दुआ करिए जीते जी POK को भी भारत में मिलता देख लें: MOS जितेंद्र सिंह

"हम खुशकिस्मत हैं कि यह (जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा रद्द किया जाना) हमारे जीवनकाल में हुआ। यह हमारी तीन पीढ़ियों के बलिदान के कारण संभव हुआ।"

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने रविवार (अगस्त 18, 2019) को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने पर बयान देते हुए जल्द ही POK के भारत में मिलने की कामना की। उन्होंने कहा कि अब जनता को पाक अधिकृत कश्मीर को भारत में मिलते देखने की दुआ करनी चाहिए।

भाजपा नेता ने पार्टी मुख्यालय में जम्मू-कश्मीर की वर्तमान सामाजिक-राजनीतिक स्थिति पर एक बैठक को संबोधित करते हुए कहा, “हम खुशकिस्मत हैं कि यह (जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा रद्द किया जाना) हमारे जीवनकाल में हुआ।”

उन्होंने इस दौरान मोदी सरकार द्वारा लिए गए फैसले को तीन पीढ़ियों के बलिदान का निष्कर्ष बताया। उन्होंने कहा, “यह हमारी तीन पीढ़ियों के बलिदान के कारण संभव हुआ।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

जम्मू-कश्मीर पर लिए फैसले पर बात करते हुए जितेंद्र सिंह ने कहा कि केंद्र का फैसला संवैधानिक प्रावधानों के तहत ”व्यापक अनुसंधान” के बाद लिया गया है और यह किसी भी कानूनी चुनौती का सामना कर सकता है।

सिंह ने संविधान के अनुच्छेद 370 के निष्प्रभावी किए जाने को लेकर बात रखते हुए कहा, ”रातों रात कुछ भी नहीं होता है।” उनकी मानें तो व्यापक अध्य्यन एवं अनुसंधान के बाद ही इस विषय के जानकारों ने इस विधेयक का मसौदा तैयार किया है।

खबरों के मुताबिक केंद्रीय राज्य मंत्री ने कहा, “इस ऐतिहासिक कदम के बाद, आइए हम पाक अधिकृत कश्मीर(POK) को पाकिस्तान के अवैध कब्जे से मुक्त कराने और इसे संसद में (1994 में) सर्वसम्मति से पारित प्रस्ताव के अनुरूप देश का अभिन्न हिस्सा बनाने की सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ते हैं।”

उन्होंने इसी बीच लोगों से दुआ करने को कहा कि वह प्रार्थना करें कि वे अपने जीवनकाल में पीओके को देश में मिलता हुआ देख पाएँ और साथ ही लोगों को बिना किसी रोक-टोक के मुजफ्फराबाद जाते देख पाएँ।

बता दें इस दौरान केंद्रीय मंत्री ने पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती की गिरफ्तारी पर विपक्ष की आलोचनाओं को भी खारिज किया और कहा, “ये लोग जिम में पसीना बहा रहे हैं, किताबें पढ़ रहे हैं और हॉलीवुड मूवी देख रहे हैं।”

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सुब्रमण्यम स्वामी
सुब्रमण्यम स्वामी ने ईसाइयत, इस्लाम और हिन्दू धर्म के बीच का फर्क बताते हुए कहा, "हिन्दू धर्म जहाँ प्रत्येक मार्ग से ईश्वर की प्राप्ति सम्भव बताता है, वहीं ईसाइयत और इस्लाम दूसरे धर्मों को कमतर और शैतान का रास्ता करार देते हैं।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

154,510फैंसलाइक करें
42,773फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: