Saturday, June 22, 2024
Homeरिपोर्टमीडिया'उद्धव ठाकरे, घनश्याम के चेहरे की मुस्कान देखिए और सबक सीखिए': अर्णब ने कहा-...

‘उद्धव ठाकरे, घनश्याम के चेहरे की मुस्कान देखिए और सबक सीखिए’: अर्णब ने कहा- रिपब्लिक निडर, हम जीतेंगे

“आप एक बार फिर विफल रहे हैं। आप पूरे देश के सामने सार्वजनिक रूप से कितनी बार असफल होंगे क्योंकि आप झूठ के साथ हैं? उद्धव ठाकरे, घनश्याम के चेहरे पर मुस्कान देखिए और सबक सीखिए। ‘सत्यमेव जयते’ की दहाड़ को देखिए।”

फेक टीआरपी मामले में मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के असिस्टेंट वाइस प्रेसिडेंट (AVP) घनश्याम सिंह को शनिवार (दिसंबर 5, 2020) को मुंबई की अदालत ने जमानत दे दी। जेल से रिहा होने के बाद घनश्याम सिंह ने दावा किया कि हिरासत में रहते हुए मुंबई पुलिस के अधिकारियों ने उनकी पिटाई की

पुलिस ने घनश्याम सिंह को उनके आवास से गिरफ्तार किया था और इसके बाद उन्हें 26 दिन के लिए तलोजा जेल में रखा गया था। यह पूछे जाने पर कि क्या पुलिस ने उन पर दबाव बनाने की कोशिश की या हिरासत में रहते हुए परेशान किया, सिंह ने खुलासा किया कि पुलिस ने उन्हें यह स्वीकार करने के लिए दबाव डालने की कोशिश की कि उन्होंने (रिपब्लिक टीवी) ‘कुछ किया है’। फ़र्ज़ी टीआरपी मामले को रिपब्लिक टीवी और इसके एडिटर-इन-चीफ़ अर्णब गोस्वामी के विरुद्ध षड्यंत्र और दुष्प्रचार के ज़रिए में तब्दील कर दिया गया था।

घनश्याम सिंह को अदालत में पेश किए जाने के पहले उनके साथ आतंकवादियों जैसा बर्ताव किया गया, चेहरा काले कपड़े से ढका गया था और उन्हें सार्वजनिक रूप से अपमानित किया गया था। अपनी रिहाई के बाद सिंह ने कहा कि जब वह पुलिस हिरासत में थे, तो दूसरे दिन (मुंबई पुलिस) ने उन्हें पीटा। पुलिस “जानना” चाहती थी कि रिपब्लिक टीवी ने कैसे “टीआरपी” में हेरफेर की है। उन्होंने कहा, “मैं इनकार कर रहा था क्योंकि हमने कुछ नहीं किया है। मैंने बताया कि हमने कुछ नहीं किया है और मैंने भी कुछ नहीं किया है। उन्होंने काफी कोशिश की और फिर मुझे पीटा गया।”

सिंह की रिहाई पर बोलते हुए, अर्णब ने कहा कि उन्हें पुलिस हिरासत से बाहर देख कर काफी खुशी और गर्व होता है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को एक संदेश देते हुए, अर्णब ने कहा, “आप एक बार फिर विफल रहे हैं। आप पूरे देश के सामने सार्वजनिक रूप से कितनी बार असफल होंगे क्योंकि आप झूठ के साथ हैं? उद्धव ठाकरे, घनश्याम के चेहरे पर मुस्कान देखिए और सबक सीखिए। ‘सत्यमेव जयते’ की दहाड़ को देखिए।”

अर्णब ने आगे कहा कि जब तक ठाकरे झूठ के साथ रहे, तब तक उनका असफल होना तय है। उन्होंने कहा, “घनश्याम रिपब्लिक के लिए खड़ा है। वह 26 दिन के बाद बाहर आया और कहा कि अब वह और मजबूत हो गया है।” उन्होंने आगे कहा कि ठाकरे सरकार द्वारा रिपब्लिक के साथ ज़बरदस्ती करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले सभी अकल्पनीय तरीकों के बावजूद अब उनका झुकना तय है।

अर्णब ने कहा, “रिपब्लिक निडर है। महाराष्ट्र सरकार और मुंबई पुलिस के लोगों से मैं नज़रें मिला कर कहता हूँ कि हम सौदों में कटौती नहीं करते हैं। हम व्यापार बंद नहीं करते हैं। हम लड़ते हैं और हम जीतते हैं। और हम जीत रहे हैं।”

फेक टीआरपी स्कैम

गौरतलब है कि 8 अक्टूबर को आयोजित एक प्रेस वार्ता में मुंबई पुलिस कमिश्नर ने रिपब्लिक टीवी और अर्णब गोस्वामी पर कई गम्भीर आरोप लगाए थे। उन्होंने दावा किया था कि चैनल ने टीआरपी से जुड़ी जानकारी में बदलाव करने के लिए आम लोगों को पैसे दिए थे और उनसे कहा गया था कि वह उनका चैनल चलाकर अपना टीवी ऑन रखें।

हालाँकि, उसी दिन देर शाम तक रिपब्लिक टीवी ने सबूतों के साथ अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को खारिज करते हुए बताया कि असली रिपोर्ट में उनके चैनल का नाम कहीं भी नहीं है, बल्कि उन पर सवाल उठाने वाले इंडिया टुडे का नाम ओरिजनल एफआईआर में है। इसके बाद इंडिया टुडे और मुंबई पुलिस की मंशा पर सवाल खड़े हो गए। बाद में मुंबई पुलिस कमिश्नर को मानना भी पड़ा था कि एफआईआर में इंडिया टुडे का नाम है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, 11वीं सदी का शिलालेख है साक्ष्य!!

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, बख्तियार खिलजी ने नहीं। ब्राह्मण+बुर्के वाली के संभोग को खोद निकाला है इस इतिहासकार ने।

10 साल जेल, ₹1 करोड़ जुर्माना, संपत्ति भी जब्त… पेपर लीक के खिलाफ आ गया मोदी सरकार का सख्त कानून, NEET-NET परीक्षाओं में गड़बड़ी...

परीक्षा आयोजित करने में जो खर्च आता है, उसकी वसूली भी पेपर लीक गिरोह से ही की जाएगी। केंद्र सरकार किसी केंद्रीय जाँच एजेंसी को भी ऐसी स्थिति में जाँच सौंप सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -