Monday, October 18, 2021
Homeविविध विषयअन्यकुम्भ पर डाक टिकट जारी: आज़ाद भारत के इतिहास में पहली बार हुआ ऐसा

कुम्भ पर डाक टिकट जारी: आज़ाद भारत के इतिहास में पहली बार हुआ ऐसा

संपूर्ण विश्व के लिए कुंभ आस्था का प्रतीक है, दुनिया भर से लोग यहाँ आते हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए स्मारक डाक टिकट और स्मारिका जारी की गई है।

केंद्रीय रेल और संचार राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने शनिवार (2 फरवरी 2018) को कुंभ मेले पर भारतीय डाक विभाग का एक विशेष डाक टिकट जारी किया। इस अवसर पर एक विशेष ‘फस्ट डे कवर’ भी जारी किया गया। इसका मूल्य पाँच रुपए है।

इस अवसर पर श्री सिन्हा ने कहा कि कुंभ मेला न सिर्फ़ भारत का बल्कि पूरी दुनिया का एक प्रमुख आयोजन है। मनोज सिन्हा ने कहा कि कुंभ केवल एक धार्मिक और आध्यात्मिक ही नहीं, बल्कि यह पूरे विश्व का एक ज्योतिषीय, सांस्कृतिक और खगोलीय आयोजन भी है। कुंभ को ज्ञान के स्रोत के रूप में भी देखा जाता है।

कुंभ मेले पर जारी किया गया विशेष डाक टिकट

कुंभ पर डाक टिकट जारी करते हुए उन्होंने कहा कि कुंभ मेले पर टिकट जारी करना बड़े गौरव की बात है। इससे पहले की सरकारें इस प्रकार के आयोजनों पर स्मारक डाक टिकट जारी करने से बचती आई हैं। वर्तमान सरकार ने ऐसा साहस दिखाया है और कुंभ पर स्मारक डाक टिकट जारी किया, जो इससे पहले कभी नहीं हुआ

उन्होंने बताया कि कुंभ पूरे देश के साथ-साथ विश्व के लिए आकर्षण का केंद्र है। संपूर्ण विश्व के लिए कुंभ मेला आस्था का प्रतीक है, दुनिया भर से लोग यहाँ आते हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए स्मारक डाक टिकट और स्मारिका जारी की गई है।

केंद्रीय रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने जानकारी दी कि डाक विभाग ने कई क्षेत्रों में नए आयाम स्थापित किए हैं। डाक विभाग ने पार्सल के साथ-साथ तक़नीकी का इस्तेमाल कर कोर बैंकिंग की भी शुरुआत की है। इसके अलावा पासपोर्ट सेवा केंद्र भी डाक विभाग में खोले गए हैं। मनोज सिन्हा ने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि हर लोकसभा क्षेत्र में कम से कम एक पासपोर्ट केंद्र हो और हम इस लक्ष्य को फरवरी के अंत तक प्राप्त कर लेंगे। 2014 तक देश में सिर्फ़ 77 पासपोर्ट केंद्र थे, जो अब बढ़कर 300 से अधिक हो चुके हैं।

मनोज सिन्हा ने कहा कि अब इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के माध्यम से क्रान्तिकारी परिवर्तनों की डाक विभाग में शुरुआत हो चुकी है। इंडिया पोस्ट की लगभग 1,30,000 शाखाएँ खुल चुकी हैं और बीमा क्षेत्र में भी डाक विभाग जल्दी ही अपने क़दम आगे बढ़ाएगा।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस निहंग ने कहा- मैंने उसकी टाँग काटी, उसकी पत्नी बोली- गर्व है: सिंघु-कुंडली बॉर्डर पर हुई थी दलित की बर्बर हत्या

सिंघु बॉर्डर पर दलित युवक लखबीर सिंह की नृशंस हत्या करने के तीन आरोपितों को सोनीपत कोर्ट ने 6 दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया है।

‘घाटी छोड़ो वरना मार दिए जाओगे’: ULF के आतंकी मार रहे यूपी-बिहार के लोगों को, 16 दिन में 11 हत्या-इनमें 5 गैर कश्मीरी

जम्मू-कश्मीर में 2 अक्टूबर से लेकर अब तक के बीच में 11 लोगों को मारा जा चुका है। आतंकियों ने धमकी दी है कि गैर-कश्मीरी चले जाएँ वरना उनका भी ऐसा ही हाल होगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,590FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe