Tuesday, January 26, 2021
Home रिपोर्ट राष्ट्रीय सुरक्षा बंगाल की प्रज्ञा 2009 में धोखे से बना दी गई थी आएशा: करती थी...

बंगाल की प्रज्ञा 2009 में धोखे से बना दी गई थी आएशा: करती थी आतंकी संगठन JMB में महिलाओं की भर्ती, ढाका से गिरफ्तार

प्रज्ञा (आएशा) को काम दिया गया था जिसके तहत उसे हिंदू लड़कियों को इस्लाम धर्म स्वीकार करने का लालच देना था। इसके बाद आएशा लड़कियों का कट्टर सलफी मौलवी से परिचय कराती थी। अंत में उन्हें जेएमबी में शामिल करने की तैयारी की जाती थी। ‘जेएमबी’ बंगाल में काफी सक्रिय है और बड़े पैमाने पर यही काम करता है।

ढाका पुलिस की काउंटर टेररिज्म एंड ट्रांसनेशनल क्राइम (सीटीटीसी) की इकाई ने शुक्रवार (जुलाई 17, 2020) को एक आएशा नामक (पहले प्रज्ञा) महिला को गिरफ्तार किया। गिरफ़्तार की गई 25 वर्षीय महिला गैर क़ानूनी संगठन जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्लादेश (जेएमबी) की सदस्य है।   

पूछताछ के दौरान कई हैरान कर देने वाली बातें सामने आई हैं। पूछताछ में उसने बताया कि उसका जबरन धर्मांतरण कराया गया था। असल में वह हिंदू थी, कक्षा 9 में पढ़ती थी तब उसे जबरन इस्लाम धर्म कबूल कराया गया। आएशा का असली नाम प्रज्ञा देबनाथ था।   

आएशा कोलकाता के धनियाकाली पुलिस थाने के अंतर्गत आने वाले गाँव पश्चिम केशाबपुर की रहने वाली थी। पढ़ाई के दौरान उसकी सबसे अच्छी दोस्त मुस्लिम थी। उसके प्रभाव में बेहद खुफ़िया तरीके से प्रज्ञा (आएशा) का धर्म परिवर्तन कराया गया। साल 2009 के दौरान धोखे से उसे इस्लाम धर्म कबूल कराया गया।   

बेहद खुफ़िया तरीके से ही प्रज्ञा को अपना नाम बदलने के लिए भी मजबूर किया गया। जिसके बाद उसे अपना नाम आएशा जन्नत मोहोना रखना पड़ा। इसके अलावा आएशा के शहर में ही रहने वाले सलफ़ी मौलवी की वजह से कट्टरता का शिकार होना पड़ा। कुछ सालों पहले ही प्रज्ञा जेएमबी की महिला इकाई से जुड़े नेताओं के संपर्क में आई। जिसके बाद उसे जेएमबी की सदस्यता दिलाई गई। महिला इकाई की मुखिया असमानी खातून (बोंदी जिबोन) ने आएशा को सदस्यता दिलाने में अहम भूमिका निभाई।   

प्रज्ञा (आएशा) को काम दिया गया था जिसके तहत उसे हिंदू लड़कियों को इस्लाम धर्म स्वीकार करने का लालच देना था। इसके बाद आएशा लड़कियों का कट्टर सलफी मौलवी से परिचय कराती थी। अंत में उन्हें जेएमबी में शामिल करने की तैयारी की जाती थी। ‘जेएमबी’ बंगाल में काफी सक्रिय है और बड़े पैमाने पर यही काम करता है। प्रज्ञा से आएशा बनी गिरफ्तार युवती से अभी और पूछताछ होनी है।   

इस मामले पर डेली स्टार में एक रिपोर्ट भी प्रकाशित हुई थी जिसमें सीटीटीसी के असिस्टेंट कमिश्नर एसके इमरान हुसैन के बयान का ज़िक्र था। उसके मुताबिक़ आएशा ने साल 2016 से ही ढाका में घूमना शुरू कर दिया था। सबसे पहले उसने नकली जन्म प्रमाण पत्र बनवाया। इसकी मदद से बांग्लादेशी पहचान पत्र भी बनवाया। इतने के अलावा उसके पास एक भारतीय पासपोर्ट भी बरामद हुआ है।   

आएशा को संगठन से फंड इकट्ठा करने की ज़िम्मेदारी भी मिली थी। इमरान हुसैन ने यह भी कहा ‘आएशा ने हाल ही में आमिर हुसैन सद्दाम नाम के बांग्लादेशी युवक से फोन पर शादी की। फिलहाल वह ओमान में रह रहा है। अपने पति के सुझाव पर वह पिछले साल अगस्त महीने से बांग्लादेश में रह रही है। उसने ढाका में घर लिया और शहर के ही केरानीगंज और नारायणगंज इलाके में स्थित मदरसे में धार्मिक शिक्षक बन गई।’   

उसका मुख्य कार्य यही था कि सबसे पहले वह ऐसे युवाओं की पहचान करे जिन्हें आसानी से कट्टरपंथी बनाया जा सकता है। इसे बाद उन्हें जेएमबी की सदस्यता दिलवाना था। इस साल के फरवरी महीने में आएशा (प्रज्ञा) की दिशा निर्देशक अस्मानी खातून गिरफ्तार की गई थी। जिसके बाद उसने मदरसे में पढ़ाना बंद कर दिया था। फिर वह जेएमबी के सोशल मीडिया के सहारे युवाओं को प्रभावित करती थी।   

पुलिस ने अपने द्वारा दी गई जानकारी में यह भी बताया कि पिछले कुछ महीनों में उसने कई युवाओं को जेएमबी की सदस्यता दिलाई। इस दौरान उसने कई बार अंतरराष्ट्रीय सीमा भी पार की। डेली स्टार में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक़, गिरफ्तारी के बाद और जाँच के दौरान वह थोड़ी देर के लिए भी परेशान नज़र नहीं आई। जिससे एक बात साफ़ हो जाती है कि वह अपने काम में कितनी माहिर है और उसे अपने लक्ष्य के अलावा बहुत कम बातें समझ आती हैं।   

सबसे पहले वामपंथी सरकारों ने पश्चिम बंगाल में मुस्लिम तुष्टिकरण की शुरुआत की। इसके बाद इस काम को कई कदम आगे लेकर गई तृणमूल कॉन्ग्रेस। जिसके चलते पश्चिम बंगाल में इस्लामी कट्टरपंथियों और मौलवियों के लिए कुछ भी करना बहुत आसान है। पूरे बंगाल में सलफ़ी मौलवियों ने ऐसे हज़ारों मदरसे और मस्जिदें बनाई हैं। जिन्हें खाड़ी के देशों से फंड मिलते हैं, यहाँ कट्टर पंथ और धर्म परिवर्तन के अलावा कुछ और नहीं होता है। जेएमबी के भी तमाम आतंकवादियों ने रिफ्यूजी बन कर बंगाल में शरण ले रखी है।  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रस्सी से लाल किला का गेट तोड़ा, जहाँ से देश के PM देते हैं भाषण, वहाँ से लहरा रहे पीला-काला झंडा

किसान लाल किले तक घुस चुके हैं और उन्होंने वहाँ झंडा भी फहरा दिया है। प्रदर्शनकारी किसानों ने लाल किले के फाटक पर रस्सियाँ बाँधकर इसे गिराने की कोशिश भी कीं।

मीलॉर्ड! आज खुश तो बहुत होंगे आप: ऑपइंडिया एडिटर के चंद सवाल

शायद अब सुप्रीम कोर्ट को लगेगा कि औरों के भी संवैधानिक अधिकार हैं, लिब्रांडू मीडिया गिरोह इसे सफल आंदोलन करार देगा, जबकि पुलिस पर तलवारों से हमले हुए हैं!

लाल किला पर खालिस्तानी झंडा फहराने पर SFJ देगा ₹1.83 करोड़, पहुँच गई ‘किसानों’ की ट्रैक्टर रैली

दिल्ली में जारी 'किसानों' का विरोध प्रदर्शन अब हिंसा और अराजकता में बदल गया है। लाल किला तक किसानों की ट्रैक्टर रैली का जत्था पहुँच चुका है।

ITO पर पुलिसकर्मी को डंडों से घोंचा, कॉलर पकड़ कर हाथापाई और मारपीट: Video

हाथ में डंडे लिए इन किसान प्रदर्शनकारियों द्वारा पुलिसकर्मी को सड़क पर घेर लिया गया और उनका कॉलर पकड़कर उनके साथ लाठी-डंडों से हाथापाई करने लगे।

DTC बस को तोड़ा, तलवारबाजी करते बढ़ रहे… पुलिस को धकियाते-रगेदते संसद और लाल किला की ओर ‘किसान’

घटना की वीडियो भी है। वीडियो में देख सकते हैं कि डीटीसी बस पर भारी भीड़ ने हमला किया है। उसे गिराकर तोड़ने का प्रयास हो रहा है।

दिल्ली में ‘किसानों’ ने किया कश्मीर वाला हाल: तलवार ले पुलिस को खदेड़ा, जगह-जगह तोड़फोड़, पुलिस वैन पर पथराव

दिल्ली में प्रदर्शनकारी पुलिस के वज्र वाहन पर चढ़ गए और वहाँ जम कर तोड़-फोड़ मचाई। 'किसानों' द्वारा तलवारें भी भाँजी गईं।

प्रचलित ख़बरें

12 साल की लड़की का स्तन दबाया, महिला जज ने कहा – ‘नहीं है यौन शोषण’: बॉम्बे HC का मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने शारीरिक संपर्क या ‘यौन शोषण के इरादे से किया गया शरीर से शरीर का स्पर्श’ (स्किन टू स्किन) के आधार पर...

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

दिल्ली में ‘किसानों’ ने किया कश्मीर वाला हाल: तलवार ले पुलिस को खदेड़ा, जगह-जगह तोड़फोड़, पुलिस वैन पर पथराव

दिल्ली में प्रदर्शनकारी पुलिस के वज्र वाहन पर चढ़ गए और वहाँ जम कर तोड़-फोड़ मचाई। 'किसानों' द्वारा तलवारें भी भाँजी गईं।

छठी बीवी ने सेक्स से किया इनकार तो 7वीं की खोज में निकला 63 साल का अयूब: कई बीमारियों से है पीड़ित, FIR दर्ज

गुजरात में अयूब देगिया की छठी बीवी ने उसके साथ सेक्स करने से इनकार कर दिया, जब उसे पता चला कि उसके शौहर की पहले से ही 5 बीवियाँ हैं।

15 साल छोटी हिन्दू से निकाह कर परवीन बनाया, अब ‘लव जिहाद’ विरोधी कानून को ‘तमाशा’ बता रहे नसीरुद्दीन शाह

नसरुद्दीन शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' को लेकर तमाशा चल रहा है। कहा कि लोगों को 'जिहाद' का सही अर्थ ही नहीं पता है।

दलित लड़की की हत्या, गुप्तांग पर प्रहार, नग्न लाश… माँ-बाप-भाई ने ही मुआवजा के लिए रची साजिश: UP पुलिस ने खोली पोल

बाराबंकी में दलित युवती की मौत के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया। पुलिस ने बताया कि पिता, माँ और भाई ने ही मिल कर युवती की हत्या कर दी।
- विज्ञापन -

 

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

रस्सी से लाल किला का गेट तोड़ा, जहाँ से देश के PM देते हैं भाषण, वहाँ से लहरा रहे पीला-काला झंडा

किसान लाल किले तक घुस चुके हैं और उन्होंने वहाँ झंडा भी फहरा दिया है। प्रदर्शनकारी किसानों ने लाल किले के फाटक पर रस्सियाँ बाँधकर इसे गिराने की कोशिश भी कीं।
00:32:37

मीलॉर्ड! आज खुश तो बहुत होंगे आप: ऑपइंडिया एडिटर के चंद सवाल

शायद अब सुप्रीम कोर्ट को लगेगा कि औरों के भी संवैधानिक अधिकार हैं, लिब्रांडू मीडिया गिरोह इसे सफल आंदोलन करार देगा, जबकि पुलिस पर तलवारों से हमले हुए हैं!

उपद्रवी ‘अन्नदाता’ को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस जान-जोखिम में डालकर बैठी सड़क पर: जगह-जगह हो रहे भयंकर तोड़-फोड़

उपद्रव को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस जहाँ जान को जोखिम में डालकर सुरक्षा सुनिश्चित करने का प्रयास कर रही है। वहीं वामपंथी गिरोह सोशल मीडिया पर पुलिस को नेगेटिव दिखाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहा।

लाल किला पर खालिस्तानी झंडा फहराने पर SFJ देगा ₹1.83 करोड़, पहुँच गई ‘किसानों’ की ट्रैक्टर रैली

दिल्ली में जारी 'किसानों' का विरोध प्रदर्शन अब हिंसा और अराजकता में बदल गया है। लाल किला तक किसानों की ट्रैक्टर रैली का जत्था पहुँच चुका है।

ITO पर पुलिसकर्मी को डंडों से घोंचा, कॉलर पकड़ कर हाथापाई और मारपीट: Video

हाथ में डंडे लिए इन किसान प्रदर्शनकारियों द्वारा पुलिसकर्मी को सड़क पर घेर लिया गया और उनका कॉलर पकड़कर उनके साथ लाठी-डंडों से हाथापाई करने लगे।

हिंदुओं को धमकी देने वाले के अब्बा, मोदी को 420 कहने वाले मौलाना और कॉन्ग्रेस नेता: ‘लोकतंत्र की हत्या’ गैंग के मुँह पर 3...

पद्म पुरस्कारों में 3 नाम ऐसे हैं, जो ध्यान खींच रहे- मौलाना वहीदुद्दीन खान (पद्म विभूषण), तरुण गोगोई (पद्म भूषण) और कल्बे सादिक (पद्म भूषण)।

DTC बस को तोड़ा, तलवारबाजी करते बढ़ रहे… पुलिस को धकियाते-रगेदते संसद और लाल किला की ओर ‘किसान’

घटना की वीडियो भी है। वीडियो में देख सकते हैं कि डीटीसी बस पर भारी भीड़ ने हमला किया है। उसे गिराकर तोड़ने का प्रयास हो रहा है।

दलित लड़की की हत्या, गुप्तांग पर प्रहार, नग्न लाश… माँ-बाप-भाई ने ही मुआवजा के लिए रची साजिश: UP पुलिस ने खोली पोल

बाराबंकी में दलित युवती की मौत के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया। पुलिस ने बताया कि पिता, माँ और भाई ने ही मिल कर युवती की हत्या कर दी।

दिल्ली में ‘किसानों’ ने किया कश्मीर वाला हाल: तलवार ले पुलिस को खदेड़ा, जगह-जगह तोड़फोड़, पुलिस वैन पर पथराव

दिल्ली में प्रदर्शनकारी पुलिस के वज्र वाहन पर चढ़ गए और वहाँ जम कर तोड़-फोड़ मचाई। 'किसानों' द्वारा तलवारें भी भाँजी गईं।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
386,000SubscribersSubscribe