Friday, May 24, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षापाकिस्तान ने किया जम्मू-कश्मीर में संघर्ष-विराम का उल्लंघन, गँवाए 3 सैनिक

पाकिस्तान ने किया जम्मू-कश्मीर में संघर्ष-विराम का उल्लंघन, गँवाए 3 सैनिक

स्थानीय कश्मीरी नागरिक मोहम्मद मुज़िर मुग़ल के हवाले से कहा कि अगर स्वतंत्रता दिवस पर ऐसा हमला होता है, तो प्रधानमंत्री मोदी को इसका कायदे से जवाब देना चाहिए।

पाकिस्तान ने आज (15 अगस्त) नियंत्रण रेखा (LoC) के पास विभिन्न स्थानों पर गोलीबारी कर संघर्ष-विराम का उल्लंघन किया। भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई में उसे अपने तीन सैनिकों से भी हाथ धोना पड़ा है। पाकिस्तान ने 5 भारतीय सैनिकों को भी मारने का दावा किया है, लेकिन मीडिया खबरों के अनुसार सेना ने इस दावे को नकार दिया है।

कई सेक्टरों पर हुआ हमला

आ रही जानकारी के मुताबिक पाकिस्तानी हमला तीन सेक्टरों पर हुआ है। जिन सेक्टरों पर हमला हुआ है, वे हैं उरी, राजौरी और नांगी टेकरी इलाके का केजी (कृष्ण घाटी) सेक्टर। ज़ी न्यूज़ की खबर के मुताबिक हमला बिना किसी उकसावे के पाकिस्तान की तरफ से शुरू हुआ था। सेना की जवाबी कार्रवाई में तीन पाकिस्तानी सैनिकों के मारे जाने की खबर है।

‘इन्हें कायदे से जवाब दिया जाना चाहिए’

समाचार एजेंसी ANI ने स्थानीय कश्मीरी नागरिक मोहम्मद मुज़िर मुग़ल के हवाले से कहा कि अगर स्वतंत्रता दिवस पर ऐसा हमला होता है, तो प्रधानमंत्री मोदी को इसका कायदे से जवाब देना चाहिए। “मैं झंडारोहण समारोह में था। समारोह से लौटते हुए मैंने पाकिस्तानी छोर से गोलियों की आवाज़ सुनी।” ANI से ही बात करते हुए नांगी टेकरी के एक दूसरे निवासी चमनलाल ने कहा कि पाकिस्तान को यह समझना होगा कि यह पुराना हिंदुस्तान नहीं है जो ऐसी हरकतों पर चुप रहेगा

तीन दिन में दूसरा हमला

पिछले तीन दिन के भीतर पाकिस्तान का यह सीमा पर दूसरा दुःसाहस है। इसके पहले 13-14 अगस्त, 2019 की रात भी पाकिस्तान ने जिहादियों की घुसपैठ कराने की कोशिश की थी, जिसे हिंदुस्तान की सेना ने नाकाम कर दिया। मीडिया सूत्रों के मुताबिक घुसपैठ में पाकिस्तानी सेना ने भी सहयोग किया था। अनुच्छेद 370 हटाकर हिंदुस्तान के जम्मू-कश्मीर का विलय पूर्ण कर लेने और इसकी मुख़ालफ़त में दुनिया में अलग-थलग पड़ जाने से पाकिस्तान की हताशा को देखते हुए सरकार को यह आदेश पहले से था, इसीलिए 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर में संविधान पूरी तरह लागू करने के पहले ही सरकार ने वहाँ हज़ारों की तादाद में अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती कर दी थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बाबरी का पक्षकार राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में आ गया, लेकिन कॉन्ग्रेस ने बहिष्कार किया’: बोले PM मोदी – इन्होंने भारतीयों पर मढ़ा...

प्रधानमंत्री ने स्पष्ट ऐलान किया कि अब यह देश न आँख झुकाकर बात करेगा और न ही आँख उठाकर बात करेगा, यह देश अब आँख मिलाकर बात करेगा।

कॉन्ग्रेस नेता को ED से राहत, खालिस्तानियों को जमानत… जानिए कौन हैं हिन्दुओं पर हमले के 18 इस्लामी आरोपितों को छोड़ने वाले HC जज...

नवंबर 2023 में जब राजस्थान में विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मी चरम पर थी, जब जस्टिस फरजंद अली ने कॉन्ग्रेस उम्मीदवार मेवाराम जैन को ED से राहत दी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -