Friday, June 14, 2024
Homeरिपोर्टमीडियालापता AN-32 को क्या उड़नतश्तरी ले गई? ये सवाल हमारा नहीं, Zee Rajasthan का...

लापता AN-32 को क्या उड़नतश्तरी ले गई? ये सवाल हमारा नहीं, Zee Rajasthan का है!

"न आसमान ने विमान को निगला, न ही विमान धरती लील गई। न ही समंदर में समाया विमान। चार दिन से तलाश जारी, फिर भी हाथ खाली।"

भारतीय वायुसेना के चीन सीमा के पास लापता AN-32 विमान और उस पर सवार 13 लोगों की खोज अभी जारी ही है कि Zee Rajasthan ने शनिवार (8 जून) को कार्यक्रम चलाया: ‘क्या एलियन ले गए विमान?’

https://youtu.be/vacHE5I4ZWg

वीडियो की शुरुआत में एक मोंटाज है भारतीय वायु सेना के ऑफिसर्स का, एयर ट्रैफिक कंट्रोल रूम, और भारतीय वायु सेना के लड़ाकू विमानों की उड़ान का। उसके बाद बताया जाता है कि कैसे भारतीय वायु सेना का विमान गायब हो गया है, और उसके बाद और विमानों के चित्र और फुटेज हैं।

वॉइस-ओवर के ज़रिए बताया जाता है कि लापता जहाज का कोई सुराग नहीं मिल रहा है, “न आसमान ने विमान को निगला, न ही विमान धरती लील गई”। वह आगे जोड़ते हैं, “न ही समंदर में समाया विमान”। इसके बाद समुद्र, नौसैनिक जहाजों और पनडुब्बी का मोंटाज होता है।

निराश एंकर की आवाज फिर आती है, “चार दिन से तलाश जारी, फिर भी हाथ खाली”। उसके बाद खुद ही पूछते हैं कि आखिर हवाई जहाज गया कहाँ। एक उड़नतश्तरी (UFO) का ग्राफ़िक आता है, जिसमें से रोशनी नीचे आ रही है, “कहीं एलियन तो नहीं ले गए विमान?” गंभीर आवाज़ में प्रश्न पूछा जाता है। इसके बाद एक स्पेसशिप के स्टेडियम में घुसने का चित्र, और एक विमान (AN-32 नहीं) के बगल में एक एलियन का ग्राफ़िक आता है।

इसके बाद एंकर पूछता है कि कहीं इस विमान का गायब होना किसी पड़ोसी ग्रह की साजिश तो नहीं। इसके बाद कुछ हॉलीवुड फिल्मों के दृश्य होते हैं। “क्या एलियन इंसानों के साथ लुका-छिपी खेल रहे हैं? अगर विमान (AN-32) इसी दुनिया में है तो उसका कोई अता-पता क्यों नहीं?” एंकर पूछता है।

ज़ी न्यूज़ की इस ख़बर में यह सवाल किया जाता है कि कहीं भारत-चीन सीमा पर एलियन तो नहीं रहते? लगातार इस बात पर वह इस पर ज़ोर दिया जाता है कि विमान ‘ऐसे ही’ नहीं गायब हो जाते, इसके पीछे कोई न कोई रहस्य तो है जिसका कोई-न-कोई तो सबूत होगा। क्या सबूत का न होना ही इसका सबूत नहीं कि विमान किसी उड़नतश्तरी के अंदर छिपा है?

इसके बाद, एंकर के माध्यम से यह कहा जाता है कि दुनिया रहस्यों से भरी पड़ी है और कुछ भी मुमकिन हो सकता है। तो विमान की गुमशुदगी में एलियंस का हाथ होने को क्यों नकारना? और अगर एलियंस नहीं ले गए, तो उसे ढूँढ़ा क्यों नहीं जा सका है? कार्यक्रम का समापन इस पर प्रश्न पर होता है कि क्या विमान को एलियंस ले गए?

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -