Monday, July 22, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाआतंकियों की तलाश में दिल्ली पुलिस ने लगाए पोस्टर: 26 जनवरी पर हमले की...

आतंकियों की तलाश में दिल्ली पुलिस ने लगाए पोस्टर: 26 जनवरी पर हमले की फिराक में खालिस्तानी-अलकायदा आतंकी

इंटेलिजेंस इनपुट के अनुसार खालिस्तानी आतंकी दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन का फायदा उठाकर गणतंत्र दिवस पर गड़बड़ी कर सकते हैं।

26 जनवरी के मद्देनजर देश की राजधानी दिल्ली में सुरक्षा के इंतजामों को पुख्ता किया जा रहा है। दिल्ली पुलिस ने गणतंत्र दिवस के मौके पर उन खालिस्तानी आतंकियों के पोस्टर जगह-जगह चिपकाए हैं, जिनकी तलाश है। इसमें खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स, खालिस्तान कमांडो फोर्स, खालिस्तान लिबरेशन फोर्स और बब्बर खालसा इंटरनेशनल के आतंकियों की तस्वीरें हैं।

इंटेलिजेंस इनपुट के अनुसार खालिस्तानी आतंकी दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन का फायदा उठाकर गणतंत्र दिवस पर गड़बड़ी कर सकते हैं। कनॉट प्लेस के एसीपी सिद्धार्थ जैन ने बताया, ”हमें इनपुट मिले हैं कि खालिस्तानी संगठन और अलकायदा अवांछित गतिविधि कर सकते हैं। इसको ध्यान में रखकर हमने कई कदम उठाए हैं। वांछित आतंकवादियों के पोस्टर भी चिपकाए गए हैं।”

यूँ तो 26 जनवरी और 15 अगस्त को लेकर हमेशा ही आतंकी हमले का अलर्ट रहता है लेकिन, इस बार किसानों ने भी ट्रैक्टर मार्च का ऐलान किया है, जिसको देखते हुए दिल्ली के बॉर्डर पर सुरक्षा चौकस होगी। बता दें कि कोविड महामारी को देखते हुए इस बार 26 जनवरी कार्यक्रम में शामिल होने वालों की तादाद भी मिनिस्ट्री ऑफ डिफेंस ने कम कर दी है।

इतना ही नहीं इस बार लोगों की एंट्री में भी काफी पाबंदी लगाई गई है। इस बार बिना टिकट या इनविटेशन कार्ड के गणतंत्र दिवस समारोह में प्रवेश की अनुमति नहीं मिलेगी। वहीं बिना परिचय पत्र के टिकट भी इशू नहीं किया जाएगा। इसके अलावा दिल्ली बॉर्डर पर भी टिकट के साथ परिचय-पत्र दिखाना अनिवार्य कर दिया गया है।

बता दें खुफिया एजेंसियों से मिली इनपुट के बाद दिल्ली पुलिस ने हाई अलर्ट जारी कर दिया है। वहीं आशंकाओं के चलते दिल्ली पुलिस खुफिया एजेंसी के साथ लगातार संपर्क में हैं। पुलिस ने आदेश जारी कर दिया है कि 26 जनवरी के दिन जो लोग भी नई दिल्ली इलाके में आएँ वो अपने साथ आईडी प्रूफ रखें। कहीं भी चेकिंग हो सकती है और आईडी प्रूफ दिखाना पड़ सकता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काँवड़िए नहीं जान पाएँगे दुकान ‘अब्दुल’ या ‘अभिषेक’ की, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक: कहा- बताना होगा सिर्फ मांसाहार/शाकाहार के बारे में,

सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कांवड़ रूट पर दुकानदारों के नाम दर्शाने वाले आदेश पर अंतरिम रोक लगा दी है।

AAP विधायक की वकीलगिरी का हाई कोर्ट ने उतारा भूत: गलत-सलत लिख कर ले गया था याचिका, लग चुका है बीवी को कुत्ते से...

दिल्ली हाईकोर्ट के जज ने सोमनाथ भारती की याचिका पर कहा कि वो नोटिस जारी नहीं कर सकते, उन्हें ये समझ ही नहीं आ रहा है, वो मामला स्थगित करते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -