Monday, November 29, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाजम्मू कश्मीर पर भारत को बदनाम करने में लगा है ध्रुव राठी, बलूचिस्तान पर...

जम्मू कश्मीर पर भारत को बदनाम करने में लगा है ध्रुव राठी, बलूचिस्तान पर साध लेता है चुप्पी

अपनी वीडियो में ध्रुव राठी ने यहाँ तक दावा किया था कि जम्मू कश्मीर में लोगों को भारत के बाकी राज्यों की तरह अधिकार नहीं मिलते। जबकि ये बिलकुल असत्य है। वहाँ सरकार सारी सुविधाएँ पहुँचाने के लिए कार्यरत रहती है और सेना वहाँ इसीलिए है ताकि पाकिस्तानी आतंकियों से वहाँ के नागरिकों को बचाया जा सके।

ध्रुव राठी ख़ुद को विश्व के सभी मामलों का जानकार मानता है। भूत और भविष्य से लेकर वर्तमान तक पर उसकी पकड़ उसके ‘भक्तों’ की नज़र में इतनी मजबूत है कि उसका एक-एक वीडियो को प्रोपेगंडा फैलाने के लिए हथियार बनाया जाता है। इससे पहले हमने बताया था कि किस तरह राठी पहले कोरोना वायरस को मीडिया द्वारा फैलाया गया हौवा बता रहा था और दावे कर रहा था कि चीन से बाहर के लोगों को इससे जरा भी डरने की ज़रूरत नहीं है। अब यही ध्रुव राठी कोरोना के इलाज से लेकर इसके प्रसार तक पर भाषण देता है और ‘भक्तगण’ बड़े चाव से प्रवचन की तरह सुनते हैं।

इसी बीच उसका एक और प्रोपेगंडा सामने आया है। वो कई देशों के स्वतंत्रता संग्राम पर भी वीडियो बनाता रहा है। इस दौरान वो जम्मू कश्मीर का नाम तो लेता है लेकिन कभी भी बलूचिस्तान के बारे में कुछ नहीं कहता। जबकि सच्चाई ये है कि पाकिस्तान में बलूचिस्तान के लोग आज़ादी के लिए कई दशकों से संघर्ष कर रहे हैं और पाकिस्तानी फ़ौज लम्बे समय से उनका दमन करती आई है। ध्रुव राठी ने एक वीडियो बना कर जम्मू कश्मीर में कर्फ्यू लगाने और वहाँ हिरासत में लिए जाने पर सवाल खड़ा किया था।

साथ ही ध्रुव राठी तिब्बत और हॉन्गकॉन्ग पर वीडियो बनाता है तो कश्मीर की भी चर्चा करता है। नीचे संलग्न की गई तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि वो किस तरह कश्मीर मुद्दे पर भारत को बदनाम करता है। अपनी वीडियो में ध्रुव राठी ने यहाँ तक दावा किया था कि जम्मू कश्मीर में लोगों को भारत के बाकी राज्यों की तरह अधिकार नहीं मिलते। जबकि ये बिलकुल असत्य है। वहाँ सरकार सारी सुविधाएँ पहुँचाने के लिए कार्यरत रहती है और सेना वहाँ इसीलिए है ताकि पाकिस्तानी आतंकियों से वहाँ के नागरिकों को बचाया जा सके।

जब चीन में भारतीय छात्र फँसे हुए थे, तब उनमें कई कश्मीरी भी थे। वहाँ कोरोना वायरस के बढ़ते ख़तरे को देखते हुए भारत ने सभी कश्मीरी छात्रों को वहाँ से निकाला और उन्हें वापस लाया। एक कश्मीरी छात्र ने पीएम मोदी को इसके लिए धन्यवाद भी दिया। निज़ाम नामक मेडिकल छात्र ने बताया कि वो और उसके साथी भारत में उनलोगों के लिए किए गए इंतजामों से पूर्णतया ख़ुश थे। बावजूद इसके राठी जैसे लोग प्रोपेगंडा फैलाने में व्यस्त रहते हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जिनके घर शीशे के होते हैं, वे दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते’: केजरीवाल के चुनावी वादों पर बरसे सिद्धू, दागे कई सवाल

''अपने 2015 के घोषणापत्र में 'आप' ने दिल्ली में 8 लाख नई नौकरियों और 20 नए कॉलेजों का वादा किया था। नौकरियाँ और कॉलेज कहाँ हैं?"

‘शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा, वो पहले ही 14 महीने से जेल में’: इलाहाबाद...

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा कि शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe