Wednesday, September 28, 2022
Homeदेश-समाजराजस्थान में खनन माफिया 2 पुलिसकर्मियों का अपहरण कर ले गए मध्य प्रदेश, पीट-पीट...

राजस्थान में खनन माफिया 2 पुलिसकर्मियों का अपहरण कर ले गए मध्य प्रदेश, पीट-पीट कर किया अधमरा

राजस्थान के धौलपुर और मध्य प्रदेश के मुरैना में सुप्रीम कोर्ट ने बजरी खनन पर रोक लगाई हुई है। तब भी यह बदस्तूर जारी है। कुछ दिन पहले ही पुलिस और खनन माफिया के बीच मुठभेड़ हुई थी, जिसमें 2 युवकों की मौत हो गई थी।

राजस्थान में खनन माफिया खुल्ले साँढ़ की तरह घूम रहे हैं और खुलेआम अपराध को अंजाम दे रहे हैं। यहाँ तक कि पुलिसकर्मी भी उनके सामने बेबस नज़र आ रहे हैं। धौलपुर शहर में एक ऐसा वाकया हुआ, जिससे राजस्थान में पुलिस प्रशासन की लापरवाही सामने आई। वहाँ स्थित चम्बल पुल से खनन माफियाओं ने 2 पुलिसकर्मियों को अगवा कर लिया और फिर लाठी एवं बेल्ट से उनकी पिटाई की। पुलिसकर्मियों को पीटने के लिए बदमाश उन्हें मध्य प्रदेश के बीहड़ में लेकर चले गए। इसके बाद बदमाश घायल पुलिसकर्मियों की पिटाई के बाद वहीं पर छोड़ कर आए गए। पिटाई के बाद दोनों पुलिसकर्मी अधमरी अवस्था में वहाँ तड़प रहे थे

पीड़ित पुलिसकर्मियों की पहचान कॉन्स्टेबल हरिओम और कॉस्टेबल विजयपाल के रूप में हुई है। ये दोनों धौलपुर के सागरपाड़ा पुलिस चौकी में कार्यरत थे। ये घटना सोमवार (अक्टूबर 7, 2019) की रात को हुई। घटना के वक्त दोनों ही पुलिसकर्मी देर रात बाइक से गश्त कर रहे थे। मार से घायल हुए दोनों पुलिसकर्मियों को जिला अस्पताल के ट्रॉमा वार्ड में भर्ती कराया गया है। वहाँ पर उन दोनों का उपचार चल रहा है। दोनों ही पुलिसकर्मियों के हाथ, पैर, मुँह और पीठ में काफ़ी गंभीर चोटें आई हैं।

राजस्थान के धौलपुर और मध्य प्रदेश के मुरैना में सुप्रीम कोर्ट ने बजरी खनन पर रोक लगाई हुई है। तब भी सरायछोला पुलिस स्टेशन के सामने से ही ट्रक पर बजरी भर कर ले जाया जाता है। इससे पहले भी ऐसी ख़बर आई थी। इसके बाद राजस्थान प्रशासन में हड़कंप मच गया था। बीते 30 अगस्त को पुलिस और खनन माफिया के बीच मुठभेड़ हो गई थी। इसमें 2 युवकों की मौत हो गई है। उस घटना में 2 पुलिस कॉन्स्टेबल सहित 7 लोग घायल भी हो गए थे।

अभी वह मामला ठंडा भी नहीं हुआ था कि अब दो कॉन्स्टेबलों को मध्य प्रदेश ले जाकर पिटाई का मामला सामने आ गया। बताया जाता है कि खनन माफिया कार से आए और कॉन्स्टेबलों का अपहरण कर लिया। पुलिस ने बताया है कि इस सम्बन्ध में मुक़दमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है और जाँच चल रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ब्रह्मांड के केंद्र’ में भारत माता की समृद्धि के लिए RSS प्रमुख मोहन भागवत ने की प्रार्थना, मेघालय के इसी जगह पर है ‘स्वर्णिम...

सेंग खासी एक सामाजिक-सांस्कृतिक और धार्मिक संगठन है जिसका गठन 23 नवंबर, 1899 को 16 युवकों ने खासी संस्कृति व परंपरा के संरक्षण हेतु किया था।

अब पलटा लेस्टर हिंसा के लिए हिन्दुओं को जिम्मेदार ठहराने वाला BBC, फिर भी जारी रखी मुस्लिम भीड़ को बचाने की कोशिश: नहीं ला...

बीबीसी ने अपनी पिछली रिपोर्टों के लिए कोई माफी नहीं माँगी है, जिसमें उसने हिंदुओं पर झूठा आरोप लगाया था कि हिंसा के लिए वे जिम्मेदार हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,688FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe