Tuesday, July 27, 2021
Homeविविध विषयअन्यसचिन तेंदुलकर बने ICC हॉल ऑफ़ फ़ेम में शामिल होने वाले छठे भारतीय क्रिकेटर

सचिन तेंदुलकर बने ICC हॉल ऑफ़ फ़ेम में शामिल होने वाले छठे भारतीय क्रिकेटर

सचिन के अलावा दक्षिण अफ्रीका के एलन डॉनल्ड और ऑस्ट्रेलिया की कैथरीन फिट्जपैट्रिक को भी आईसीसी हॉल ऑफ फेम में शामिल किया गया है।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले सचिन तेंदुलकर को इंटरनेशल क्रिकेट काउंसिल (ICC) ने बृहस्पतिवार (जुलाई 18, 2019) देर रात अपने हॉल ऑफ फेम सम्मान से नवाजा। उनके अलावा दक्षिण अफ्रीका के लेजंड क्रिकेटर एलन डॉनल्ड और ऑस्ट्रेलिया की पूर्व महिला पेसर कैथरीन फिट्जपैट्रिक को भी आईसीसी हॉल ऑफ फेम में शामिल किया गया है। लंदन में हुए एक समारोह में इन तीनों दिग्गजों को यह सम्मान दिया गया।

ICC हॉल ऑफ फेम में शामिल किए जाने पर सचिन ने आईसीसी को धन्यवाद दिया है। सचिन तेंदुलकर, हॉल ऑफ फेम में शामिल होने वाले छठे भारतीय क्रिकेटर हैं। उनसे पहले आईसीसी ने क्रिकेट हॉल ऑफ फेम में पूर्व क्रिकेटर बिशन सिंह बेदी, वर्ल्ड कप विजेता कप्तान कपिल देव, दिग्गज सुनील गावसकर, राहुल द्रविड़ और अनिल कुंबले को शामिल किया था।

इस उपलब्धि पर सचिन ने कहा, “आईसीसी क्रिकेट हाल ऑफ फेम में शामिल किया जाना सम्मान की बात है। आईसीसी ने इस सम्मान से जिस भी खिलाड़ी को नवाजा है, उन सभी ने इस खेल को बढ़ाने और उसकी लोकप्रियता में इजाफा करने में अपना अहम योगदान दिया है। मुझे खुशी है कि मेरा भी इसमें थोड़ा सा योगदान रहा।”

सचिन तेंदुलकर को जब यह सम्मान दिया गया उस समय उनकी पत्नी और बेटी भी उनके साथ थीं

46 साल के सचिन तेंदुलकर की गिनती दुनिया के महान बल्लेबाजों में होती है। उनके नाम अब भी कई रिकॉर्ड दर्ज हैं, जिन्हें कोई तोड़ नहीं सका है। वह वनडे और टेस्ट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं। उनके नाम 100 इंटरनैशनल सेंचुरी दर्ज हैं, जो कि एक रिकॉर्ड है।


  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अपनी मौत के लिए दानिश सिद्दीकी खुद जिम्मेदार, नहीं माँगेंगे माफ़ी, वो दुश्मन की टैंक पर था’: ‘दैनिक भास्कर’ से बोला तालिबान

तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि दानिश सिद्दीकी का शव युद्धक्षेत्र में पड़ा था, जिसकी बाद में पहचान हुई तो रेडक्रॉस के हवाले किया गया।

विवाद की जड़ में अंग्रेज, हिंसा के पीछे बांग्लादेशी घुसपैठिए? असम-मिजोरम के बीच झड़प के बारे में जानें सब कुछ

असल में असम से ही कभी मिजोरम अलग हुआ था। तभी से दोनों राज्यों के बीच सीमा-विवाद चल रहा है। इस विवाद की जड़ें अंग्रेजों के काल में हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,381FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe