Monday, July 15, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाजिन आतंकियों के लिए जेल को स्पा बना डाला, उनसे जुड़े कोयम्बटूर कार ब्लास्ट...

जिन आतंकियों के लिए जेल को स्पा बना डाला, उनसे जुड़े कोयम्बटूर कार ब्लास्ट के तार: मुबीन के घर से मिले 75 किलो विस्फोटक, 5 जगहों पर होना था धमाका

23 अक्टूबर को हुए ब्लास्ट की पड़ताल में जिस तरह से चीजें सामने आ रही हैं, उससे लगता है कि 1998 के सिलसिलेवार धमाकों की तरह ही बड़ी साजिश रची गई थी। लेकिन किन्हीं कारणों से 24 साल बाद आतंकी उसी तरह की घटना को अंजाम देने में विफल रहे।

तमिलनाडु के कोयम्बटूर में 1998 में हुए सीरियल ब्लास्ट में करीब 60 लोगों की मौत हो गई थी। इस ब्लास्ट से जुड़े आतंकियों के लिए जेल को स्पा में तब्दील करने के आरोप तत्कालीन डीएमके सरकार पर लगे थे। आरोपित अब्दुल नासिर महदानी को जेल में आयुर्वेदिक मालिश देने की बात सामने आई थी। अब इसी सीरियल ब्लास्ट से 23 अक्टूबर 2022 को कोयम्बटूर के कोट्टई ईश्वरम मंदिर के सामने हुए कार ब्लास्ट के तार भी जुड़ रहे हैं।

1998 सीरियल ब्लास्ट की तरह इस समय भी राज्य में कॉन्ग्रेस और उसके सहयोगी दल डीएमके की ही सरकार है। 23 अक्टूबर के ब्लास्ट में मारे गए आतंकी जमिजा मुबीन के घर से 75 किलो विस्फोटक बरामद हुए हैं। पुलिस ने अंदेशा जताते हुए कहा है कि बरामद सामग्रियों से ऐसा लगता है कि आरोपित और बम बनाने की तैयारी में थे। रिपोर्ट के अनुसार मुबीन ने 5 जगहों पर ब्लास्ट की साजिश रच रखी थी।

इस मामले में अब तक छह गिरफ्तारी हो चुकी है। पुलिस आयुक्त बालकृष्णन ने कहा है,”मुबीन के घर से बरामद सामग्री कम तीव्रता वाले विस्फोटक बनाने में इस्तेमाल होते हैं। हम यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि विस्फोटक सामग्री की खरीद कैसे की गई थी।”

गिरफ्तार लोगों में मुबीन के रिश्ते का भाई अफसर खान भी है। उसके अलावा मोहम्मद थलका, मोहम्मद अजहरुद्दीन, मोहम्मद रियास, फिरोज इस्माइल और मोहम्मद अनस इस्माइल की गिरफ्तारी हुई है। इन पर यूएपीए लगाया गया है।

मुबीन से 2019 में आईएसआईएस से लिंक को लेकर पूछताछ की गई थी। यह अंदेशा भी जताया जा रहा है कि वह जहरान हाशिम नेटवर्क से जुड़ा था। जहरान हाशिम ईस्टर पर श्रीलंका में हुए सीरियल ब्लास्ट का मास्टरमाइंड है।

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार कोयम्बटूर में 1998 में हुए सीरियल ब्लास्ट से भी इसके लिंक मिल रहे हैं। कार ब्लास्ट के बाद पकड़े गए लोगों में मोहम्मद थलका भी शामिल है। वह नवाब खान का बेटा है, जो 1998 सीरियल ब्लास्ट में जेल में बंद है। सीरियल ब्लास्ट के लिए जिम्मेदार आतंकी संगठन अल-उमाह का मुखिया उसका चाचा सैयद अहमद बाशा ही है।

रिपोर्ट के अनुसार मुबीन उक्कडम में रहता था। यह इलाका हमेशा से संवेदनशील रहा है। खासकर 1998 के सीरियल ब्लास्ट के बाद से। यही कारण है कि विस्फोट के बाद जब मुबीन के घर के तलाशी ली जा रही थी, उसी समय अल-उमाह से जुड़े लोगों के घर पर भी दबिश दी गई। इनमें से एक घर नवाब खान का भी था। इसके बाद नवाब खान के बेटे थलका से पूछताछ की गई और बाद में उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

23 अक्टूबर को हुए ब्लास्ट की पड़ताल में जिस तरह से चीजें सामने आ रही हैं, उससे लगता है कि 1998 के सिलसिलेवार धमाकों की तरह ही बड़ी साजिश रची गई थी। लेकिन किन्हीं कारणों से 24 साल बाद आतंकी उसी तरह की घटना को अंजाम देने में विफल रहे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -