Thursday, August 5, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाकश्मीर में हिज्बुल-लश्कर के धमकी भरे पोस्टर्स से लोगों में डर का माहौल: नहीं...

कश्मीर में हिज्बुल-लश्कर के धमकी भरे पोस्टर्स से लोगों में डर का माहौल: नहीं खोल रहे दुकानें

आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन और लश्कर-ए-तैयबा द्वारा जारी पोस्टर श्रीनगर के डाउन-टाउन, जकूरा और गांदरबल व अनंतनाग जिले में कई जगह दीवारों-खंभों पर चिपका दिए हैं। इससे इन इलाकों में बुधवार को दुकानें और व्यापारिक प्रतिष्ठान दिन भर बंद रहे.....

जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 के निरस्त हो जाने और सामान्य जिंदगी बहाल होने के बाद आतंकी बौखला गए हैं। लोगों द्वारा अपने हुक्म का पालन न होने से बौखलाए आतंकियों ने एक बार फिर से धमकी भरे पोस्टर चिपकाकर लोगों को डराने की कोशिश की। आतंकियों ने बुधवार (नवंबर 20, 2019) देर रात श्रीनगर सहित कई जगहों पर धमकी भरे पोस्टर लगा दिए। इन पोस्टरों में आतंकियों ने बंद का फरमान न मानने वालों को कौम व इस्लाम का दुश्मन करार देते हुए उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी।

जिसके बाद घाटी में भय का माहौल है। गुरुवार (नवंबर 21, 2019) को पूरे दिन दुकानें बंद रहीं, यातायात भी ठप रहा। राज्य परिवहन की बसें भी सड़कों पर नहीं दिखाई दीं। बताया जा रहा है कि आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन और लश्कर-ए-तैयबा द्वारा जारी पोस्टर श्रीनगर के डाउन-टाउन, जकूरा और गांदरबल व अनंतनाग जिले में कई जगह दीवारों-खंभों पर चिपका दिए हैं। इससे इन इलाकों में बुधवार को दुकानें और व्यापारिक प्रतिष्ठान दिन भर बंद रहे और वाहनों की आवाजाही भी नाममात्र रही। इसके साथ ही बुधवार रात को असामाजिक तत्वों ने चार दुकानों, एक गाड़ी के अलावा कई ठेलों में आग भी लगा दी थी।

अधिकारियों ने बताया कि पिछले कुछ हफ्ते से दुकानदार सुबह के वक्त अपनी दुकानें खोल रहे थे, लेकिन चेतावनी के बाद उन्होंने सुबह दुकानें नहीं खोलीं। अधिकारियों का कहना है कि मध्य कश्मीर में श्रीनगर और गंदेरबल जिलों, दक्षिण कश्मीर में अनंतनाग, कुलगाम, पुलवामा और शोपियां जिलों और उत्तर में कुछ जिलों में बंद बुलाया गया है, जिसकी वजह से सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा।

पुलिस ने बताया है कि हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है और जल्द ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा। श्रीनगर जिला मजिस्ट्रेट शाहिद इकबाल चौधरी ने असामाजिक तत्वों को गुरुवार को कड़ी चेतावनी जारी की और लोगों से अपील की कि वे इस तरह की कोई भी घटना होने पर फौरन पुलिस को सूचित करें। 

श्रीनगर स्थित पुलिस नियंत्रण कक्ष में मौजूद एक अधिकारी ने बताया कि बुधवार को डाउन-टाउन और गांदरबल के अलावा अनंतनाग में कुछ हद तक बंद का असर रहा। उन्होंने बताया कि शरारती तत्वों द्वारा गड़बड़ी किए जाने की आशंका को देखते हुए पूरी वादी में सुरक्षा का कड़ा बंदोबस्त किया था। देर शाम तक किसी भी जगह पर अप्रिय घटना की सूचना नहीं है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,042FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe