Tuesday, September 21, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाचीनी कल-पुर्जे से बना ड्रोन, पाकिस्तान से 5 किलो विस्फोटक लेकर भारत में घुसा:...

चीनी कल-पुर्जे से बना ड्रोन, पाकिस्तान से 5 किलो विस्फोटक लेकर भारत में घुसा: जम्मू-कश्मीर पुलिस ने मार गिराया

"यह हेक्साक्लॉप्टर था जिसमें फ्लाइट कंट्रोलर के साथ जीपीएस लगा हुआ था। इस ड्रोन का असेंबल करके तैयार किया गया था जिसके कुछ पार्ट्स चीन और ताइवान के थे।”

भारत की सीमा में ड्रोन के जरिए नापाक मंसूबों को अंजाम देने की पाकिस्तान की कोशिश एक बार फिर से नाकाम कर दी गई है। जम्मू-कश्मीर के कनाचक इलाके में पुलिस ने एक ड्रोन को मार गिराया है। चीनी पार्ट से एसेंबल कर बनाए गए इस ड्रोन पर 5 किलो विस्फोटक बँधा था। जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर हुए हमले में भी पाकिस्तान ने चीन में तैयार किए गए ड्रोन का ही इस्तेमाल किया था।

जम्मू जोन के एडीजीपी मुकेश सिंह ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया, “गुरुवार की रात हमें आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्वारा ड्रोन के जरिए अखनूर सेक्टर में विस्फोटक भेजने की जानकारी मिली थी। हमने टीम को तैनात किया। रात तकरीबन 1 बजे टीम ने फायरिंग शुरू कर दी और ड्रोन को मार गिराया। इस ड्रोन पर करीब 5 किलोग्राम आईईडी बँधा था जो कि पूरी तरह से तैयार स्थिति में था। यह हेक्साक्लॉप्टर था जिसमें फ्लाइट कंट्रोलर के साथ जीपीएस लगा हुआ था। दिलचस्प बात यह है कि इस फ्लाइट कंट्रोलर का सीरियल नंबर पिछले साल कठुआ में जो ड्रोन मिला था उससे एक अंक ही अलग है। इस ड्रोन का असेंबल करके तैयार किया गया था और इसके कुछ पार्ट्स चीन और ताइवान के थे।”

यह ड्रोन अंतरराष्ट्रीय सीम से 6 किलोमीटर भीतर तक आ गया था, जिसके बाद इसे मार गिराया गया। एडीजीपी मुकेश सिंह ने कहा, “हमने पिछले 1.5 वर्षों में ड्रोन से भेजे गए 16 एके 47 राइफल, 3 एम 4 राइफल, 34 पिस्तौल, 15 ग्रेनेड, 18 आईईडी और 4 लाख रुपए नकद बरामद किए हैं। एयरपोर्ट पर और उसके आसपास ड्रोन रोधी प्रणाली और कुछ अन्य प्रतिष्ठान स्थापित किए गए हैं।”

गौरतलब है कि 27 जून को ही जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर ड्रोन के जरिए दो विस्फोट किए गए थे। हालाँकि, ये विस्फोट ताकवर नहीं थे। हवाई अड्डे के तकनीकी क्षेत्र में कम ताकत वाले दो बम विस्फोटों के दो हफ्ते बाद खुलासा हुआ कि यह हमला पाकिस्तान ने चीन में बने ड्रोन से किया था। फोरेन्सिक जाँच में पता चला था कि ड्रोन चीन में बनाया गया था और इस्तेमाल किए गए इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी) को आरडीएक्स और नाइट्रेट को मिलाकर बनाया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज योगेश है, कल हरीश था: अलवर में 2 साल पहले भी हुई थी दलित की मॉब लिंचिंग, अंधे पिता ने कर ली थी...

आज जब राजस्थान के अलवर में योगेश जाटव नाम के दलित युवक की मॉब लिंचिंग की खबर सुर्ख़ियों में है, मुस्लिम भीड़ द्वारा 2 साल पहले हरीश जाटव की हत्या को भी याद कीजिए।

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालत में मौत: पंखे से लटकता मिला शव, बरामद हुआ सुसाइड नोट

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालात में मौत हो गई है। महंत का शव बाघमबरी मठ में सोमवार को फाँसी के फंदे से लटकता मिला।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,474FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe