Monday, August 2, 2021
Homeरिपोर्टमीडियारिपब्लिक टीवी के विरुद्ध मुंबई पुलिस ने रद्द किए सभी 'चैप्टर प्रोसिडिंग', अर्नब गोस्वामी...

रिपब्लिक टीवी के विरुद्ध मुंबई पुलिस ने रद्द किए सभी ‘चैप्टर प्रोसिडिंग’, अर्नब गोस्वामी ने कहा- सत्यमेव जयते

“हमें यह बताते हुए खुशी हो रही है कि रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के प्रमुख संपादक अर्नब गोस्वामी के विरुद्ध मुंबई पुलिस द्वारा शुरू की गईं सभी चैप्टर प्रोसीडिंग्स पूरी तरह से रद्द कर दी गई हैं। यह सत्य की जीत है और उनकी हार है जो भारत के सबसे पसंदीदा न्यूज ब्रांड के विरुद्ध साजिश कर रहे थे।"

रिपब्लिक टीवी ने सूचना दी है कि मुंबई पुलिस के द्वारा न्यूज एवं मीडिया समूह के विरुद्ध दर्ज की गई सभी ‘चैप्टर प्रोसीडिंग्स’ को रद्द कर दिया गया है। चैप्टर प्रोसीडिंग्स निवारक प्रवृत्ति की होती हैं और पुलिस संदेह के आधार पर किसी व्यक्ति अथवा संस्था के विरुद्ध इनका उपयोग कर सकती है।

रिपब्लिक टीवी ने सोशल मीडिया पर इसकी सूचना देते हुए कहा, “हमें यह बताते हुए खुशी हो रही है कि रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के प्रमुख संपादक अर्नब गोस्वामी के विरुद्ध मुंबई पुलिस द्वारा शुरू की गईं सभी चैप्टर प्रोसीडिंग्स पूरी तरह से रद्द कर दी गई हैं। यह सत्य की जीत है और उनकी हार है जो भारत के सबसे पसंदीदा न्यूज ब्रांड के विरुद्ध साजिश कर रहे थे।”

मुंबई पुलिस द्वारा चैप्टर प्रोसीडिंग्स को रद्द किए जाने पर रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क का बयान

रिपब्लिक ने आगे कहा, “इन चैप्टर प्रोसीडिंग्स के साथ रिपब्लिक के खिलाफ किए जा रहे सारे षड्यंत्र भी खत्म हो गए। सत्य को कहने का साहस रखने वाले और राष्ट्रवादी मीडिया नेटवर्क के लिए यह एक बड़ी जीत है। साथ ही प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का ऑर्डर भी यही कहता है कि हमारे खिलाफ लगाए गए आरोप मनगढ़ंत, गलत और निराधार हैं।”

रिपब्लिक ने अपने स्टेटमेंट में कहा कि जो वास्तविक अपराधी थे, सजिशकर्ता थे, आज वो हार चुके हैं और रिपब्लिक की यह जीत सत्य कहने, लोगों के हित को प्राथमिकता देने और राष्ट्र को सर्वोपरि रखने की अर्नब गोस्वामी की विरासत का परिणाम है।

अपने समर्थकों को धन्यवाद देते हुए मीडिया नेटवर्क ने कहा कि उन सभी समर्थकों का हृदय से धन्यवाद जिन्होंने हमेशा साथ रहकर सत्य की लड़ाई लड़ी और यह साबित किया कि सत्य कभी भी पराजित नहीं हो सकता है, चाहे झूठ कितना भी क्यों न चिल्लाए।

मुंबई पुलिस ने कथित मुट्ठीभर साक्ष्यों के बल पर रिपब्लिक टीवी को टीआरपी घोटाले में घसीटने का प्रयास किया। बाद में यह साफ हो गया था कि महा विकास अघाड़ी सरकार की आलोचना, सुशांत सिंह राजपूत के केस और पालघर में साधुओं की मॉब लिन्चिंग पर रिपब्लिक की लगातार रिपोर्टिंग के कारण मुंबई पुलिस ने रिपब्लिक नेटवर्क के विरुद्ध एजेंडा चलाया था।  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe