Wednesday, June 19, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षायूपी ATS ने ISIS के 2 और आतंकियों को दबोचा: AMU के पूर्व छात्र...

यूपी ATS ने ISIS के 2 और आतंकियों को दबोचा: AMU के पूर्व छात्र हैं फराज अहमद और अब्दुल समद मलिक, बड़ी साजिश का पर्दाफाश

UP ATS को अलीगढ़ आतंकी मॉड्यूल मामले में फिर से एक बड़ी सफलता मिली है। एक ISIS आतंकी को ATS ने अलीगढ़ से गिरफ्तार किया है। वह ₹25,000 का इनामी आतंकी था। एक और आतंकी ने कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया है।

UP ATS को अलीगढ़ आतंकी मॉड्यूल मामले में फिर से एक बड़ी सफलता मिली है। यूपी ATS ने खूंखार आतंकी संगठन ISIS के एक आतंकी को अलीगढ़ से गिरफ्तार किया है। उस पर 25,000 रुपए का इनाम भी घोषित किया गया था। वहीं, एक अन्य आतंकी ने कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया है।

ISIS के जिस आतंकी को गिरफ्तार किया गया है, उसका नाम आमस उर्फ फ़राज़ अहमद है। वह 22 साल का है और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) से स्नातक है। उसने AMU से मनोविज्ञान में स्नातक किया है। उसे ATS ने अलीगढ़ से उठाया है। फराज प्रयागराज का रहने वाला है और एक भगोड़े आतंकी फैजान बख्तियार का करीबी है।

इसके अलावा, ISIS के एक अन्य आतंकी अब्दुल समद मलिक ने कोर्ट के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है। अलीगढ़ मॉड्यूल से जुड़े इन दोनों आतंकियों की यूपी ATS को तलाश थी। इस मॉड्यूल का अक्टूबर 2023 में यूपी ATS ने भंडाफोड़ किया था। उस दौरान यूपी ATS ने कई आतंकी और इसके सरगना को गिरफ्तार किया था।

यूपी ATS ने सबसे पहले नवम्बर 2023 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्र संगठन स्टूडेंट्स ऑफ़ अलीगढ़ मुस्लिम यूनियन (SAMU) से जुड़े अब्दुल्ला अर्सलान और माज बिन तारिक को गिरफ्तार किया था। ये दीपावली पर धमाकों की साजिश रच रहे थे। इनका कनेक्शन दिल्ली पुलिस के क्राइम ब्रांच द्वारा पकड़े गए शहनवाज और रिजवान जैसे आतंकियों के साथ निकला था। दोनों आतंकियों के पास से कई सामान बरामद हुए थे।

इसके बाद यूपी एटीएस ने छत्तीसगढ़ के दुर्ग से आईएसआईएस (ISIS) समूह के एक और आतंकी वजीहुद्दीन अली खान को गिरफ्तार किया था। वजीहुद्दीन अली खान उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में पीएचडी कर रहा था। वजीहुद्दीन आईएसआईएस के अपने हैंडलर के लगातार संपर्क में था और वो आतंकी हमलों की योजना बना रहा था।

आतंकी वजीहुद्दीन अली खान पर अधिक से अधिक मुस्लिमों को जिहाद के लिए प्रोत्साहित करने और उन्हें आईएसआईएस से जोड़ने की जिम्मेदारी थी। यही अलीगढ़ मॉड्यूल को सँभाल रहा था। वजीहुद्दीन छतीसगढ़ के दुर्ग का रहने वाला है और इसके चेले चेले इसे अमीर कहते थे। अमीर इस्लामी शासक के लिए आमतौर पर प्रयुक्त होता है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

डीपफेक वीडियो और ऑनलाइन फेक न्यूज़ पर लगेगी लगाम, ‘मोदी 3.0’ लेकर आ रहा ‘डिजिटल इंडिया बिल’: डेटा प्रोटेक्शन के बाद अब YouTube और...

अमित शाह का वीडियो वायरल कर दिया गया और दावा किया गया कि वो आरक्षण खत्म करने की बात कर रहे हैं। कई हस्तियाँ डीपफेक की शिकार बन चुकी हैं।

कश्मीर को अलग बताने वाली अरुंधति रॉय ने गुजरात दंगों को लेकर भी बोले थे झूठ: एहसान जाफरी की बेटियों से रेप और जिंदा...

साल 2002 के गुजरात दंगों को अरुंधति रॉय ने अपने लेख के जरिए कई तरह के झूठ और भ्रम फैलाने की कोशिश की थी। इसके लिए उन्हें माफी भी माँगनी पड़ी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -