Thursday, August 5, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाजहाँगीर पीछे देखो, पैंट पहनो, आगे इधर आओ: 'छोटू' बोलकर भारतीय सुरक्षाबल ने करवाया...

जहाँगीर पीछे देखो, पैंट पहनो, आगे इधर आओ: ‘छोटू’ बोलकर भारतीय सुरक्षाबल ने करवाया आतंकी से सरेंडर

वीडियो में आतंकी हाथ ऊपर उठाकर सुरक्षा बलों के पास आते दिखता है। सुरक्षाकर्मी पूछते हैं, "कोई और तो नहीं है? वेपन है? वहीं है, कोई बात नहीं है। कुछ नहीं होगा बेटा, एकदम आराम से.. आ जाओ…शाबाश-शाबाश।"

कश्मीर घाटी को आतंक मुक्त बनाने के लिए भारतीय सेना दो तरह के रास्ते अपना रही है। एक एनकाउंटर और दूसरा सरेंडर। ऐसे में भी कई कट्टरपंथी और वामपंथी इंडियन आर्मी की आलोचना करते नहीं थक रहे। आज इन्हीं लोगों के सवालों का जवाब देती एक वीडियो कश्मीर से सामने आई है। इस वीडियो में सुरक्षा बल एक आतंकी को सरेंडर करवा रहे हैं। इस वीडियो को देखकर साफ पता चल रहा है कि भारतीय सेना का उद्देश्य आतंकियों को सही रास्ते पर लेकर आने का है न कि उन्हें एनकाउंटर में ढेर करने का।

प्रसार भारती द्वारा शेयर की गई वीडियो इस बात का सबूत है। जानकारी के अनुसार, यह वीडियो मध्य कश्मीर के बडगाम में हुए मुठभेड़ का है। जहाँ सुरक्षा बलों ने वीडियो में नजर आ रहे आतंकी को हथियार समेत जिंदा पकड़ा, उससे सरेंडर करवाया और मानवता के साथ सूझबूझ की मिसाल भी पेश की।

वीडियो में एक सुरक्षाकर्मी की आवाज सुनाई पड़ रही है जो आतंकी का सरेंडर कराने के लिए पहले उसे आश्वस्त कर रहे हैं कि उसके ऊपर कोई गोली नहीं चलाएगा। वीडियो में सुरक्षाकर्मी आतंकी से यह कहते हुए सुने जा रहे हैं- “इधर आ, इधर आ। इधर-इधर। कोई गोली नहीं चलाएगा। कोई फायर नहीं करेगा। आजा इधर आ जा छोटू। ऑल पार्टी क्वाइट (सभी लोग चुप रहें), जहाँगीर पीछे देखो। पैंट पहनो, अपना पैंट पहनो, और आगे आओ, इधर ही आगे आओ, बस आते रहो। जर्सी छोड़ दो, जर्सी छोड़ दो। ऊपर करो हाथ।”

थोड़ी देर में सुरक्षाबल को अपने प्रयास में सफल होते दिखते हैं और वीडियो में आतंकी हाथ ऊपर उठाकर सुरक्षा बलों के पास आते दिखता है। सुरक्षाकर्मी पूछते हैं, “कोई और तो नहीं है? वेपन है? वहीं है, कोई बात नहीं है। कुछ नहीं होगा बेटा, एकदम आराम से.. आ जाओ…शाबाश-शाबाश।”

आगे सुरक्षाकर्मी दूसरे साथियों से कहते हैं, “अरे उसका वेपन उठाओ। (आतंकी सुरक्षा बलों के पास सरेंडर कर देता है) आराम से बेटा। तुम चिंता मत करो। पानी दो। ऐ पानी लाओ। सारे दूर रहो। सारे दूर हो जाओ प्लीज…वेपन है? (आतंकी उस ओर इशारा करता है जहाँ उसके हथियार हैं… कुछ सुरक्षाकर्मी जाकर वहाँ से आतंकी के 2 एके-47 राइफलों को लेकर आते हैं)।

गौरतलब है कि कश्मीर के चंडूरा इलाके में सुरक्षाबल को सूचना मिली थी कि एक मकान में 2 आतंकी छिपे हैं। इन आतंकियों में पुलिस से आतंकी बनने वाला एसपीओ अल्ताफ हुसैन भी शामिल था। पुलिस ने अपने साथ सेना की 55 आरआर और सीआरपीएफ की टीम को साथ लेकर ऑपरेशन शुरू किया तो आतंकियों के साथ मुठभेड़ शुरू हो गई।

मौके का फायदा उठाकर अल्ताफ हुसैन भागने में कामयाब हो गया, लेकिन उसके साथी आतंकी को पकड़ लिया गया। उसकी पहचान जहाँगीर अहमद निवासी चंडूरा के रूप में हुई है। उसके पास से एक एके 47 राइफल बरामद की गई है। पुलिस का कहना है कि उनका एनकाउंटर से ज्यादा फोकस सरेंडर पर है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,028FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe