Monday, January 17, 2022
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाCRPF हमला: 4 जिहादियों शरीफ़, फ़ारूक़, सलाउद्दीन और इमरान को फाँसी, 2 हैं पाकिस्तानी

CRPF हमला: 4 जिहादियों शरीफ़, फ़ारूक़, सलाउद्दीन और इमरान को फाँसी, 2 हैं पाकिस्तानी

पाकिस्तानी नागरिकों इमरान और फ़ारूक़ को पुलिस ने लखनऊ से तब धर दबोचा जब वे शहर से बाहर निकलने की कोशिश कर रहे थे। इमरान पीओके के भीमहार और फारूक पाकिस्तान के गुजराँवाला का निवासी बताया जा रहा है। शरीफ़ हमले की.....

कल (शुक्रवार, 1 नवंबर, 2019 को) एडिशनल डिस्ट्रिक्ट जज (एडीजे) की अदालत ने 2008 में सीआरपीएफ़ (सेंट्रल रिज़र्व पुलिस फ़ोर्स) के कैम्प पर जिहादी हमला करने के आरोप में 6 आरोपितों को दोषी करार दिया है। अभियुक्तों में से 4 को मौत की सजा सुनाई गई है, एक को उम्रकैद मिली है और एक को 10 साल के कारावास की सजा दी गई है। मौत की सज़ा पाने वालों में दो पाकिस्तानी नागरिक भी हैं

एटीएस के अनुसार दोषी पाए गए अभियुक्तों के नाम शरीफ़, सलाउद्दीन, इमरान, मुहम्मद फ़ारूक़, जंग बहादुर और फहीम अहमद अंसारी हैं। एटीएस के एडीजी ध्रुव कांत ठाकुर ने बताया कि इन सभी को फ़िलहाल लखनऊ और बरेली की जेलों में रखा गया है। शरीफ़, फ़ारूक़, सलाउद्दीन और इमरान को अदालत ने मौत की सजा सुनाई है जबकि फहीम अंसारी को 10 की जेल और जंग बहादुर को उम्रकैद की सज़ा दी गई है।

1 जनवरी, 2008 की सुबह को हुए इस हमले में सीआरपीएफ के सात जवान मारे गए थे और पाँच घायल हुए थे। घटना उत्त्तर प्रदेश के रामपुर जिले की है। हमला करने के बाद चारों हमलावर, जिनके तार जाँच में लश्कर ए तैय्यबा से जुड़े निकले, भाग निकले थे। हमले में एक रिक्शा चालक को भी जान गँवानी पड़ी थी।

10 फरवरी, 2008 को एक महत्वपूर्ण सफ़लता में उत्तर प्रदेश पुलिस और केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों ने राज्य के दो इलाकों से 6 लश्कर के संदिग्धों को पकड़ लिया था। जाँच में पता चला कि वे अपने अगले निशाने मुंबई की तरफ कुछ करने की तैयारी कर रहे थे। पाकिस्तानी नागरिकों इमरान और फ़ारूक़ को पुलिस ने लखनऊ से तब धर दबोचा जब वे शहर से बाहर निकलने की कोशिश कर रहे थे। इमरान पीओके के भीमहार और फ़ारूक़ पाकिस्तान के गुजराँवाला का निवासी बताया जा रहा है। शरीफ़ हमले की ही जगह रामपुर का रहने वाला बताया जा रहा है जबकि जंग बहादुर भी उत्तर प्रदेश के ही मुरादाबाद का निवासी है। सलाउद्दीन को बिहार के मधुबनी का रहने वाला बताया जा रहा है जबकि फहीम अरशद अंसारी उनके अगले निशाने मुंबई का रहने वाला है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘रेप कैपिटल बन गया है राजस्थान’: अलवर मूक-बधिर बच्ची से गैंगरेप मामले में पुलिस का यू-टर्न, गहलोत सरकार ने की CBI जाँच की सिफारिश

अलवर में रेप की शिकार मूक-बधिर बच्ची के मामली की जाँच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सीबीआई को सौंप दी है। सरकार का काफी विरोध हो रहा है।

CM योगी का UP: 2000 Cr का अवैध साम्राज्य ध्वस्त, ढेर हुए 140 अपराधी, धर्मांतरण और गोकशी पर शिकंजा, महिलाएँ सुरक्षित हुईं

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाया। गोकशी-धर्मांतरण पर प्रहार किया। उत्तर प्रदेश में माफिया राज खत्म हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
151,693FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe