Sunday, June 26, 2022
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षालापता BSF सब इंस्पेक्टर का शव 3 दिन बाद हुआ PAK सीमा क्षेत्र से...

लापता BSF सब इंस्पेक्टर का शव 3 दिन बाद हुआ PAK सीमा क्षेत्र से बरामद

28 सितंबर से लापता चल रहे बीएसएफ जवान पारितोष मंडल का शव पाकिस्तान रेंजर्स ने बरामद कर लिया है। उनके लापता होने की खबर मिलते ही सर्च ऑपरेशन चलाया गया था लेकिन...

28 सितंबर से लापता चल रहे बीएसएफ जवान पारितोष मंडल का शव पाकिस्तान रेंजर्स ने बरामद कर लिया है। बताया जा रहा है भारत-पाक अंतराष्ट्रीय सीमा पर शनिवार को गश्त करते हुए सीमा सुरक्षा बल के पारितोष नाले में बह गए थे। खबरों की मानें तो वह अइक नल्लाह इलाके में गिर गए थे। उनके लापता होने की खबर मिलते ही सर्च ऑपरेशन चलाया गया था लेकिन अगले तीन दिन तक उनका कोई पता नहीं लग पाया था।

इसके बाद खबर आई थी कि पाक रेंजर्स और भारतीय ग्रामीण, बीएसएफ के लापता जवान की तलाश में सहयोग करने आगे आए। लेकिन, अब मंगलवार (1 अक्टूबर, 2019) को पता चला है कि जवान को सुरक्षित ढूँढने की उम्मीदें खत्म हो गई हैं। पाकिस्तान की ओर से सीमा सुरक्षाबल को सूचित कर दिया गया है कि उनके क्षेत्र में पारितोष मंडल का एक शव बरामद हुआ है। ताजा जानकारी के मुताबिक पाक रेंजर्स ने कागजी औपचारिकताओं को पूरा करते हुए पारितोष का शव भारत को सौंप दिया है।

पारितोष बीएसएफ की 36वीं बटालियन में तैनात थे। वे पश्चिम बंगाल के निवासी थे। उनकी गुमशुदगी का पता लगाने के लिए सीमा पार संपर्क किया गया था।

तस्वीर साभार: BSF का ट्विटर अकॉउंट

यहाँ उल्लेखनीय है कि शनिवार की शाम अग्रिम पोस्ट तक जाने के लिए पारितोष के साथ अन्य तीन जवान नाव पर सवार हुए थे। लेकिन जैसे ही नाव नाले के मध्य पहुँची, तो तेज बहाव में नाले का संतुलन बिगड़ गया और पारितोष नाले में जा गिरे। इसके बाद आज उनके बारे में दुखद सूचना पाकिस्तान की ओर से दी गई।

बीएसएफ के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से पारितोष मंडल की ड्यूटी के दौरान हुई मौत पर डीजी और अन्य रैंक अधिकारियों की ओर से उन्हें सलाम दिया गया और उनके परिवार के प्रति शोक व्यक्त किया गया। बीएसएफ की ओर से जानकारी दी गई है कि 28 सितंबर 2019 को पट्रोलिंग के दौरान सब इंस्पेक्टर पारितोष मंडल अइक नल्लाह में अपने दो साथियों को बचाते हुए बह गए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

’47 साल पहले हुआ था लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास’: जर्मनी में PM मोदी ने याद दिलाया आपातकाल, कहा – ये इतिहास पर काला...

"आज भारत हर महीनें औसतन 500 से अधिक आधुनिक रेलवे कोच बना रहा है। आज भारत हर महीने औसतन 18 लाख घरों को पाइप वॉटर सप्लाई से जोड़ रहा है।"

‘गुवाहाटी से आएँगी 40 लाशें, पोस्टमॉर्टम के लिए भेजेंगे’: संजय राउत ने कामाख्या मंदिर और छठ पूजा को भी नहीं छोड़ा, कहा – मोदी-शाह...

संजय राउत ने कहा "हम शिवसेना हैं, हमारा डर ऐसा है कि हमें देख कर मोदी-शाह भी रास्ता बदल लेते हैं।" कामाख्या मंदिर और छठ पर्व का भी अपमान।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,523FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe