Wednesday, September 22, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षापुलवामा के वीर: नितिन राठौर की पत्नी ने कहा 'बेटे को करूँगी सेना को...

पुलवामा के वीर: नितिन राठौर की पत्नी ने कहा ‘बेटे को करूँगी सेना को समर्पित’

इस ख़बर को मिलने के बाद हिम्मत दिखाते हुए वीर की पत्नी ने कहा कि वो अपने बेटे को भी सेना को समर्पित करेंगी क्योंकि यह उनके पति (नितिन) का सपना था।

पुलवामा में गुरुवार को आत्मघाती हमले में महाराष्ट्र के बुलढाणा जिले के नितिन राठौर हमेशा के लिए अपने घर, परिवार को अलविदा कह गए। अपने घर के अकेले कमाने वाले नितिन राठौर बुलढाणा जिले के लोणार तालुका चोरपांगरा गाँव के रहने वाले थे। घर में नितिन की पत्नी वंदना, बेटा जीवन, बेटी जीविका माँ सावित्री बाई, पिता शिवाजी, भाई प्रवीण समेत दो बहनें हैं।

मात्र 23 की उम्र में साल 2006 में नितिन सीआरपीएफ में भर्ती हुए थे। राठौर के छोटे भाई प्रवीण ने बताया कि आधी रात में इस ख़बर के मिलने के बाद से ही उनका पूरा परिवार बिखर गया है। प्रवीण ने बताया कि वो अपने माता-पिता के साथ खेती में मदद करता है। खेती के अलावा उन्हें सिर्फ़ नितिन का ही सहारा था जो अब नहीं रहा।

नितिन की पत्नी वंदना ने बताया कि एक हफ्ते पहले ही वो सब साथ में भोजन कर रहे थे और खूब खुश थे। इस खबर को मिलने के बाद हिम्मत दिखाते हुए वीर की पत्नी ने कहा कि वो अपने बेटे को भी सेना को समर्पित करेंगी क्योंकि यह उनके पति (नितिन) का सपना था।

नितिन की मौत की ख़बर सुनने के बाद गाँव के लोगों ने अपने घरों में खाना नहीं बनाया। लोगों में एक तरफ जहाँ गुस्सा था, वहीं सरकार को पाकिस्तान के ख़िलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने की माँगें भी शामिल थी।

नितिन के बचपन के दोस्त राजू राठौर ने नितिन को याद को याद करते हुए बताया कि वह काफ़ी मेहनती था। राजू ने नितिन के साथ स्नातक तक पढ़ाई की थी। सिर्फ 13 साल की उम्र से ही वो सेना में शामिल होना चाहते थे। इतना ही नहीं नितिन को कॉलेज में कई दफा सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी भी घोषित किया जा चुका था।

देश के नाम बलिदान हुए नितिन के लिए प्रभादेवी सिद्धीविनायक मंदिर ट्रस्ट ने परिवार को 51 लाख रुपए देने का ऐलान किया है। इसके अलावा मंदिर के ट्रस्ट की तरह पुणे के मेरी टैक्निकल इंस्टिटयूट ने भी परिवार को 25 लाख रुपए देने का ऐलान किया।

महाराष्ट्र सरकार ने भी परिवार को 50 लाख रुपए देने की घोषणा की है। साथ ही सरकार परिवार के पुनर्वास की जिम्मेदारी भी उठाएगी।

नितिन के इस तरह से चले जाने के बाद इंटरनेट पर कुछ दिनों पहले बनाई गई उनकी एक वीडियो खूब शेयर हुई। इस वीडियो में वो काफ़ी भावुक होते नज़र आ रहे हैं। लोगों ने अलग-अलग गानों के साथ इसे शेयर किया है।




  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

न जुबान चढ़ी और न आँख…फाँसी कैसे? नरेंद्र गिरि को भू-समाधि: सुसाइड लेटर में दो पेन के प्रयोग से गहराया संदेह, उत्तराधिकारी पर टला...

निरंजनी अखाड़ा के रविंद्र पुरी ने कहा कि जो सुसाइड नोट मिला है, वह उनके (महंत नरेंद्र गिरि) द्वारा नहीं लिखा गया है। इस मामले की जाँच होनी चाहिए।

‘जो कौम अपने इतिहास व परंपराओं को भूला देती है, वह अपने भूगोल की भी रक्षा नहीं कर पाती’: दादरी में CM योगी

सीएम ने कहा, "राजा मिहिर भोज नौंवी सदी के एक महान धर्मरक्षक थे। जो कौम अपने इतिहास व परंपराओं को विस्मृत कर देती है, वह अपने भूगोल की भी रक्षा नहीं कर पाती।''

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,766FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe