Wednesday, April 21, 2021
Home रिपोर्ट राष्ट्रीय सुरक्षा बंगाल की प्रज्ञा 2009 में धोखे से बना दी गई थी आएशा: करती थी...

बंगाल की प्रज्ञा 2009 में धोखे से बना दी गई थी आएशा: करती थी आतंकी संगठन JMB में महिलाओं की भर्ती, ढाका से गिरफ्तार

प्रज्ञा (आएशा) को काम दिया गया था जिसके तहत उसे हिंदू लड़कियों को इस्लाम धर्म स्वीकार करने का लालच देना था। इसके बाद आएशा लड़कियों का कट्टर सलफी मौलवी से परिचय कराती थी। अंत में उन्हें जेएमबी में शामिल करने की तैयारी की जाती थी। ‘जेएमबी’ बंगाल में काफी सक्रिय है और बड़े पैमाने पर यही काम करता है।

ढाका पुलिस की काउंटर टेररिज्म एंड ट्रांसनेशनल क्राइम (सीटीटीसी) की इकाई ने शुक्रवार (जुलाई 17, 2020) को एक आएशा नामक (पहले प्रज्ञा) महिला को गिरफ्तार किया। गिरफ़्तार की गई 25 वर्षीय महिला गैर क़ानूनी संगठन जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्लादेश (जेएमबी) की सदस्य है।   

पूछताछ के दौरान कई हैरान कर देने वाली बातें सामने आई हैं। पूछताछ में उसने बताया कि उसका जबरन धर्मांतरण कराया गया था। असल में वह हिंदू थी, कक्षा 9 में पढ़ती थी तब उसे जबरन इस्लाम धर्म कबूल कराया गया। आएशा का असली नाम प्रज्ञा देबनाथ था।   

आएशा कोलकाता के धनियाकाली पुलिस थाने के अंतर्गत आने वाले गाँव पश्चिम केशाबपुर की रहने वाली थी। पढ़ाई के दौरान उसकी सबसे अच्छी दोस्त मुस्लिम थी। उसके प्रभाव में बेहद खुफ़िया तरीके से प्रज्ञा (आएशा) का धर्म परिवर्तन कराया गया। साल 2009 के दौरान धोखे से उसे इस्लाम धर्म कबूल कराया गया।   

बेहद खुफ़िया तरीके से ही प्रज्ञा को अपना नाम बदलने के लिए भी मजबूर किया गया। जिसके बाद उसे अपना नाम आएशा जन्नत मोहोना रखना पड़ा। इसके अलावा आएशा के शहर में ही रहने वाले सलफ़ी मौलवी की वजह से कट्टरता का शिकार होना पड़ा। कुछ सालों पहले ही प्रज्ञा जेएमबी की महिला इकाई से जुड़े नेताओं के संपर्क में आई। जिसके बाद उसे जेएमबी की सदस्यता दिलाई गई। महिला इकाई की मुखिया असमानी खातून (बोंदी जिबोन) ने आएशा को सदस्यता दिलाने में अहम भूमिका निभाई।   

प्रज्ञा (आएशा) को काम दिया गया था जिसके तहत उसे हिंदू लड़कियों को इस्लाम धर्म स्वीकार करने का लालच देना था। इसके बाद आएशा लड़कियों का कट्टर सलफी मौलवी से परिचय कराती थी। अंत में उन्हें जेएमबी में शामिल करने की तैयारी की जाती थी। ‘जेएमबी’ बंगाल में काफी सक्रिय है और बड़े पैमाने पर यही काम करता है। प्रज्ञा से आएशा बनी गिरफ्तार युवती से अभी और पूछताछ होनी है।   

इस मामले पर डेली स्टार में एक रिपोर्ट भी प्रकाशित हुई थी जिसमें सीटीटीसी के असिस्टेंट कमिश्नर एसके इमरान हुसैन के बयान का ज़िक्र था। उसके मुताबिक़ आएशा ने साल 2016 से ही ढाका में घूमना शुरू कर दिया था। सबसे पहले उसने नकली जन्म प्रमाण पत्र बनवाया। इसकी मदद से बांग्लादेशी पहचान पत्र भी बनवाया। इतने के अलावा उसके पास एक भारतीय पासपोर्ट भी बरामद हुआ है।   

आएशा को संगठन से फंड इकट्ठा करने की ज़िम्मेदारी भी मिली थी। इमरान हुसैन ने यह भी कहा ‘आएशा ने हाल ही में आमिर हुसैन सद्दाम नाम के बांग्लादेशी युवक से फोन पर शादी की। फिलहाल वह ओमान में रह रहा है। अपने पति के सुझाव पर वह पिछले साल अगस्त महीने से बांग्लादेश में रह रही है। उसने ढाका में घर लिया और शहर के ही केरानीगंज और नारायणगंज इलाके में स्थित मदरसे में धार्मिक शिक्षक बन गई।’   

उसका मुख्य कार्य यही था कि सबसे पहले वह ऐसे युवाओं की पहचान करे जिन्हें आसानी से कट्टरपंथी बनाया जा सकता है। इसे बाद उन्हें जेएमबी की सदस्यता दिलवाना था। इस साल के फरवरी महीने में आएशा (प्रज्ञा) की दिशा निर्देशक अस्मानी खातून गिरफ्तार की गई थी। जिसके बाद उसने मदरसे में पढ़ाना बंद कर दिया था। फिर वह जेएमबी के सोशल मीडिया के सहारे युवाओं को प्रभावित करती थी।   

पुलिस ने अपने द्वारा दी गई जानकारी में यह भी बताया कि पिछले कुछ महीनों में उसने कई युवाओं को जेएमबी की सदस्यता दिलाई। इस दौरान उसने कई बार अंतरराष्ट्रीय सीमा भी पार की। डेली स्टार में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक़, गिरफ्तारी के बाद और जाँच के दौरान वह थोड़ी देर के लिए भी परेशान नज़र नहीं आई। जिससे एक बात साफ़ हो जाती है कि वह अपने काम में कितनी माहिर है और उसे अपने लक्ष्य के अलावा बहुत कम बातें समझ आती हैं।   

सबसे पहले वामपंथी सरकारों ने पश्चिम बंगाल में मुस्लिम तुष्टिकरण की शुरुआत की। इसके बाद इस काम को कई कदम आगे लेकर गई तृणमूल कॉन्ग्रेस। जिसके चलते पश्चिम बंगाल में इस्लामी कट्टरपंथियों और मौलवियों के लिए कुछ भी करना बहुत आसान है। पूरे बंगाल में सलफ़ी मौलवियों ने ऐसे हज़ारों मदरसे और मस्जिदें बनाई हैं। जिन्हें खाड़ी के देशों से फंड मिलते हैं, यहाँ कट्टर पंथ और धर्म परिवर्तन के अलावा कुछ और नहीं होता है। जेएमबी के भी तमाम आतंकवादियों ने रिफ्यूजी बन कर बंगाल में शरण ले रखी है।  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘गैर मुस्लिम नहीं कर सकते अल्लाह शब्द का इस्तेमाल, किसी अन्य ईश्वर से तुलना गुनाह’: इस्लामी संस्था ने कहा- फतवे के हिसाब से चलें

मलेशिया की एक इस्लामी संस्था ने कहा है कि 'अल्लाह' एक बेहद ही पवित्र शब्द है और इसका इस्तेमाल सिर्फ इस्लाम के लिए और मुस्लिमों द्वारा ही होना चाहिए।

आज वैक्सीन का शोर, फरवरी में था बेकारः कोरोना टीके पर छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेसी सरकार ने ही रचा प्रोपेगेंडा

आज छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री इस बात से नाखुश हैं कि पीएम ने राज्यों को कोरोना वैक्सीन देने की बात नहीं की। लेकिन, फरवरी में वही इसके असर पर सवाल उठा रहे थे।

पंजाब के 1650 गाँव से आएँगे 20000 ‘किसान’, दिल्ली पहुँच करेंगे प्रदर्शनः कोरोना की लहर के बीच एक और तमाशा

संयुक्त किसान मोर्चा ने 'फिर दिल्ली चलो' का नारा दिया है। किसान नेताओं ने कहा कि इस बार अधिकतर प्रदर्शनकारी महिलाएँ होंगी।

हम 1 साल में कितने तैयार हुए? सरकारों की नाकामी के बाद आखिर किस अवतार की बाट जोह रहे हम?

मुफ्त वाई-फाई, मुफ्त बिजली, मुफ्त पानी से आगे लोगों को सोचने लायक ही नहीं छोड़ती समाजवाद। सरकार के भरोसे हाथ बाँध कर...

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

पाकिस्तानी फ्री होकर रहें, इसलिए रेप की गईं बच्चियाँ चुप रहें: महिला सांसद नाज शाह के कारण 60 साल के बुजुर्ग जेल में

"ग्रूमिंग गैंग के शिकार लोग आपकी (सासंद की) नियुक्ति पर खुश होंगे।" - पाकिस्तानी मूल के सांसद नाज शाह ने इस चिट्ठी के आधार पर...

प्रचलित ख़बरें

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

रेमडेसिविर खेप को लेकर महाराष्ट्र के FDA मंत्री ने किया उद्धव सरकार को शर्मिंदा, कहा- ‘हमने दी थी बीजेपी को परमीशन’

महाविकास अघाड़ी को और शर्मिंदा करते हुए राजेंद्र शिंगणे ने पुष्टि की कि ये इंजेक्शन किसी अन्य उद्देश्य के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। उन्हें भाजपा नेताओं ने भी इसके बारे में आश्वासन दिया था।

‘सुअर के बच्चे BJP, सुअर के बच्चे CISF’: TMC नेता फिरहाद हाकिम ने समर्थकों को हिंसा के लिए उकसाया, Video वायरल

TMC नेता फिरहाद हाकिम का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल है। इसमें वह बीजेपी और केंद्रीय सुरक्षा बलों को 'सुअर' बता रहे हैं।

हाँ, हम मंदिर के लिए लड़े… क्योंकि वहाँ लाउडस्पीकर से ऐलान कर भीड़ नहीं बुलाई जाती, पेट्रोल बम नहीं बाँधे जाते

हिंदुओं को तीन बातें याद रखनी चाहिए, और जो भी ये मंदिर-अस्पताल की घटिया बाइनरी दे, उसके मुँह पर मार फेंकनी चाहिए।

रवीश और बरखा की लाश पत्रकारिताः निशाने पर धर्म और श्मशान, ‘सर तन से जुदा’ रैलियाँ और कब्रिस्तान नदारद

अचानक लग रहा है जैसे पत्रकारों को लाश से प्यार हो गया है। बरखा दत्त श्मशान में बैठकर रिपोर्टिंग कर रही हैं। रवीश कुमार लखनऊ को लाशनऊ बता रहे हैं।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,653FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe