Friday, June 14, 2024
Homeदेश-समाजकागज़ नहीं दिखा रहा था, पकड़ा गया... मुंबई में भारतीय बन कर रह रहा...

कागज़ नहीं दिखा रहा था, पकड़ा गया… मुंबई में भारतीय बन कर रह रहा था बांग्लादेशी घुसपैठिया आरिफ, पुलिस ने दबोचा

वह मूल रूप से बांग्लादेश के खुलना जिले में गाँव पुलवा, पोस्ट पाशापुर का निवासी है। जब पुलिस ने आरोपित से कागजात माँगे तब वो आनाकानी करता रहा। पुलिस उससे मिली जानकारी के आधार पर आगे की जाँच कर रही है।

मुंबई में पुलिस ने अवैध तौर पर रह रहे बांग्लादेशी घुसपैठिए को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार बांग्लादेशी का नाम आरिफ तमानजीत सरदार है। आरिफ बांग्लादेश के खुलना जिले के रहने वाला है। बताया जा रहा है कि पकड़ा गया बांग्लादेशी महाराष्ट्र में भारतीय बन कर रह रहा था। पुलिस आरोपित से पूछताछ कर रही है। गिरफ्तारी रविवार (30 अक्टूबर, 2022) को की गई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आरोपित की गिरफ्तारी मानखुर्द इलाके से रात लगभग 10 बजे के आस-पास की गई है। बताया जा रहा है कि आरिफ लल्लू भाई कम्पाउंड, हीरानंदानी आकुर्ती के बिल्डिंग नंबर 22 में पिछले कई वर्षों से रह रहा था। वह मूल रूप से बांग्लादेश के खुलना जिले में गाँव पुलवा, पोस्ट पाशापुर का निवासी है। जब पुलिस ने आरोपित से कागजात माँगे तब वो आनाकानी करता रहा। पुलिस उससे मिली जानकारी के आधार पर आगे की जाँच कर रही है। स्थानीय पत्रकार मनोज कुमार दुबे ने आरोपित को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम के बारे में भी बताया है।

महाराष्ट्र में पहले भी पकड़े गए हैं बांग्लादेशी

गौरतलब है कि आरिफ की गिरफ्तारी मुंबई में अवैध बांग्लादेशियों के पकड़े जाने की पहली घटना नहीं है। इस से पहले नवम्बर 2020 में भिवंडी में पुलिस ने 40 अवैध बांग्लादेशियों को गिरफ्तार किया था। नवम्बर 2020 में ही भिवंडी में से ही 9 अवैध बांग्लादेशी गिरफ्तार किए गए थे। ये सभी सरवल्ली गाँव में रह रहे थे। इन सभी को भिवंडी में बुलाने वाला मुख्य आरोपित सलीम शेख था जो लगभग 16 वर्षो से भिवंडी में अवैध तौर पर रह रहा था।

तब गिरफ्तार आरोपितों की पहचान सलीम अमीन शेख (30), रसल अबुल हसन शेख (27), मोहम्मद शाहिन शेख (24), मोहम्मद मासूम इस्लाम (21), तरुण त्रिपुरा (21), सुमन त्रिपुरा (25) इस्माइल खान (19), आजम खान (19) और मोहम्मद आमिर खान (26) के रूप में हुई थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -