Saturday, July 24, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाजम्मू को दहलाने की साजिश नाकाम, 18 किलो विस्फोटक बरामद, आतंकी ढेर

जम्मू को दहलाने की साजिश नाकाम, 18 किलो विस्फोटक बरामद, आतंकी ढेर

ड्राइवर की पहचान हो गई है। सेना ने उन्हें एसओजी पुलिस टीम (SOG Police) को सौंप दिया है। पूरे मामले में जाँच की जा रही है, खुफिया एजेंसियाँ संदिग्ध महिला (पैकेट देने वाली) और उस शख्स की भी तलाश कर रही हैं, जो डिलीवरी लेने आया था।

जम्मू-कश्मीर में जम्मू बस स्टैंड से मंगलवार (सितंबर 10, 2019) को 18 किलो विस्फोटक बरामद कर सुरक्षाबलों ने आतंकियों की एक बड़ी साजिश को नाकाम कर दिया। इन खतरनाक विस्फोटकों के साथ बस ड्राइवर और कंडक्टर को भी हिरासत में ले लिया गया। हालाँकि, अभी इस बात की पुष्टि नहीं हुई कि इन विस्फोटकों का इस्तेमाल कहाँ किया जाना था, लेकिन इस धड़पकड़ को सुरक्षाबलों की एक बड़ी सफलता माना जा रहा है। इसके अलावा बता दें कि मध्य कश्मीर के गांदरबल जिले में भी सुबह सुरक्षाबलों ने आतंकियों के साथ मुठभेड़ में एक आतंकी को मारकर अपने नाम सफलता दर्ज करवाई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आज सुबह खुफिया इनपुट के आधार पर सतर्कता बरतते हुए जम्मू बस स्टैंड के पास केसी रोड पर सुरक्षाबलों ने एक बस रोकी और उससे 18 किलो विस्फोटक सामग्री बरामद की। इस दौरान सुरक्षाबलों ने बस ड्राइवर और कंडक्टर को भी हिरासत में ले लिया। जाँच में इनके पास से एक नक्शा भी बरामद हुआ, जिसमें बस स्टैंड, एयरपोर्ट और बड़ी ब्राह्मणा सैन्य शिविर के बारे में जानकारी दर्ज है।

कहा जा रहा है कि यह विस्फोटक सामग्री जम्मू के आतंकियों को पहुँचाई जानी थी, लेकिन पूरी सच्चाई क्या है? इसका पता किया जा रहा है। शुरुआती जाँच में खुलासा हुआ है कि 200 रुपए देकर एक महिला ने बिलावर से ड्राइवर को ये पैकेट दिया था और कहा था कि इसे बस स्टैंड पर एक व्यक्ति के हवाले करना है। लेकिन सावाधानी बरतते हुए प्राप्त सूचना के आधार पर सुरक्षाबलों ने इसे पकड़कर ये सफलता हासिल कर ली और आतंकी मनसूबों को नाकाम कर दिया।

ड्राइवर की पहचान विक्रम और विजय के रूप में हुई है। सेना ने उन्हें एसओजी पुलिस टीम (SOG Police) को सौंप दिया है। पूरे मामले में जाँच की जा रही है, खुफिया एजेंसियाँ संदिग्ध महिला (पैकेट देने वाली) और उस शख्स की भी तलाश की जा रही है, जो डिलीवरी लेने आया था।

बता दें कि मध्य कश्मीर के गांदरबल जिले में मंगलवार की ही सुबह सुरक्षाबलों को आतंकियों के होने की सूचना मिली। जिसके बाद सेना ने इलाके की घेराबंदी की। खुद को चारों ओर से घिरा देख आतंकियों ने जवानों पर फायरिंग शुरू कर दी। इस दौरान सेना ने आतंकियों से समर्पण करने की अपील की, लेकिन आतंकियों ने उनकी बात को नजरअंदाज कर दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आतंकियों और सुरक्षाबलों में मुठभेड़ अभी भी जारी है। इस मुठभेड़ में सेना ने एक आतंकी को मार गिराया है। सेना की ओर से चलाया ऑपरेशन अभी चालू है। यहाँ भी भारी मात्रा में गोला-बारूद बरामद किया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कीचड़ मलती ‘गोरी’ पत्रकार या श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग… समाज/मदद के नाम पर शुद्ध धंधा है पत्रकारिता

श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग और जलती चिताओं की तस्वीरें छापकर यह बताने की कोशिश की जाती है कि स्थिति काफी खराब है और सरकार नाकाम है।

ओलंपिक में मीराबाई चानू के सिल्वर मेडल जीतने पर एक दुःखी वामपंथी की व्यथा…

भारत की एक महिला भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने टोक्यो ओलंपिक में वेटलिफ्टिंग में सिल्वर मेडल जीता है। ये विज्ञान व लोकतंत्र के खिलाफ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,987FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe