Tuesday, November 30, 2021
Homeदेश-समाजगणेश विसर्जन में जल-प्रदूषण से बचें: PM मोदी की सलाह

गणेश विसर्जन में जल-प्रदूषण से बचें: PM मोदी की सलाह

पीएम मोदी ने जल प्रदूषण रोकने और वातावरण की सुरक्षा के लिए single-use प्लाटिक के इस्तेमाल को रोकने पर ज़ोर दिया। साथ ही, गणेश विसर्जन पर प्लास्टिक और कई सारे अन्य कचरों को समुद्र में जाने से रोकने की अपील की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार (7 सितंबर, 2019) को लोगों से गुज़ारिश की है कि वे गणेश विसर्जन के समय जल-प्रदूषण से बचते हुए प्लास्टिक और अन्य कचरों को समुद्र में न जाने दें। पीएम मोदी ने यह बात मुंबई के विले पार्ले उपनगरीय इलाके में भगवान गणपति के दर्शन के दौरान कही। प्रधानमंत्री इस समय एक-दिनी महाराष्ट्र दौरे पर हैं, जहाँ अगले महीने विधानसभा चुनाव होने हैं।

“सुराज्य हमारा जन्मसिद्ध कर्त्तव्य है”

पीएम मोदी ने मुंबई मेट्रो की तीन नई लाइनों के लोकार्पण के बाद बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स स्थित जिओ वर्ल्ड सेंटर में जनसभा को सम्बोधित भी किया। इस दौरान उन्होंने कहा, “जैसे लोकमान्य तिलक ने कहा था कि स्वराज्य मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है, वैसे ही अब जबकि हम आज़ादी के 75 वर्षों की तरफ बढ़ रहे हैं, तो हमें कहना चाहिए कि ‘सुराज्य’ हमारा कर्त्तव्य है।” प्रधानमंत्री ने ‘मेक इन इंडिया’ के तहत बने पहले मेट्रो कोच का भी विमोचन किया।

“पहले 100 दिन में कई ऐतिहासिक और अभूतपूर्व निर्णय”

पीएम ने दावा किया कि उनकी राजग सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल के पहले सौ दिनों के भीतर कई सारे ऐतिहासिक और अभूतपूर्व निर्णय लिए हैं। इसके अलावा उन्होंने “एक देश एक शपथ” का विचार भी सुझाया। उन्होंने जल प्रदूषण रोकने और वातावरण की सुरक्षा के लिए single-use प्लाटिक के इस्तेमाल को रोकने पर ज़ोर दिया। साथ ही, गणेश विसर्जन पर प्लास्टिक और कई सारे अन्य कचरों को समुद्र में जाने से रोकने की अपील की।

गौरतलब कि प्रधानमंत्री पहले भी single-use प्लास्टिक के प्रयोग को लेकर चिंता जता चुके हैं। उन्होंने लालकिले से भी 15 अगस्त को इसके प्रयोग को रोकने की बात की थी। खबर यह भी आ रही है कि मोदी इसके खिलाफ 11 सितंबर को मथुरा से एक अभियान की भी शुरुआत कर सकते हैं। कई पेय-पदार्थ कंपनियों ने इसकी भी आशंका जताई है कि गाँधी-जयंती (2 अक्टूबर) के दिन इसपर पूर्ण प्रतिबंध की घोषणा भी हो सकती है

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe