Tuesday, July 5, 2022
Homeरिपोर्टमीडियापत्रकार प्रदीप भंडारी को मुंबई पुलिस ने घेर लिया, उनके साथ मारपीट की और...

पत्रकार प्रदीप भंडारी को मुंबई पुलिस ने घेर लिया, उनके साथ मारपीट की और अवैध रूप से हिरासत में लिया: रिपब्लिक TV

प्रदीप भंडारी को वकील से मिलने से रोका गया। इतना ही नहीं, उनका फोन भी छीन लिया गया है। रिपब्लिक टीवी का कहना है कि 10-12 पुलिस ने प्रदीप को घेर लिया था और खार वेस्ट थाने में प्रदीप के साथ मारपीट भी की गई।

मुंबई पुलिस की बौखलाहट फिर सामने आई है। मुंबई पुलिस ने शनिवार (अक्टूबर 17, 2020) को रिपब्लिक टीवी के कंसलिटिंग एडिटर प्रदीप भंडारी को गैर कानूनी तरीके से हिरासत में लिया। रिपब्लिक टीवी का कहना है कि पुलिस ने कानून का पूरी तरह से उल्लंघन किया। प्रदीप भंडारी के पास अग्रिम जमानत था, इसके बावजूद उन्हें हिरासत में लिया गया। खबर है कि उनके जल्द ही गिरफ्तार होने की संभावना है।

मीडिया रिपोर्ट में बाताया जा रहा है कि प्रदीप भंडारी को वकील से मिलने से रोका गया। इतना ही नहीं, उनका फोन भी छीन लिया गया है। रिपब्लिक टीवी का कहना है कि 10-12 पुलिस ने प्रदीप को घेर लिया था और खार वेस्ट थाने में प्रदीप के साथ मारपीट भी की गई।

हाल ही में भंडारी के खिलाफ़ पुलिस थाने में आईपीसी की धारा 188 (लोक सेवक द्वारा विधिवत आदेश देने की अवज्ञा), 353 (लोक सेवक को अपने कर्तव्य के निर्वहन से रोकने के लिए हमला या आपराधिक बल का प्रयोग) और बॉम्बे पुलिस कानून की धारा 37 (1), 135 के तहत मामला दर्ज हुआ था। इसी के बाद उन्हें पूछताछ के लिए थाने में हाजिर होने को कहा गया था और प्रदीप भंडारी ने केस दर्ज होने के बाद मुंबई पुलिस कमिश्नर को निशाने पर लिया था।  

इससे पहले मुंबई पुलिस ने एक बार फिर प्रदीप भंडारी को समन जारी कर किया था। उन्हें 22 अक्टूबर को 4 बजे तक कोर्ट में पेश होने को कहा गया था। प्रदीप भंडारी ने पुलिस कमिश्नर को उनके राजनीतिक आकाओं के इशारे पर काम करने और पुलिस की वर्दी का सम्मान नहीं करने के लिए फटकार लगाई थी और उनका इस्तीफा माँगा था। उन्होंने यह भी कहा कि मुंबई पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने के प्रयास में है, इसके लिए उनके खिलाफ गैर-जमानती धाराओं के तहत आरोप दायर करने की योजना बना रही है।

गौरतलब है कि 15 अक्टूबर को सुशांत सिंह मामले में रिपोर्टिंग करने वाले रिपब्लिक टीवी पत्रकार प्रदीप भंडारी की अग्रिम जमानत याचिका कोर्ट द्वारा स्वीकार की गई थी। इससे पहले उनके ख़िलाफ़ गैर जमानती धाराओं में मुंबई पुलिस ने समन जारी किया था

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हम (मुस्लिम) 75%, नियम हो हमारे’: क्या भारत में ही है गढ़वा? रिपोर्ट में दावा- स्कूल की प्रार्थना बदलवाई, बच्चों को हाथ जोड़ने से...

मुस्लिम समुदाय ने प्रिंसिपल को कहा कि क्षेत्र में उनकी आबादी 75% है। इसलिए नियम भी उन्हीं के हिसाब से होंगे। समुदाय के दबाव के चलते स्कूल की प्रार्थना बदल गई है। 

अजमेर दरगाह के खादिम सलमान चिश्ती ने नूपुर शर्मा की हत्या के लिए उकसाया, कहा- जो लाएगा ​उसकी गर्दन, उसे दूँगा अपना मकान

अजमेर दरगाह के खादिम सलमान चिश्ती का वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें वह नूपुर शर्मा की हत्या के लिए उकसाते नजर आ रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
203,565FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe