Saturday, January 16, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया रवीश ‘कौन जात हो’ के कठिन सवाल चार्टर्ड प्लेन और 100 रुपए के दलित...

रवीश ‘कौन जात हो’ के कठिन सवाल चार्टर्ड प्लेन और 100 रुपए के दलित पानी बोतल में खो गए

रवीश ने अखिलेश से यह नहीं पूछा कि वो जिस जहाज से उड़ते हैं, उसका पैसा कहाँ से आता है। रवीश ने ये सब नहीं पूछा क्योंकि रवीश को ये चार्टर्ड प्लेन वाली हवाई यात्रा याद रहेगी। वो भी अब कह सकेंगे कि वो भी ‘हवाई जर्नलिज़्म’ कर चुके हैं।

मेरी दिली तमन्ना है कि भाजपा हार जाए, नरेंद्र मोदी पदच्युत हो जाएँ और वो रवीश कुमार को साक्षात्कार दे दें।

दरअसल मुझसे रवीश कुमार की तड़प देखी नहीं जाती। मोदी और भाजपा द्वारा नज़रअंदाज करने पर रवीश आजकल न केवल उल जलूल लिख रहे हैं बल्कि अपने ही बनाए उसूलों की धज्जियाँ उड़ा रहे हैं।

मुझे याद है ‘साहित्य आज-तक’ के एक कार्यक्रम में रवीश कुमार ने कहा था – “ये जो नेता हेलिकॉप्टर पर चढ़कर चुनाव में घूमता है, कहाँ से? आप कहते क्यों नहीं कि ये सब चोर हैं। चोर हैं ये सब। बिना चोरी संभव है क्या ये सब?” – तालियों से गूँज उठा था वो हॉल रवीश के इस वक्तव्य से। रवीश आम दिलों की धड़कन बन कर बोलने की कोशिश करते हैं। वो मँहगे कपड़ों, ऐशो आराम के सामान और अन्य फालतू खर्चों पर गाहे-बगाहे सवाल उठाते रहे हैं।

ऐसे में 7 मई को आलीशान जहाज़ में अखिलेश यादव का साक्षात्कार लेते रवीश ख़टके। तकरीबन 100 रुपए की पानी की बोतल लिए मायावती के साथ बैठे थे रवीश। अपने प्राइम टाइम के लंबे उद्घोषणाओं और स्वनिर्धारित वसूलों की खातिर क्या अखिलेश जी का साक्षात्कार उन्हें जमीन पर उतार कर नहीं लेना चाहिए था? ज़मीन के आदमी को जमीन पर ला कर बात करने का अलग आनंद भी आता और रवीश जी अपने कहे पर टीके भी रहते। 10 रुपए की बिसल्लरी (नकली बिसलेरी) न सही 15 रुपए का एक्वाफीना ही पी लेते… इतनी महँगी पानी की बोतल पीने वाली दलित समाज की रहनुमा मायावती से वो सवाल क्यों नहीं पूछ पाए। क्या ये सारे धारदार सवाल उन्होंने सिर्फ नरेन्द्र मोदी के लिए बचा रखे हैं? या फ़िर हाथी के दाँत दिखाने के और खाने के और वाली बात सिद्ध कर रहे वो?

कठिन सवालों में यह सवाल कहाँ था कि मायावती सुप्रीम कोर्ट को जो जवाब दे रही है 6000 करोड़ रुपयों की मूर्तियों पर वो कितना जायज है। यह सवाल कहीं नहीं दिखा कि स्टेज पर अखिलेश ने जो योगी का डुप्लीकेट खड़ा करके उपहास किया, उसमें राजनीति कितनी थी? यह सवाल किसी ने नहीं सुना कि मायावती गेस्ट हाउस कांड को भुला कर मुलायम के साथ स्टेज पर खड़े होने में असहज महसूस करती हैं या नहीं। कठिन सवालों में यह सवाल भी गायब था कि पिछले साल के दलित आंदोलन को अफ़वाहों के दम पर हवा दी गई, जिसमें ग़रीबों के दुकानों का नुकसान तो हुआ ही, करीब 12 लोगों की हत्या भी हुई। रवीश ने अखिलेश से यह नहीं पूछा कि वो जिस जहाज से उड़ते हैं, उसका पैसा कहाँ से आता है। रवीश ने ये सब नहीं पूछा क्योंकि रवीश को ये चार्टर्ड प्लेन वाली हवाई यात्रा याद रहेगी। वो भी अब कह सकेंगे कि वो भी ‘हवाई जर्नलिज़्म’ कर चुके हैं।

इस घटना से थोड़ा पिछे जाते हैं। बेगूसराय और कन्हैया सबको याद है। रवीश कुमार को संपूर्ण भारत में कन्हैया सबसे मजबूत उम्मीदवार लगा प्रधानमंत्री व भाजपा के खिलाफ। पहुँच गए लाव लश्कर समेत उनका महिमामंडन करने… एक और केजरीवाल को जन्म देने की कोशिश करने। स्टूडियो में आदर्शवादी बात करने वाले रवीश ने यहाँ भी वो सवाल नहीं पूछे जो शायद मोदी मात्र के लिए बचा कर रखा है उन्होंने। उन्होंने कन्हैया को कितने साल में डिग्री मिली नहीं पूछा… और ना ही ये कि कन्हैया बार-बार चंद्रशेखर के हत्यारे दल के नेता का पैर पकड़ने क्यों जाते हैं?

इसी बेगूसराय से जुड़ी एक और बात को समझने के लिए आइए थोड़ा और पीछे चलते हैं। जेएनयू में चुनाव का दौर था वो। एक ग़रीब किंतु अच्छा पढ़ा-लिखा वक़्ता लड़का अध्यक्ष पद के लिए उम्मीदवार था। उसकी प्रतिभा के कायल हो रहे थे जेएनयू से जुड़े नए-पुराने लोग भी। रवीश कुमार ने भी इस लड़के की तारीफ की और प्राइम टाइम में कई फुटेज भी दिखाए। हालाँकि ये लड़का हार गया किंतु रवीश समेत कई लोग प्रभावित थे इससे। विडम्बना देखिए कि यही लड़का जयंत जिग्याशु राजद के उम्मीदवार के लिए इसी बेगूसराय में प्रचार कर रहा था किंतु रवीश जी एन वक़्त पर उसकी प्रतिभा को भुला गए। एक प्रतिभावान और संभावना से भरे लड़के से मिलकर शायद वो खुद से कोई मुश्क़िल सवाल नहीं पूछना चाहते थे।

हमने-आपने सबने देखा है रवीश रुआंसे मुँह पर कटीली मुस्कान लिए कैमरे के सामने कहते हैं – क्या आडवाणी अकेले में रोते होंगे? यही रवीश कभी राहुल गाँधी से यह नहीं पूछ पाए कि पार्टी में आपसे अधिक अनुभवी और विद्वान जयराम रमेश, मणिशंकर अय्यर, शशि थरूर, पवन बंसल आदि-आदि क्यों उपेक्षित हैं? देश के लोकतंत्र की चिंता से पूर्व परिवार की चाटुकारिता से परहेज करते हुए क्यों राहुल गाँधी अपने दल में लोकतंत्र नहीं ला पाते?

कुल मिलाकर रवीश वास्तविकता में मुश्क़िल सवाल न तो सामने वाले से पूछते हैं और न ही खुद से… उन्हें बड़े जहाज़, मंच पर जाकर फोटोबाजी और महँगे प्रसाधन से भी परहेज नहीं। ऐसे में मोदी जी को बिना झिझक… प्रधानमंत्री रहते रवीश के सामने बैठ कर कहना चाहिए – ‘पांडे जी तुम हमसे कम नहीं हो स्यापा करने में बे… हें हें हें हें’!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Praveen Kumarhttps://praveenjhaacharya.blogspot.com
बेलौन का मैथिल

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पालघर नागा साधु मॉब लिंचिंग केस में कोर्ट ने गिरफ्तार 89 आरोपितों को दी जमानत: बताई ये वजह

पालघर भीड़ हिंसा (मॉब लिंचिंग) मामले में गिरफ्तार किए गए सभी 89 लोगों पर जमानत के लिए 15 हजार रुपए की राशि जमा कराने का निर्देश दिया है। अदालत ने इन्हें इस आधार पर जमानत दी कि ये लोग केवल घटनास्थल पर मौजूद थे।

घोटालेबाज, खालिस्तान समर्थक, चीनी कंपनियों का पैरोकार: नवदीप बैंस के चेहरे कई

कनाडा के भारतीय मूल के हाई-प्रोफाइल सिख मंत्री नवदीप बैंस ने अपने पद से इस्तीफा देते हुए राजनीति छोड़ दी है।

हिन्दू देवी-देवताओं के सिर पर लात मारने वाले पादरी को HDFC ने बताया था हीरो, CID ने की गिरफ़्तारी तो वीडियो हटाया

पादरी प्रवीण चक्रवर्ती ने कहा था कि वो 'पत्थरों के भगवान' को लात से मारेगा और पेड़ों (नीम, पीपल और तुलसी जैसे पवित्र पेड़-पौधे) को भी लात मारेगा।

हार्वर्ड ने लालू यादव की बेटी के झूठ की जब खोली पोल, फुस्स हो गया था मीसा भारती का ‘स्पीकर’ वाला दावा

निधि राजदान भले खुद को ‘फिशिंग अटैक’ का शिकार बात रहीं हो, पर कुछ साल पहले लालू यादव की बेटी ने भी हार्वर्ड को लेकर एक 'दावा' किया था।

मुंबई पुलिस पर मुस्लिम बहुल इलाके में भगवान श्रीराम के पोस्टर फाड़ने का आरोप, 3 विहिप नेताओं को गिरफ्तार किया

मुंबई पुलिस से जब इस घटना को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कथित रूप से कहा कि राम मंदिर के पोस्टर्स विवादित थे।

धूर्तता को गलती बता बहलाने की कोशिश कर रहे रवीश कुमार: फेक न्यूज का फैक्टचेक भी नहीं

AltNews ने फैक्टचेक नहीं किया। फेसबुक ने रीच नहीं घटाई। रवीश कुमार अपनी 'गलती स्वीकार' कर 'महान' बन गए।

प्रचलित ख़बरें

मारपीट से रोका तो शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी के नेता रंजीत पासवान को चाकुओं से गोदा, मौत

शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी नेता रंजीत पासवान की चाकू घोंप कर हत्या कर दी, जिसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपित के घर को जला दिया।

दुकान में घुस कर मोहम्मद आदिल, दाउद, मेहरबान अली ने हिंदू महिला को लाठी, बेल्ट, हंटर से पीटा: देखें Video

वीडियो में देख सकते हैं कि आरोपित युवक महिला को घेर कर पहले उसके कपड़े खींचते हैं, उसके साथ लाठी-डंडों, बेल्ट और हंटरों से मारपीट करते है।

अब्बू करते हैं गंदा काम… मना करने पर चुभाते हैं सेफ्टी पिन: बच्चियों ने रो-रोकर माँ को सुनाई आपबीती, शिकायत दर्ज

माँ कहती हैं कि उन्होंने इस संबंध में अपने शौहर से बात की थी लेकिन जवाब में उसने कहा कि अगर ये सब किसी को पता चली तो वह जान से मार देगा।

निधि राजदान की ‘प्रोफेसरी’ से संस्थानों ने भी झाड़ा पल्ला, हार्वर्ड ने कहा- हमारे यहाँ जर्नलिज्म डिपार्टमेंट नहीं

निधि राजदान द्वारा खुद को 'फिशिंग अटैक' का शिकार बताने के बाद हार्वर्ड ने कहा है कि उसके कैम्पस में न तो पत्रकारिता का कोई विभाग और न ही कोई कॉलेज है।

MBBS छात्रा पूजा भारती की हत्या, हाथ-पाँव बाँध फेंका डैम में: झारखंड सरकार के खिलाफ गुस्सा

हजारीबाग मेडिकल कालेज की छात्रा पूजा भारती पूर्वे के हाथ-पैर बाँध कर उसे जिंदा ही डैम में फेंक दिया गया। पूजा की लाश पतरातू डैम से बरामद हुई।

मलेशिया ने कर्ज न चुका पाने पर जब्त किया पाकिस्तान का विमान: यात्री और चालक दल दोनों को बेइज्‍जत करके उतारा

मलेशिया ने पाकिस्तान को उसकी औकात दिखाते हुए PIA (पाकिस्‍तान इंटरनेशनल एयरलाइन्‍स) के एक बोईंग 777 यात्री विमान को जब्त कर लिया है।

जानिए कौन है जो बायडेन की टीम में इस्लामी संगठन से जुड़ी महिला और CIA का वो डायरेक्टर जिसे हिन्दुओं से है परेशानी

जो बायडेन द्वारा चुनी गई समीरा, कश्मीरी अलगाववाद को बढ़ावा देने वाले इस्लामी संगठन स्टैंड विथ कश्मीर (SWK) की कथित तौर पर सदस्य हैं।

पालघर नागा साधु मॉब लिंचिंग केस में कोर्ट ने गिरफ्तार 89 आरोपितों को दी जमानत: बताई ये वजह

पालघर भीड़ हिंसा (मॉब लिंचिंग) मामले में गिरफ्तार किए गए सभी 89 लोगों पर जमानत के लिए 15 हजार रुपए की राशि जमा कराने का निर्देश दिया है। अदालत ने इन्हें इस आधार पर जमानत दी कि ये लोग केवल घटनास्थल पर मौजूद थे।

तब अलर्ट हो जाती निधि राजदान तो आज हार्वर्ड पर नहीं पड़ता रोना

खुद को ‘फिशिंग अटैक’ की पीड़ित बता रहीं निधि राजदान ने 2018 में भी ऑनलाइन फर्जीवाड़े को लेकर ट्वीट किया था।

‘ICU में भर्ती मेरे पिता को बचा लीजिए, मुंबई पुलिस ने दी घोर प्रताड़ना’: पूर्व BARC सीईओ की बेटी ने PM से लगाई गुहार

"हम सब जब अस्पताल पहुँचे तो वो आधी बेहोशी की ही अवस्था में थे। मेरे पिता कुछ कहना चाहते थे और बातें करना चाहते थे, लेकिन वो कुछ बोल नहीं पा रहे थे।"

घोटालेबाज, खालिस्तान समर्थक, चीनी कंपनियों का पैरोकार: नवदीप बैंस के चेहरे कई

कनाडा के भारतीय मूल के हाई-प्रोफाइल सिख मंत्री नवदीप बैंस ने अपने पद से इस्तीफा देते हुए राजनीति छोड़ दी है।

हिन्दू देवी-देवताओं के सिर पर लात मारने वाले पादरी को HDFC ने बताया था हीरो, CID ने की गिरफ़्तारी तो वीडियो हटाया

पादरी प्रवीण चक्रवर्ती ने कहा था कि वो 'पत्थरों के भगवान' को लात से मारेगा और पेड़ों (नीम, पीपल और तुलसी जैसे पवित्र पेड़-पौधे) को भी लात मारेगा।

मंच पर माँ सरस्वती की तस्वीर से भड़का मराठी कवि, हटाई नहीं तो ठुकराया अवॉर्ड

मराठी कवि यशवंत मनोहर का कहना था कि उन्होंने सम्मान समारोह के मंच पर रखी गई सरस्वती की तस्वीर पर आपत्ति जताई थी। फिर भी तस्वीर नहीं हटाई गई थी इसलिए उन्होंने पुरस्कार लेने से मना कर दिया।

हार्वर्ड ने लालू यादव की बेटी के झूठ की जब खोली पोल, फुस्स हो गया था मीसा भारती का ‘स्पीकर’ वाला दावा

निधि राजदान भले खुद को ‘फिशिंग अटैक’ का शिकार बात रहीं हो, पर कुछ साल पहले लालू यादव की बेटी ने भी हार्वर्ड को लेकर एक 'दावा' किया था।

मुंबई पुलिस पर मुस्लिम बहुल इलाके में भगवान श्रीराम के पोस्टर फाड़ने का आरोप, 3 विहिप नेताओं को गिरफ्तार किया

मुंबई पुलिस से जब इस घटना को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कथित रूप से कहा कि राम मंदिर के पोस्टर्स विवादित थे।

धूर्तता को गलती बता बहलाने की कोशिश कर रहे रवीश कुमार: फेक न्यूज का फैक्टचेक भी नहीं

AltNews ने फैक्टचेक नहीं किया। फेसबुक ने रीच नहीं घटाई। रवीश कुमार अपनी 'गलती स्वीकार' कर 'महान' बन गए।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
380,000SubscribersSubscribe