Monday, June 24, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाअलकायदा से जुड़े असम के तीसरे मदरसे पर चला CM सरमा की सरकार का...

अलकायदा से जुड़े असम के तीसरे मदरसे पर चला CM सरमा की सरकार का बुलडोजर, मौलवी सहित 37 हो चुके हैं गिरफ्तार

सोमवार (29 अगस्त 2022) को असम सरकार ने बारपेटा में एक मदरसा को ध्वस्त करने का आदेश दिया था। इस मदरसे से जुड़े AQIS/ABT के दो आतंकियों को भी असम पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

असम की हिमंता बिस्वा सरमा सरकार (Assam Himanata Biswa Sarama Government) उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार का मॉडल (UP Yogi Adityanath Model) पूरी तन्मयता के साथ राज्य में लागू कर रही है। असम सरकार ने आतंकी गतिविधियों से जुड़े अब तीसरे मदरसे (Madarasa) को ध्वस्त कर दिया है।

असम के बोंगाईगाँव जिले के कबाईतारी भाग-IV गाँव में स्थित मरकजुल मा-आरिफ क्वारियाना मदरसे को गिराया जा रहा है। इस मदरसे के इमाम और मौलवी एवं शिक्षक सहित 37 लोगों के आतंकी संगठन ‘अल कायदा भारतीय उपमहाद्वीप (AQIS)’ और ‘अंसारुल्लाह बांग्ला टीम (ABT)’ लोगों को गिरफ्तार किया गया था। यह मदरसा आतंकी गतिविधियों का ठिकाना बना गया था।

एसपी स्वप्निल डेका ने न्यूज एजेेंसी ANI को बताया, “जिला प्रशासन ने एक आदेश में कहा है कि मदरसा संरचनात्मक रूप से कमजोर और मानव निवास के लिए असुरक्षित है। मदरसा की इमारत को APWD के निर्देशों/ IS के मानदंडों के अनुसार नहीं बनाया गया है।”

एसपी डेका ने आगे बताया, “कल गोलपाड़ा जिला पुलिस ने भी मदरसे में AQIS/ABT से जुड़े एक गिरफ्तार व्यक्ति के साथ तलाशी अभियान चलाया था। जिला प्रशासन के निर्देश पर हमने मदरसे को गिराने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।”

सोमवार (29 अगस्त 2022) को असम सरकार ने बारपेटा में एक मदरसा को ध्वस्त करने का आदेश दिया था। इस मदरसे से जुड़े AQIS/ABT के दो आतंकियों को भी असम पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

बारपेटा के एसपी अमिताव सिन्हा ने बताया था, “पुलिस ने बारपेटा में एक मदरसे में बेदखली का अभियान चलाया है, क्योंकि यह अवैध रूप से सरकारी जमीन पर बनाया गया था। पकड़े गए दोनों संदिग्धों का लिंक अलकायदा भारतीय उपमहाद्वीप (AQIS) और अंसारुल्लाह बांग्ला टीम (ABT) से है।”

अतिरिक्त उपायुक्त लचित कुमार दास के मुताबिक, “यह मदरसे देश विरोधी गतिविधियों, जिहादी संगठनों में शामिल है। जाँच में सामने आया आया है कि ये मदरसा सरकारी जमीन पर बनाया गया है और इसका कोई मालिक नहीं नहीं। इसलिए हमने इसे तुरंत ध्वस्त करने का फैसला किया।”

सीएम हिमंत बिस्वा सरमा ने बारपेटा जिले से दो संदिग्ध आतंकियों के गिरफ्तार होने के बाद मीडियाकर्मियों से कहा था, “यह दूसरा मदरसा है, जिसे हमने ध्वस्त किया। क्योंकि वे एक संस्था के रूप में नहीं चल रहे थे, बल्कि एक आतंकवादी केंद्र के रूप में चल रहे थे। मैं सामान्यीकरण नहीं करना चाहता, लेकिन जब कट्टरवाद की शिकायत आती है तो हम जाँच करते हैं और उचित कार्रवाई करते हैं।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों के आंदोलन से तंग आ गए स्थानीय लोग: शंभू बॉर्डर खुलवाने पहुँची भीड़, अब गीदड़-भभकी दे रहे प्रदर्शनकारी

किसान नेताओं ने अंबाला शहर अनाज मंडी में मीडिया बुलाई, जिसमें साफ शब्दों में कहा कि आंदोलन खराब नहीं होना चाहिए। आंदोलन खराब करने वाला खुद भुगतेगा।

‘PM मोदी ने किया जी अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का उद्घाटन, गिर गई उसकी दीवार’: News24 ने फेक न्यूज़ परोस कर डिलीट की ट्वीट,...

अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन से जुड़े जिस दीवार के दिसंबर 2023 में बने होने का दावा किया जा रहा है, वो दावा पूरी तरह से गलत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -