Wednesday, January 27, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया पूर्व पति को ट्रोल कहने वाली गालीबाज 'फर्जी दलित चिंतक' के बचाव में उतरा...

पूर्व पति को ट्रोल कहने वाली गालीबाज ‘फर्जी दलित चिंतक’ के बचाव में उतरा मीडिया गिरोह

मीना कंडासामी के पूर्व पति गुनशेखरन धर्मराज ने कहा कि मीना कंडासामी ने उनके खिलाफ फर्जी उत्पीड़न का केस दर्ज किया था, वो भी इसलिए क्योंकि उन्होंने उसके पिता के खिलाफ हमले का केस दर्ज कराया था।

‘दलित कार्यकर्ता’ मीना कंडासामी पिछले कुछ दिनों तक एक प्रकरण को लेकर चर्चा में रही हैं। यह पूरा प्रकरण उसके ट्वीट को लेकर उछला था, जिसमें उसने ‘ब्राह्मण d*cks’ आदि अपशब्द कहते हुए डींगें हाँकी थी। मीना के इस घृणित कमेंट का बचाव करने के लिए उसके कई कॉमरेड साथी इस मामले में कूद पड़े थे।

The tweet that started it all

उसकी घृणित टिप्पणी के बाद काफी अधिक आक्रोश देखा गया। इसी दौरान उसके पति द्वारा दिया गया बयान भी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ। स्वतंत्र पत्रकार दीपिका भारद्वाज द्वारा शेयर किए गए पत्र के अनुसार मीना कंडासामी के पूर्व पति गुनशेखरन धर्मराज ने कहा कि मीना कंडासामी ने उनके खिलाफ फर्जी उत्पीड़न का केस दर्ज किया था, वो भी इसलिए क्योंकि उन्होंने उसके पिता के खिलाफ हमले का केस दर्ज कराया था। धर्मराज ने कहा कि उनके पास उसके द्वारा लिखे गए ईमेल और प्रूफ हैं जो उनके अलग होने के वास्तविक कारण का खुलासा करते हैं।

डॉ. धर्मराज ने यह भी दावा किया कि मीना कंडासामी की ‘दलित’ पहचान भी फर्जी है। उन्होंने कहा कि आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार कंडासामी की माँ फॉरवर्ड कम्युनिटी से थीं, जबकि उसके पिता ओबीसी थे। इस खुलासे के बाद लोगों ने उसे आड़े हाथों ले लिया। इस सबके बीच एक ऐसे मीडिया संगठन- Network of Women in Media (NWM) ने मीना के समर्थन में आवाज उठाई, जिसका नाम किसी ने शायद ही सुना हो। हाालँकि, वह फर्जी खबरों को फैलाने में काफी आगे रहा है।

NWM द्वारा दिए गए बयान में कहा गया, “उसने अपने गृह राज्य तमिलनाडु और अन्य जगहों पर फासीवादी ताकतों, धार्मिक असहिष्णुता और जातिगत हिंसा के खिलाफ लगातार आवाज उठाई है।” वहीं मीना कंडासामी ने अपने आलोचकों को ‘संघी फासीवादी’ कहा। उसने उसके ब्राह्मण-विरोधी कमेंट की आलोचना करने वाले लोगों को भी ‘संघी फासीवादी’ करार दिया।

Kandasamy calls her critics ‘Sanghi fascists’

एनडब्ल्यूएम ने इस तथ्य को आसानी से नजरअंदाज कर दिया कि कंडासामी पर सोशल मीडिया पर लोगों द्वारा उनकी दलित पहचान को धूमिल करने का आरोप लगाया गया। आरोप उनके पूर्व पति ने लगाए थे। उसके पूर्व पति द्वारा लगाए गए आरोपों को लेकर ‘ट्रोल’ करने के साथ ही उसे राजनीति से भी जोड़ा गया।

बयान में आगे कहा गया, “पुरुष अधिकार कार्यकर्ताओं ने उन पर अपने पूर्व पति के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दायर करने का आरोप लगाया। उन्होंने मीना पर मामले में 6 साल की देरी का भी आरोप लगाया है। 2014 से वर्तमान स्थिति के बारे में पता चलता है कि मामले का विवरण बदल गया है। इस तरह के आरोप और चरित्र हनन, ये ऐसी पुरानी चालें हैं जिसका इस्तेमाल महिलाओं की आवाज को शांत करने के लिए किया जाता है।”

यह आरोप पुरुष अधिकार कार्यकर्ताओं ने नहीं लगाए हैं। बल्कि यह आरोप उसके पूर्व पति ने लगाए हैं। आश्चर्य की बात ये है कि NWM उसके पूर्व पति द्वारा सोशल मीडिया पर उस पर लगाए गए आरोपों के लिए दूसरों को क्यों जिम्मेदार ठहरा रही है। यह उसके गलत इरादे को उजागर करती है।

NWM ने दावा किया, “मीना के खिलाफ सबसे अधिक दोषपूर्ण आरोप यह है कि एक फेमिनिस्ट के रूप में वह इस तरह के अपमानजनक शादी में नहीं रह सकती और यदि वह ऐसी शादी में थी, तो वह एक फेमिनिस्ट नहीं हो सकती।” यह मामले को जानबूझकर अलग ट्विस्ट देने का प्रयास था। दरअसल, उसके पूर्व पति ने दावा किया था कि मीना कंडासामी ने अपनी शादी के लिए दहेज दिया था। इसलिए, वह एक फेमिनिस्ट होने का दावा नहीं कर सकती।

डॉ. धर्मराज ने कहा, “मैं जनता के सामने यह भी घोषणा करता हूँ कि मैं न तो दहेज की माँग करता हूँ और न ही समर्थन करता हूँ। एफआईआर में जो तुमने दहेज के संबंध में दावे किए हैं, वो झूठे हैं। इसलिए दहेज दिए जाने का दावा करके या तो तुम नारीवादी आदर्शों के खिलाफ हो, जिनके लिए आप खड़े होने का दावा करते हो या फिर तुम पुलिस और अदालत को गलत जानकारी देकर उन्हें बरगला रही हो।”

इस सबसे ऐसा लग रहा है कि एनडब्ल्यूएम, कंडासामी के पति द्वारा लगाए गए आरोपों पर टिप्पणी कर रहा है, लेकिन उसे उसी तरह दिखाने के बजाय, वे उसे ट्रोल करने की कोशिश कर रहा है। जो कि काफी घृणित काम है। एनडब्ल्यूएम के बयान से पता चलता है कि वामपंथी नारीवादी महिलाएँ किसी भी परिस्थिति में गलत नहीं कर सकती हैं। कंडासामी के हर आलोचक को एक ‘ट्रोल’ करार दिया गया। यह विचित्र और अटपटा है कि कंडासामी के ‘ब्राह्मण d*cks’ के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी पर लीपापोती करके उसे व्हाइटवॉश कर दिया गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लहराया गया खालिस्तानी झंडा, लगे भारत विरोधी नारे: वॉशिंगटन में किसान समर्थन की आड़ में खालिस्तान की माँग

वॉशिंगटन में खालिस्तानी समर्थकों ने कहा कि वह अब तक 26 जनवरी को काला दिन मना रहे थे, लेकिन इस बार एकजुटता में खड़े हैं।

ट्रैक्टर पलटने के बाद जिंदा था ‘किसान’, प्रदर्शनकारी अस्पताल नहीं ले गए… न पुलिस को ले जाने दिया: ‘Times Now’ का खुलासा

उक्त 'किसान' ट्रैक्टर से स्टंट मारते हुए पुलिस बैरिकेडिंग तोड़ रहा था, लेकिन अपनी ही ट्रैक्टर पलटने के कारण खुद उसके नीचे आ गया और मौत हो गई।

11.5% की आर्थिक वृद्धि दर, 2021 में भारत के लिए IMF का अनुमान: एकमात्र बड़ा देश, जो बढ़ेगा दहाई अंकों के साथ

IMF ने भारत की अर्थव्यवस्था को 2021-22 में 11.5 प्रतिशत तक उछाल देने का अनुमान लगाया। वर्ल्ड इकॉनमिक आउटलुक रिपोर्ट में...

153 पुलिसकर्मी घायल, 7 FIR दर्ज: किसी का सर फटा तो कोई ICU में, राकेश टिकैत ने पुलिस को ही दिया दोष

दिल्ली पुलिस ने 'किसानों' द्वारा हुई हिंसा के मामलों को लेकर 7 FIR दर्ज की है। दिन भर चले हिंसा के इस खेल में 153 पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं।

Video: किसानों के हमले में दीवार से एक-एक कर गिरते रहे पुलिसकर्मी, 109 घायल

वीडियो में देखा जा सकता है कि भीड़ द्वारा किए गए हमले से पुलिसकर्मी एक-एक कर लाल किले की दीवार से नीचे गिरते जा रहे हैं।

बिहारी-गुजराती-तमिल-कश्मीरी किसान हो तो डूब मरो… क्योंकि किसान सिर्फ पंजाबी-खालिस्तानी होते हैं, वही अन्नदाता हैं

वास्तविकता ये है कि आप इतने दिनों से एक ऐसी भीड़ के जमावड़े को किसान का आंदोलन कहते रहे। जिसकी परिभाषा वामपंथी मीडिया गिरोह और विपक्षियों ने गढ़ी और जिसका पूरा ड्राफ्ट एक साल पहले हुए शाहीन बाग मॉडल के आधार पर तैयार हुआ।

प्रचलित ख़बरें

दिल्ली में ‘किसानों’ ने किया कश्मीर वाला हाल: तलवार ले पुलिस को खदेड़ा, जगह-जगह तोड़फोड़, पुलिस वैन पर पथराव

दिल्ली में प्रदर्शनकारी पुलिस के वज्र वाहन पर चढ़ गए और वहाँ जम कर तोड़-फोड़ मचाई। 'किसानों' द्वारा तलवारें भी भाँजी गईं।

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

दलित लड़की की हत्या, गुप्तांग पर प्रहार, नग्न लाश… माँ-बाप-भाई ने ही मुआवजा के लिए रची साजिश: UP पुलिस ने खोली पोल

बाराबंकी में दलित युवती की मौत के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया। पुलिस ने बताया कि पिता, माँ और भाई ने ही मिल कर युवती की हत्या कर दी।

हिंदुओं को धमकी देने वाले के अब्बा, मोदी को 420 कहने वाले मौलाना और कॉन्ग्रेस नेता: ‘लोकतंत्र की हत्या’ गैंग के मुँह पर 3...

पद्म पुरस्कारों में 3 नाम ऐसे हैं, जो ध्यान खींच रहे- मौलाना वहीदुद्दीन खान (पद्म विभूषण), तरुण गोगोई (पद्म भूषण) और कल्बे सादिक (पद्म भूषण)।

रस्सी से लाल किला का गेट तोड़ा, जहाँ से देश के PM देते हैं भाषण, वहाँ से लहरा रहे पीला-काला झंडा

किसान लाल किले तक घुस चुके हैं और उन्होंने वहाँ झंडा भी फहरा दिया है। प्रदर्शनकारी किसानों ने लाल किले के फाटक पर रस्सियाँ बाँधकर इसे गिराने की कोशिश भी कीं।
- विज्ञापन -

 

राजस्थान में महादेव मंदिर के 75 वर्षीय सेवादार की हत्या: हाथ-पाँव रस्सी से बँधे, मुँह में ठूँस डाला था कपड़ा

75 वर्षीय वृद्ध सेवादार गिरिराज मेहरा की हत्या कर दी गई। जयपुर के सोडाला इलाके में राकड़ी स्थित मेहरा समाज के राकेश्वर महादेव मंदिर की घटना।

लहराया गया खालिस्तानी झंडा, लगे भारत विरोधी नारे: वॉशिंगटन में किसान समर्थन की आड़ में खालिस्तान की माँग

वॉशिंगटन में खालिस्तानी समर्थकों ने कहा कि वह अब तक 26 जनवरी को काला दिन मना रहे थे, लेकिन इस बार एकजुटता में खड़े हैं।

ट्रैक्टर पलटने के बाद जिंदा था ‘किसान’, प्रदर्शनकारी अस्पताल नहीं ले गए… न पुलिस को ले जाने दिया: ‘Times Now’ का खुलासा

उक्त 'किसान' ट्रैक्टर से स्टंट मारते हुए पुलिस बैरिकेडिंग तोड़ रहा था, लेकिन अपनी ही ट्रैक्टर पलटने के कारण खुद उसके नीचे आ गया और मौत हो गई।

11.5% की आर्थिक वृद्धि दर, 2021 में भारत के लिए IMF का अनुमान: एकमात्र बड़ा देश, जो बढ़ेगा दहाई अंकों के साथ

IMF ने भारत की अर्थव्यवस्था को 2021-22 में 11.5 प्रतिशत तक उछाल देने का अनुमान लगाया। वर्ल्ड इकॉनमिक आउटलुक रिपोर्ट में...

153 पुलिसकर्मी घायल, 7 FIR दर्ज: किसी का सर फटा तो कोई ICU में, राकेश टिकैत ने पुलिस को ही दिया दोष

दिल्ली पुलिस ने 'किसानों' द्वारा हुई हिंसा के मामलों को लेकर 7 FIR दर्ज की है। दिन भर चले हिंसा के इस खेल में 153 पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं।

लालकिला में देर तक सहमें छिपे रहे 250 बच्चे, हिंसा के दौरान 109 पुलिसकर्मी घायल; 55 LNJP अस्पताल में भर्ती

दिल्ली में किसान ट्रैक्टर रैली का सबसे बुरा प्रभाव पुलिसकर्मियों पर पड़ा है। किसानों द्वारा की गई इस हिंसा में 109 पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं, जिनमें से 1 की हालात गंभीर बताई जा रही है।

Video: किसानों के हमले में दीवार से एक-एक कर गिरते रहे पुलिसकर्मी, 109 घायल

वीडियो में देखा जा सकता है कि भीड़ द्वारा किए गए हमले से पुलिसकर्मी एक-एक कर लाल किले की दीवार से नीचे गिरते जा रहे हैं।

बिहारी-गुजराती-तमिल-कश्मीरी किसान हो तो डूब मरो… क्योंकि किसान सिर्फ पंजाबी-खालिस्तानी होते हैं, वही अन्नदाता हैं

वास्तविकता ये है कि आप इतने दिनों से एक ऐसी भीड़ के जमावड़े को किसान का आंदोलन कहते रहे। जिसकी परिभाषा वामपंथी मीडिया गिरोह और विपक्षियों ने गढ़ी और जिसका पूरा ड्राफ्ट एक साल पहले हुए शाहीन बाग मॉडल के आधार पर तैयार हुआ।

जर्मनी, आयरलैंड, स्पेन आदि में भी हो चुकी हैं ट्रैक्टर रैलियाँ, लेकिन दिल्ली वाला दंगा कहीं नहीं हुआ

दिल्ली में जो आज हुआ, स्पेन, आयरलैंड, और जर्मनी के किसानों ने वो नहीं किया, हालाँकि वो भी अन्नदाता ही थे और वो भी सरकार के खिलाफ अपनी माँग रख रहे थे।

किसानों के आंदोलन में खालिस्तानी कड़े और नारे का क्या काम?

सवाल उठता है कि जो लोग इसे पवित्र निशान साहिब बोल रहे हैं, वो ये बताएँ कि ये नारा और कड़ा किसका है? यह भी बताएँ कि एक किसान आंदोलन में मजहबी झंडा कहाँ से आया? उसे कैसे डिफेंड किया जाए कि तिरंगा फेंक कर मजहबी झंडा लगा दिया गया?

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
386,000SubscribersSubscribe