Wednesday, April 17, 2024
Homeरिपोर्टमीडियासेना के प्रस्ताव को लेकर डेक्कन क्रॉनिकल ने मोदी समर्थकों पर कसा तंज, फिर...

सेना के प्रस्ताव को लेकर डेक्कन क्रॉनिकल ने मोदी समर्थकों पर कसा तंज, फिर चुपचाप हेडलाइन से ‘भक्त’ हटाया

खबर सेना में आम नागरिकों को तीन साल के लिए सेवा देने के प्रस्ताव से जुड़ी थी। डेक्कन क्रॉनिकल ने हेडलाइन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थकों पर तंज कसते हुए कहा था कि अब 'भक्तों' के लिए सेना में शामिल होने का समय आ गया है।

डेक्कन क्रॉनिकल ने गुरुवार (मई 14, 2020) को एक लेख प्रकाशित किया था। इसमें बताया गया था कि आम नागरिकों को तीन साल के लिए सेना में सेवा देने का मौका देने के प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है। लेकिन, इस रिपोर्ट की हेडलाइन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थकों पर तंज कसा गया। कहा गया था कि अब ‘भक्तों’ के लिए सेना में शामिल होने का समय आ गया है।

‘भक्त’ और ‘अंधभक्त’ शब्द का इस्तेमाल राजनीतिक विरोधी और मीडिया का एक धड़ा पीएम मोदी के समर्थकों के लिए करता है।

इसके बाद कॉन्ग्रेस समर्थकों ने डेक्कन क्रॉनिकल की ‘शानदार’ हेडलाइन के लिए प्रशंसा की। साथ ही यह आशंका भी जताई कि ‘संघी’ अब सेना में घुसपैठ कर सकते हैं।

कुछ लोगों ने इसे प्रिंट मीडिया के ‘विश्वसनीयता’ रूप में भी देखा।

इस बीच, पीएम मोदी के समर्थकों ने इस बात को अपनी प्रशंसा में लेते हुए इसे ताने के रूप में इस्तेमाल किया और कहा कि वास्तव में केवल ‘भक्त’ ही देश की सेवा कर सकते हैं और मातृभूमि के लिए मरने को भी तैयार रहते हैं।

हालांकि, कॉन्ग्रेस समर्थकों की सराहना के बावजूद ‘डेक्कन क्रॉनिकल’ ने एक दिन बाद बिना कुछ कहे ही ‘अंध भक्त’ को अपने हेडलाइन से हटा दिया। नए हेडलाइन में लिखा- सेना ने आम नागरिकों के लिए तीन साल के टूर फ़ॉर ड्यूटी का दिया प्रस्ताव।

मीडिया में हेडलाइन का ‘खेल’

आजतक ने हाल ही में एक मुस्लिम घर में हिंसा पर एक रिपोर्ट में करवा चौथ को खींचकर हिंदूफोबिया प्रदर्शित की थी। हेडलाइन में कहा गया था कि एक पति ने करवा चौथ के दिन अपनी पत्नी की जीभ काट दी थी, जबकि अपराधी और पीड़ित, दोनों गैर-हिंदू थे। इसी तरह एनडीटीवी को भी ट्विटर पर पकड़े जाने के बाद अपने गुमराह करने वाले हेडलाइन को बदलना पड़ा था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

18 महीने में होती थी जितनी बारिश, उतना पानी 1 दिन में दुबई में बरसा: 75 साल का रिकॉर्ड टूटने से मध्य-पूर्व के रेगिस्तान...

दुबई, ओमान और अन्य खाड़ी देशों में मंगलवार को एकाएक हुई रिकॉर्ड बारिश ने भारी तबाही मचाई है। ओमान में 19 लोगों की मौत भी हो गई।

भारत घुसकर मारेगा तो बचाने नहीं आएगा अमेरिका: PM मोदी की चेतावनी पर USA ने क्लियर किया स्टैंड, आतंकी निज्जर पर भी नहीं गली...

पत्रकारों के एजेंडे के तहत सवाल पूछे। एक ने दावा कर दिया कि निज्जर की हत्या में भारत ने संलिप्तता स्वीकार कर ली, तो दूसरे ने भारत को छूट दिए जाने का आरोप लगा दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe