मनी लॉन्ड्रिंग, वित्तीय विनियमन और विदेशी शाही परिवारों से कनेक्शन जैसे मुद्दों को शामिल किया गया।

ध्यान देने वाली बात यह है कि इस लेख में ‘डोभाल परिवार’ को ‘डी कंपनी’ का नाम दिया गया, जिसका इस्तेमाल 1993 मुंबई बम धमाकों के आरोपी और कुख्यात आतंकवादी दाऊद इब्राहिम के गैंग के लिए किया जाता है। विवेक ने कहा कि यह सर्वविदित है कि दाऊद एक अंतरराष्ट्रीय आंतकवादी है। इस लेख का शीर्षक सबसे अधिक तकलीफ़ देने वाला था।

विवेक डोभाल ने कहा, “मेरे पिता (अजित डोभाल ) मेरे हीरो हैं। जब मैं दिल्ली वापस आया, तो मुझे इन कथनों की सत्यता पर अपने पिता का सामना करना पड़ा। मैं टूट गया। मैं असहाय महसूस कर रहा था, मेरा जीवन और करियर सालों की मेहनत से बनाया गया है। यहाँ तक पहुँचने के लिए मैंने केवल अपनी क्षमताओं पर भरोसा किया है। एक फंड मैनेजर के रूप में मेरे लिए जो महत्वपूर्ण है, वह मेरी प्रतिष्ठा है।”

डोभाल ने कहा, “मैंने यूट्यूब पर प्रेस कॉन्फ्रेंस का वीडियो देखा जिसमें कमेंट्स भीतर मेरे परिवार के ख़िलाफ़ बहुत ही अभद्र और अपमानजनक टिप्पणियाँ थीं ।” भारतीय राष्ट्रीय कॉन्ग्रेस वेबसाइट ने साक्षात्कार और इसकी ट्रांसस्क्रिप्ट भी जारी की। उन्होंने बताया कि इस प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन यूपीए काल में केंद्रीय मंत्री रहे जयराम रमेश द्वारा किया गया था।

विवेक डोभाल ने हैरानी जताते हुए कहा कि ग़लत तथ्यों और जानकारी के ज़रिए उनके और उनके परिवार की छवि को धूमिल करने का प्रयास किया गया। उन्होंने कहा कि वो 16 जनवरी को किसी काम से क़तर के दोहा यात्रा पर थे, तब उनके पास उनके भाई का फोन आया कि कारवाँ मैगज़ीन ने आरोप लगाते हुए एक झूठा और भ्रामक लेख लिखा है।

जस्टिस समर विशाल ने 22 जनवरी को द कारवाँ, जयराम रमेश और लेख के लेखक कौशल श्रॉफ के ख़िलाफ़ विवेक डोभाल की आपराधिक मानहानि की शिकायत का संज्ञान लिया था। कारवां मैगज़ीन में लेख प्रकाशित होने के बाद डोभाल ने अदालत का रुख़ किया था। डोभाल ने अदालत का रुख़ इसलिए किया था, क्योंकि लेख में यह आरोप लगाया गया था कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल के बेटे विवेक डोभाल केमैन आइलैंड, जो कि टैक्स-हेवन के रूप में जाना जाता है, में हेज फंड (निवेश निधि) चलाते हैं। रवीश कुमार ने यहाँ तक लिखा था कि “डी-कंपनी का अभी तक दाऊद का गैंग ही होता था और भारत में एक और डी कंपनी आ गई है”। इस पत्रिका के अनुसार यह हेज फंड 2016 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नोटबंदी की घोषणा के 13 दिन बाद रजिस्टर्ड किया गया था।

विवेक डोभाल ने अपनी नागरिकता की स्थिति, शैक्षिक योग्यता और पेशेवर स्थिति के विस्तृत वर्णन से शुरुआत कर के इस लेख के ख़िलाफ़ शिक़ायत दर्ज कराई। इसमें उन्होंने पूछा था कि क्या ‘डी कंपनी’ शीर्षक से लिखा गया लेख उन्हें वास्तव में परेशान करने के लिए लिखा गया था?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,361FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe