Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीतिराजनीतिक बहस बनी जानलेवा: सपा कार्यकर्ता आपस में भिड़े, 1 की मौत

राजनीतिक बहस बनी जानलेवा: सपा कार्यकर्ता आपस में भिड़े, 1 की मौत

कुर्सियों को एक-दूसरे पर फेंकने के दौरान वरिष्ठ ज़िला उपाध्यक्ष राजेश पांडेय भी घायल हो गए। कार्यक्रम स्थल से निकलकर राजेश पांडेय पार्टी के ज़िला कार्यालय पहुँचे, जहाँ कुछ देर बाद ही उनकी मृत्यु हो गई।

न्यूज़ चैनलों पर आम मुद्दों पर बहस होने के कार्यक्रम आम हैं। यह मुद्दे राजनीतिक भी हो सकते हैं और सामाजिक भी। टीवी पर बहस के कार्यक्रम में यदि किसी तरह का कोई विवाद उत्पन्न होता है तो उसे शांत करने का प्रयास किया जाता है, लेकिन कभी-कभी हालात इतने विपरीत हो जाते हैं कि बहस पर आधारित यह कार्यक्रम आपसी झगड़े का कारण बन जाते हैं।

ऐसा ही एक मामला यूपी के संत कबीर नगर का है, जहाँ शुक्रवार (22 फ़रवरी 2019) को एक न्यूज़ चैनल द्वारा आयोजित डिबेट के कार्यक्रम में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए। इस दौरान माहौल इस क़दर बिगड़ा कि आपस में हाथापाई हुई और कुर्सियों को एक-दूसरे पर फेंका गया। इस अफ़रा-तफरी में भालचंद्र यादव समर्थकों के साथ मारपीट हुई और धनघटा विधानसभा क्षेत्र के पूर्व अध्यक्ष लाल बहादुर यादव का पैर टूट गया।

ख़बरों के अनुसार, कुर्सियों को एक-दूसरे पर फेंकने के दौरान वरिष्ठ ज़िला उपाध्यक्ष राजेश पांडेय भी घायल हो गए। कार्यक्रम स्थल से निकलकर राजेश पांडेय पार्टी के ज़िला कार्यालय पहुँचे, जहाँ कुछ देर बाद ही उनकी मृत्यु हो गई।

दरअसल, दोपहर क़रीब तीन बजे जूनियर हाईस्कूल परिसर में लोकसभा चुनाव में सीटों के बँटवारे पर एक बहस का आयोजन किया गया। इस बहस के कार्यक्रम में कई दलों के नेता मौजूद थे। चर्चा के दौरान सीटों के बँटवारे को लेकर सपा-बसपा के कुछ कार्यकर्ताओं द्वारा आपत्ति की गई। इसके बाद सपा कार्यकर्ता आपस में मार-पीट करने लगे। जिलाध्यक्ष गौहर समेत बाक़ी के नेताओं ने मामले को किसी तरह शांत कराया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘राजीव गाँधी थे PM, उत्तर-पूर्व में गिरी थी 41 लाशें’: मोदी सरकार पर तंज कसने के फेर में ‘इतिहासकार’ इरफ़ान हबीब भूले 1985

इतिहासकार व 'बुद्धिजीवी' इरफ़ान हबीब ने असम-मिजोरम विवाद के सहारे मोदी सरकार पर तंज कसा, जिसके बाद लोगों ने उन्हें सही इतिहास की याद दिलाई।

औरतों का चीरहरण, तोड़फोड़, किडनैपिंग, हत्या: बंगाल हिंसा पर NHRC की रिपोर्ट से निकली एक और भयावह कहानी

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) ने 14 जुलाई को बंगाल में चुनाव के बाद हुई हिंसा पर अपनी अंतिम रिपोर्ट कलकत्ता हाईकोर्ट को सौंपी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,464FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe