Sunday, September 19, 2021
Homeरिपोर्टमीडिया'मेरे साथ 9 पुलिसवालों ने मारपीट की, मुझे धक्का दिया': अर्णब ने दिखाए हाथ...

‘मेरे साथ 9 पुलिसवालों ने मारपीट की, मुझे धक्का दिया’: अर्णब ने दिखाए हाथ पर चोट के निशान, कल होगी सुनवाई

पुलिस द्वारा अर्णब के साथ मारपीट करने और उनके शरीर पर चोट लगने के बाद, अलीबाग अदालत ने उनके मेडिकल चेकअप का आदेश दिया था। ये पूरी घटना कैमरे पर कैद हो गई जब पुलिस अर्नब को उनके घर से घसीटकर ले जा रही थी।

मुंबई पुलिस ने आज सुबह रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्णब गोस्वामी को उनके घर से गिरफ्तार कर लिया। कथित तौर पर इस दौरान पुलिस ने उनके और उनके नाबालिग बेटे के साथ हाथापाई की और परिजनों से बदतमीजी भी की। वहीं, अब अर्णब ने वीडियो संदेश जारी कर इस बात की पुष्टि की है कि मुंबई पुलिस ने उनके साथ मारपीट की।

रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ अर्णब ने अपने वीडियो में कहा, उनके साथ प्रदीप पाटिल समेत 8 पुलिसकर्मियों ने बदसलूकी की है और मारपीट की है। उन्हें धक्का दिया और गले से पकड़ा। उन्होंने कहा, पुलिस द्वारा जबरन मुझे घर से उठाकर लाया गया है। यहाँ तक कि मेरे पैरों में जूते भी नहीं थे।

अर्णब ने हाथ में जख्म भी दिखाया और कहा कि, मैंने डॉक्टरों को अपनी चोट दिखाई, जो कि उनके अनुसार मुंबई पुलिस द्वारा उनके साथ की गई मारपीट में उन्हें लगी है। इस दौरान आप देख सकते है कि वीडियो में पुलिस उन्हें ले जाती हुई दिख रही और वो पुलिस से लगातार धक्का न देने की बात भी कह रहे हैं।

बॉम्बे हाई कोर्ट कल, बृहस्पतिवार को दोपहर 3 बजे अर्णब गोस्वामी की अवैध गिरफ्तारी की याचिका पर सुनवाई करेगी। पुलिस द्वारा अर्णब के साथ मारपीट करने और उनके शरीर पर चोट लगने के बाद, अलीबाग अदालत ने उनके मेडिकल चेकअप का आदेश दिया था। ये पूरी घटना कैमरे पर कैद हो गई जब पुलिस अर्नब को उनके घर से घसीटकर ले जा रही थी।

अर्णब गोस्वामी की गिरफ्तारी पर तमाम लोग अपनी तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे हैं। एक तरफ जहाँ दिल्ली प्रेस क्लब के बाहर पत्रकार प्रदर्शन करते हुए दिखाई दी, तो वहीं, बीजेपी के बड़े नेता कॉन्ग्रेस और उद्धव की सरकार को घेरते हुए नजर आ रहे।

इसी कड़ी में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस मामले पर ‘लेफ्ट-लिबरल’ लोगों की चुप्पी पर सवाल उठाया। उद्धव सरकार की आलोचना करते और कॉन्ग्रेस को घेरते हुए उन्होंने पूछा,”महाराष्ट्र सरकार आपातकाल को वापस लाने की कोशिश कर रही है”, उन्होंने कहा कि “विदेश में कई मीडिया आउटलेट्स ने राज्य सरकार के हमले को नजरअंदाज कर दिया है।

उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में काफी समय से अपशब्द कहे जाते रहे हैं लेकिन बीजेपी ने दूर-दूर तक भी वो नहीं किया जो कॉन्ग्रेस ने किया है।

उन्होंने कहा, “नापसंद होने पर भी एक स्व-निर्मित पत्रकार का लगातार उत्पीड़न अस्वीकार्य है।” उनके मुताबिक, “अर्णब को गिरफ्तार करने के लिए सशस्त्र पुलिस भेजने से महाराष्ट्र सरकार की असुरक्षा दिख गई।” कॉन्ग्रेस पर कटाक्ष करते हुए कि उन्होंने पूछा कि क्या सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी ने इस कार्रवाई को मंजूरी दी है।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने ट्वीट करते हुए लिखा है, “महाराष्ट्र सरकार ने रिपब्लिक के अर्नब गोस्वामी को गिरफ्तार कर मीडिया की आवाज़ को दबाने की कोशिश की है, जिसका मैं विरोध करता हूँ। महाराष्ट्र सरकार ने सत्ता का दुरुपयोग कर इमरजेंसी जैसे हालात बना दिए हैं, जनता इन्हें इसके लिए कभी माफ़ नहीं करेगी।”

बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा ने कहा, “सत्य की बात जो भी करेगा हम उसके साथ हैं। अर्णब के साथ गलत हो रहा है। सच के आवाज से उद्धव सरकार डर गई है। ये लोकतंत्र है, लोग कहते हैं BJP लोकतंत्र की हत्या करती है लेकिन BJP हमेशा लोकतंत्र की रक्षा करती है।”

गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा, देश के खिलाफ षड्यंत्र करने वाले की सच्चाई सामने लाने वाले अर्णब की गिरफ्तारी गलत है। महाराष्ट्र सरकार से उन्हें तुरंत छोड़ने की माँग करता हूँ।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पंजाब के बाद राजस्थान में फँसी कॉन्ग्रेस: सचिन पायलट दिल्ली में, CM अशोक गहलोत के OSD का इस्तीफा

इस्तीफे की वजह लोकेश शर्मा द्वारा किया गया एक ट्वीट बताया जा रहा है जिसके बाद कयासों का नया दौर शुरू हो गया था और उनके ट्वीट को पंजाब के घटनाक्रम के साथ भी जोड़कर देखा जाने लगा था।

‘आई एम सॉरी अमरिंदर’: इस्तीफे से पहले सोनिया गाँधी ने कैप्टेन से किया किनारा, जानिए क्या हुई फोन पर आखिरी बातचीत

"बिना मुझसे पूछे विधायक दल की मीटिंग बुला ली गई, जिसके बाद सुबह सवा दस के करीब मैंने कॉन्ग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गाँधी को फोन किया था और मैंने उन्हें कहा कि..."

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,150FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe