Wednesday, February 21, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाISIS आतंकी अब्दुल, नासिर भारतीय मुस्लिमों को कट्टरपंथी बनाकर भेजते थे सीरिया, NIA ने...

ISIS आतंकी अब्दुल, नासिर भारतीय मुस्लिमों को कट्टरपंथी बनाकर भेजते थे सीरिया, NIA ने किया गिरफ्तार

अहमद अब्दुल कादिर, इरफ़ान नासिर और इनके अन्य सहयोगी हिज्ब-उत-तहरीर नाम के संगठन के सदस्य थे। उन्होंने ‘कुरान सर्किल’ नाम का नया संगठन बना लिया था, जिसमें वह भोले नौजवानों को शामिल करके उन्हें कट्टरपंथी बनाते थे और उन्हें आतंकवादी गतिविधियों से जोड़ने के लिए फंडिंग करके उन्हें सीरिया भेजते थे।

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने चेन्नई के अहमद अब्दुल कादिर (40) और बेंगलुरु के इरफ़ान नासिर (33) को गिरफ्तार किया। दोनों ही इस्लामिक स्टेट (आईएस) मॉड्यूल के संदिग्ध हैं और इन पर युवाओं को कट्टरपंथी बनाने और उन्हें आतंकवादी गतिविधियों में शामिल कराने के लिए फंडिंग उपलब्ध कराने का आरोप है। 

दोनों को विशेष एनआईए अदालत ने 10 दिन की हिरासत में भेज दिया है। एनआईए ने बताया कि अब्दुल कादिर तमिलनाडु के चेन्नई स्थित एक बैंक में बतौर बिज़नेस एनालिस्ट (विश्लेषक) काम करता था। वहीं नासिर बेंगलुरु में बतौर चावल व्यापारी काम करता था।

एनआईए ने बुधवार को चेन्नई में कादिर और बेंगलुरु के नासिर के आवासों पर छापा मारा था। जाँच एजेंसी ने इलेक्ट्रॉनिक उपकरण और दोषी ठहराने वाले सबूत बरामद किए हैं। एनआईए की तरफ से यह कार्रवाई तब हुई जब जाँच के दौरान बेंगलुरु आधारित अब्दुर रहमान नाम के नेत्र विशेषज्ञ को आईएसआईएस से जुड़ी आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में 17 अगस्त को गिरफ्तार किया गया।

एनआईए अधिकारियों ने बताया कि रहमान 2014 में सीरिया में आईएसआईएस के आतंकवादियों के साथ लगभग 10 दिनों तक रहा था और आतंकवादियों की मदद के लिए एक एप्लीकेशन डेवलप कर रहा था। उसने कादिर और नासिर के नामों का खुलासा एनआईए से किया था।

एनआईए का आरोप है कि इन्होंने साल 2013 से 2014 के बीच युवाओं को सीरिया भेजने के लिए फंडिंग इकट्ठा की थी। एनआईए ने बताया कि जाँच में यह बात सामने आई है कि अहमद अब्दुल कादिर, इरफ़ान नासिर और इनके अन्य सहयोगी हिज्ब-उत-तहरीर नाम के संगठन के सदस्य थे।

उन्होंने ‘कुरान सर्किल’ नाम का नया संगठन बना लिया था, जिसमें वह भोले नौजवानों को शामिल करके उन्हें कट्टरपंथी बनाते थे और उन्हें आतंकवादी गतिविधियों से जोड़ने के लिए फंडिंग करके उन्हें सीरिया भेजते थे। उनके द्वारा सीरिया भेजे गए 2 युवाओं की मौत हो गई।

एनआईए ने अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा है कि दोनों आरोपित संगठन के युवाओं को कट्टरपंथी और आतंकवादी गतिविधियों का हिस्सा बनाने में अहम भूमिका निभाते थे। वह हमेशा इस कोशिश में रहते थे कि ज़्यादा से ज़्यादा युवा आईएस के आतंकवादी मॉड्यूल का हिस्सा बनें। 

इसके अलावा एनआईए ने दोनों आरोपितों के ठिकानों पर तलाशी ली, जहाँ से इलेक्ट्रॉनिक और अन्य प्रकार के उपकरण बरामद हुए थे। इसके अलावा अब्दुल कादिर और इरफ़ान नासिर को एनआईए की विशेष अदालत में पेश किया जा चुका है। फ़िलहाल उन्हें पूछताछ के लिए 10 दिन की हिरासत में रखा जाएगा। एनआईए का इस मुद्दे पर कहना है कि बड़े षड्यंत्रों के खुलासे के लिए मामले की जाँच जारी है, जल्द ही कई अहम बातें सामने आएँगी।      

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

UIDAI ने कहा दुरुस्त होगी ‘तकनीकी गलती’, फिर भी आधार पर रार ठान रही ममता बनर्जी: नया कार्ड देगी बंगाल की TMC सरकार

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी ने उन सभी को 'नया आधार' देने का ऐलान किया है। इसके लिए नया 'पोर्टल' लॉन्च कर दिया गया है।

‘हम प्राचीन एवं महान सभ्यताएँ, अब संबंधों को देंगे आधुनिक स्वरूप’: ग्रीस के प्रधानमंत्री से मिले PM मोदी, कृषि से लेकर डिफेन्स तक में...

"डिफेन्स-सिक्योरिटी क्षेत्र में वर्किंग ग्रुप के गठन से हम डिफेन्स, साइबर सिक्योरिटी, आतंकवाद निरोध और समुद्री सुरक्षा जैसी साझा चुनौतियों पर आपसी समन्वय बढ़ा सकेंगे।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe