Wednesday, December 1, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाजम्मू कश्मीर में आतंकियों ने ली एक और नागरिक की जान, पुंछ जिले के...

जम्मू कश्मीर में आतंकियों ने ली एक और नागरिक की जान, पुंछ जिले के स्कूल पर भी की गई गोलीबारी

सुरक्षा बलों द्वारा इस घटना को अंजाम देने वाले आतंकवादियों को पकड़ने के लिए तलाशी शुरू कर दी गई है। इलाके में सुरक्षा व्यवस्था को और भी ज्यादा बढ़ा दिया गया है।

जम्मू कश्मीर में आतंकियों की कायराना हरकत जारी है। आतंकियों ने एक बार फिर से श्रीनगर के नागरिक को निशाना बनाया और गुरूवार (अगस्त 29, 2019) देर रात गुलाम मोहम्मद नाम के एक दुकानदार की गोली मारकर हत्या कर दी। अधिकारियों के मुताबिक, 65 वर्षीय गुलाम मोहम्मद जब रात में अपनी दुकान बंद कर रहे थे, तभी कुछ लोग मोटरसाइकिल पर आए और उन पर ताबड़तोड़ गोलियाँ चला दी।

जम्मू-कश्मीर पुलिस के मुताबिक, गुलाम मोहम्मद को तुरंत नजदीकी अस्पताल ले जाया गया, जहाँ इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया। सुरक्षा बलों द्वारा आतंकवादियों को पकड़ने के लिए तलाशी भी शुरू कर दी गई है। वहीं, इस घटना के बाद इलाके में सुरक्षा व्यवस्था को और भी ज्यादा बढ़ा दिया गया है।

नवभारत टाइम्स में प्रकाशित खबर का स्क्रीनशॉट

जम्मू कश्मीर पर हर तरफ से मिल रही हार से बौखलाए पाकिस्तान ने गुरुवार को एक बार फिर से सीजफायर का उल्लंघन कर अपने नापाक इरादे को अंजाम दिया। इस बार पुंछ जिले के मेंढर सेक्टर में एक स्कूल पर गोलाबारी की गई। इस फायरिंग की वजह से बच्चे स्कूल में ही फँस गए। जवाब में भारतीय सेना ने भी जमकर गोलाबारी की। 

गौरतलब है कि इससे पहले दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग के बिजबेहरा इलाके में रविवार (अगस्त 25, 2019) को पत्थरबाजों ने सेना का जवान समझकर एक ट्रक ड्राइवर की बर्बरता से हत्या कर दी थी। मृतक की पहचान 42 वर्षीय नूर मोहम्मद डार के रूप में हुई थी। नूर मोहम्मद देर शाम ट्रक लेकर वापस घर लौट रहा था कि तभी वहाँ मौजूद कुछ पत्थरबाजों की नजर उस पर पड़ी। पत्थरबाजों ने उसके ट्रक को सुरक्षाबल की गाड़ी और उसे जवान समझ लिया। इसके बाद उन्होंने नूर पर पत्थरबाजी शुरू कर दी, जिससे उनकी जान चली गई।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe