Thursday, March 4, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया 10 साल पहले जो अरब स्प्रिंग के लिए कहा, वही आज भारत के लिए...

10 साल पहले जो अरब स्प्रिंग के लिए कहा, वही आज भारत के लिए दोहरा रहा ट्विटर

मुद्दा अरब स्प्रिंग नहीं है, बल्कि वो सोच है जो भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में संवैधानिक तरीके से बहुमत पाने वाली भाजपा सरकार को गिराने में लगी है।

किसान आंदोलन के मद्देनजर सोशल मीडिया पर लोगों को भड़काने वाले तमाम पाकिस्तानी अकाउंट लंबे समय से सुरक्षा एजेंसी के रडार पर थे। इनकी गतिविधियों पर गौर करते हुए इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिक मंत्रालय ने ट्विटर से ऐसे 1178 अकाउंट को ब्लॉक या रिमूव करने को कहा था, जिसे सोमवार को ट्विटर ने मानने से इनकार कर दिया। ट्विटर को इन अकाउंट्स की सूची 4 फरवरी को दी गई थी।

आदेश न मानने के लिए ट्विटर ने सोमवार (8 फरवरी 2021) को बयान जारी किया। बयान में समझाने की कोशिश की कि उसने ऐसा क्यों किया। हालाँकि, इस बयान के एक वाक्य “the tweets must continue to flow” ने विवाद और बढ़ा दिया। ट्विटर के पूर्व कर्मचारियों ने इसे देखा और फौरन इसके तार 10 साल पहले हुए ‘अरब स्प्रिंग प्रोटेस्ट से जोड़ लिए गए। जहाँ ट्विटर ने यही शब्द इस्तेमाल किए थे, लेकिन बिलकुल अलग संदर्भ में।

ये ट्विटर का हालिया बयान है: 

Twitter fans an insurrection in India, uses the same phrase it used 10 years ago during the Arab Spring
ट्विटर का बयान

जैसा कि आपको बताया कि बिलकुल समान शब्द 10 वर्ष पहले ट्विटर द्वारा इस्तेमाल किया गया था। तब, ट्विटर ने अपने बयान में उद्देश्य समझाते हुए तमाम तरह की बातें कही थीं। उसी बयान में लोगों को एक-दूसरे से कनेक्ट करने की बात, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की बात के साथ लिखा था कि कुछ ट्वीट्स एक दमित देश में सकाराकात्मक बदलाव की सुविधा दे सकते हैं।

Twitter fans an insurrection in India, uses the same phrase it used 10 years ago during the Arab Spring
अरब स्प्रिंग के दौरा ट्विटर का ब्लॉग

विचार करने वाली बात यह है कि उस समय इसी शीर्षक के साथ अरब देशों के लिए ऐसी बात कही गई थी, जो दिखाता था कि प्लेटफॉर्म अरब देशों को रिप्रेस्ड समझता था और उस प्रोटेस्ट को नई क्रांति लाने वाला। लेकिन, आज वही वाक्य भारत के संदर्भ में क्यों इस्तेमाल किया गया। अगर ट्विटर इस किसान आंदोलन को उस अरब स्प्रिंग प्रोटेस्ट से जोड़ता है तो यह हमारे लिए चिंता की बात है।

अरब स्प्रिंग का मकसद केवल और केवल हिंसक व अंहिसक तरीके से सत्ता में बैठी सरकार को उखाड़ फेंकने का था। ट्यूनीशिया को छोड़ दिया जाए तो अन्य अरब देश जैसे सीरिया, लीबिया, यमन आज भी लगातार युद्ध की स्थिति में बने हुए हैं। वहीं मिस्र में  सेना का शासन लागू हो गया है। कुल मिलाकर वो अरब स्प्रिंग जिसे क्रांति की नई लहर समझी गई उसका हासिल सिर्फ़ हिंसा, मौतों के अलावा कुछ और नहीं था।

अब मुद्दा अरब स्प्रिंग नहीं है, बल्कि वो सोच है जो भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में संवैधानिक तरीके से बहुमत पाने वाली भाजपा सरकार को गिराने में लगी है। यहाँ अरब स्प्रिंग जैसे हालात नहीं है। वोट के आधार पर देखें तो हमारे देश के पीएम सबसे जायज ढंग से कुर्सी पर बैठाए गए हैं। इसलिए अगर भारत जैसे देश के सामानांतर ट्विटर उस अरब स्प्रिंग को रखता है तो ये विश्व से सबसे सराहे जाने वाले नेता को बदनाम करने से अधिक और कुछ नहीं है।

हालातों को देखकर ये भी कह सकते हैं कि ट्विटर भारत में विद्रोह की कामना लिए बैठा है। यही कारण है कि वह खालिस्तानी आतंकियों को शह दे रहा है। अपनी पिछली विस्तृत रिपोर्ट्स में हम बता चुके हैं कि कैसे नए कृषि कानूनों पर भ्रम फैला कर देश के लोगों को उकसाया जा रहा है और अब ट्विटर भी अपने एजेंडे को हवा देने के लिए शब्दों और वाक्यों से नीयत साफ कर रहा है।

डोनाल्ड ट्रंप के अकाउंट के साथ हुई हरकत के बाद ये सबको पता चल चुका है कि ट्विटर वास्तविकता में स्वतंत्र विचारों पर बिलकुल विश्वास नहीं करता। कई अवसर आए हैं जब उसने गैर वामपंथी विचार वाले अकाउंट्स को ये कहकर ब्लॉक किया कि वह नियमों का उल्लंघन कर रहे थे। मगर आज जब बात भारत की आई, जहाँ सुरक्षा एजेंसियों की सूचना पर अकाउंट हटाने की माँग की गई, तो वह पीछे हट गया। जबकि, ऐसी ही स्थिति में अमेरिका के तमाम अकाउंट्स पर कार्रवाई हुई थी। इसलिए, यह मानना सिर्फ मूर्खता है कि ट्विटर एक गैर-पक्षपातपूर्ण जगह है।

ऑपइंडिया ने अपने एक लेख में कलर रेवोल्यूशन जैसी रणनीति को लेकर आगाह किया था, जिसे भारत सरकार के विरुद्ध इस्तेमाल किया जा रहा है। ट्विटर का अरब स्प्रिंग से किसान आंदोलन को जोड़ना दिखाता है कि किस तरह वह भारत सरकार को भारत के लोगों और पूरे विश्व में दर्शाना चाहता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसान आंदोलन राजनीतिक, PM मोदी को हराना मकसद: ‘आन्दोलनजीवी’ योगेंद्र यादव ने कबूली सच्चाई

वे केवल बीजेपी को हराना चाहते हैं और उनकी कोई जिम्मेदारी नहीं है कि कौन जीतता है। यहाँ तक कि अब्बास सिद्दीकी के बंगाल जीतने पर भी वे खुश हैं। उनका दावा है कि जब तक मोदी और भाजपा को अनिवार्य रूप से सत्ता से बाहर रखा जाता है। तब तक ही सही मायने में लोकतंत्र है।

70 नहीं, अब 107 एकड़ में होंगे रामलला विराजमान: 7285 वर्ग फुट जमीन और खरीदी गई

अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण अब 70 एकड़ की जगह 107 में एकड़ में किया जाएगा। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने परिसर के आसपास की 7,285 वर्ग फुट ज़मीन खरीदी है।

तिरंगे पर थूका, कहा- पेशाब पीओ; PM मोदी के लिए भी आपत्तिजनक बात: भारतीयों पर हमले के Video आए सामने

तिरंगे के अपमान और भारतीयों को प्रताड़ित करने की इस घटना का मास्टरमाइंड खालिस्तानी MP जगमीत सिंह का साढू जोधवीर धालीवाल है।

अंदर शाहिद-बाहर असलम, दिल्ली दंगों के आरोपित हिंदुओं को तिहाड़ में ही मारने की थी साजिश

हिंदू आरोपितों को मर्करी (पारा) देकर मारने की साजिश रची गई थी। दिल्ली पुलिस ने साजिश का पर्दाफाश करते हुए दो को गिरफ्तार किया है।

100 मदरसे-50 हजार छात्र, गीता-रामायण की करनी ही होगी पढ़ाई: मीडिया के दावों की हकीकत

मीडिया रिपोर्टों में दावा किया जा रहा है कि मदरसों में गीता और रामायण की पढ़ाई को लेकर सरकार दबाव बना रही है।

अनुराग कश्यप, तापसी पन्नू और अन्य के ठिकानों पर लगातार दूसरे दिन रेड, ED का भी कस सकता है शिकंजा

फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप, अभिनेत्री तापसी पन्नु और अन्य के यहाँ लगातार दूसरे दिन 4 मार्च को भी आयकर विभाग की छापेमारी जारी है।

प्रचलित ख़बरें

BBC के शो में PM नरेंद्र मोदी को माँ की गंदी गाली, अश्लील भाषा का प्रयोग: किसान आंदोलन पर हो रहा था ‘Big Debate’

दिल्ली में चल रहे 'किसान आंदोलन' को लेकर 'BBC एशियन नेटवर्क' के शो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी (माँ की गाली) की गई।

पुलिसकर्मियों ने गर्ल्स हॉस्टल की महिलाओं को नंगा कर नचवाया, वीडियो सामने आने पर जाँच शुरू: महाराष्ट्र विधानसभा में गूँजा मामला

लड़कियों ने बताया कि हॉस्टल कर्मचारियों की मदद से पूछताछ के बहाने कुछ पुलिसकर्मियों और बाहरी लोगों को हॉस्टल में एंट्री दे दी जाती थी।

‘प्राइवेट पार्ट में हाथ घुसाया, कहा पेड़ रोप रही हूँ… 6 घंटे तक बंधक बना कर रेप’: LGBTQ एक्टिविस्ट महिला पर आरोप

LGBTQ+ एक्टिविस्ट और TEDx स्पीकर दिव्या दुरेजा पर पर होटल में यौन शोषण के आरोप लगे हैं। एक योग शिक्षिका Elodie ने उनके ऊपर ये आरोप लगाए।

‘हाथ पकड़ 20 मिनट तक आँखें बंद किए बैठे रहे, किस भी किया’: पूर्व DGP के खिलाफ महिला IPS अधिकारी ने दर्ज कराई FIR

कुछ दिनों बाद उनके ससुर के पास फोन कॉल कर दास ने कॉम्प्रोमाइज करने को कहा और दावा किया कि वो पीड़िता के पाँव पर गिरने को भी तैयार हैं।

‘बिके हुए आदमी हो तुम’ – हाथरस मामले में पत्रकार ने पूछे सवाल तो भड़के अखिलेश यादव

हाथरस मामले में सवाल पूछने पर पत्रकार पर अखिलेश यादव ने आपत्तिजनक टिप्पणी की। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद उनकी किरकिरी हुई।

आगरा से बुर्के में अगवा हुई लड़की दिल्ली के पीजी में मिली: खुद ही रचा ड्रामा, जानिए कौन थे साझेदार

आगरा के एक अस्पताल से हुई अपहरण की यह घटना सीसीटीवी फुटेज वायरल होने के बाद सामने आई थी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,284FansLike
81,900FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe