Sunday, February 28, 2021
Home देश-समाज बिहार में गोली, गुजरात में पत्थरबाज़ी: मरकज से निकले लोगों की तलाश कर रही...

बिहार में गोली, गुजरात में पत्थरबाज़ी: मरकज से निकले लोगों की तलाश कर रही पुलिस पर भीड़ का हमला

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित 6 मंजिला इमारत मरकज़ में ढाई हज़ार लोगों का जमावड़ा लगा था। कई राज्यों में ऐसे कोरोना मरीज मिले हैं, जो मरकज़ में होने वाले मजहबी कार्यक्रम का हिस्सा थे और संक्रमित हो गए। इसलिए हर राज्य में ऐसे लोगों की तलाश की जा रही है ताकि उनकी जॉंच की जा सके।

कोरोना वायरस के संक्रमण का प्रसार रोकने के लिए देश में 21 दिनों का लॉकडाउन है। इस दौरान देश की कई मस्जिदों में विदेशी मौलवियों के छिपे होने के मामले सामने आए हैं। संक्रमण से बचाव का सबसे कारगर उपाय सोशल डिस्टेंसिंग है। बावजूद अलग-अलग शहरों में सामूहिक रूप से नमाज अदा करने के मामले सामने आ चुके हैं। दिशा-निर्देशों और नियम-कायदों की धज्जियॉं उड़ाकर मजहबी जुटान हो रहा है। इसका सबसे ताजा उदाहरण दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज में हुआ इज्तिमा है।

मरकज से निकले कई लोग संक्रमित पाए गए हैं। तेलंगाना में ऐसे छह लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। इसके बाद देश के हर राज्य में यहॉं से निकले लोगों की पहचान हो रही है ताकि उनकी जॉंच की जा सके और संक्रमण पर काबू पाया जा सके। लेकिन इस काम में समुदाय विशेष की भीड़ बाधक बनती दिख रही है।

इसी कड़ी में गुजरात के अहमदाबाद स्थित गोमतीपुर में भीड़ द्वारा पुलिस पर पत्थरबाजी की घटना सामने आई है। गोमतीपुर में पुलिस उन लोगों की तलाश में गई थी, जिन्होंने तबलीगी जमात के कार्यक्रम में हिस्सा लिया था। बता दें कि दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित 6 मंजिला इमारत मरकज़ में ढाई हज़ार लोगों का जमावड़ा लगा था। तमिलनाडु और तेलंगाना सहित कई राज्यों में बड़े पैमाने पर ऐसे कोरोना मरीज मिले हैं, जो मरकज़ में होने वाले मजहबी कार्यक्रम का हिस्सा थे और संक्रमित हो गए। आशंका है कि उन्होंने अन्य राज्यों जाकर कई अन्य लोगों को भी संक्रमित कर दिया। हर राज्य में वैसे लोगों की खोज जारी है, इसी क्रम में गुजरात में भी पुलिस सर्च अभियान में पहुँची थी। गुजरात में सोमवार (मार्च 30, 2020) को कोरोना वायरस के कारण 2 लोगों की मौत हो गई। सोमवार को ही राज्य में कोरोना वायरस से संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले भी सामने आए। 10 संक्रमित मरीज ऐसे हैं, जिन्हें कैसे संक्रमण हुआ इसका पता भी नहीं लग पाया है। यानी इन 10 मरीजों के संक्रमण का सोर्स अज्ञात है।

इससे पहले बिहार के मधुबनी जिले में समुदाय विशेष की भीड़ ने पुलिस पर हमला किया था। पुलिस टीम एक मस्जिद में जमात के लोगों के होने और सामूहिक नमाज रुकवाने के लिए पहुॅंची थी। लेकिन भीड़ ने उसे करीब एक किमी तक खदेड़ा। पत्थरबाजी की। फायरिंग की। पुलिस के जीप तालाब में पलट दी। लोग इतने हिंसक थे कि थानेदार और बीडीओ को जान बचा कर भागना पड़ा। पुलिस ने 15 लोगों के ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज की है, जिनमें से 4 को गिरफ़्तार भी कर लिया गया है।

पुलिस को ये भी लग रहा है कि मधुबनी की अंधारठाढ़ी के गीदड़गंज स्थित उस मस्जिद में कुछ विदेशी भी छिपाए गए हो सकते हैं। वहाँ कोई ऐसा व्यक्ति नहीं मिला जो निजामुद्दीन के मरकज़ में गया हो। एसपी सत्य प्रकाश ने बताया कि सीमावर्ती जिला होने के कारण वहाँ ज्यादातर नेपाल से लोग आए हुए हैं। पुलिस को सूचना मिली थी कि एक स्थानीय राजद नेता के घर पर कुछ विदेशियों को रखा गया है और वही उनकी देखभाल भी कर रहा है।

पुलिस पर फायरिंग करने वाला भी उसी राजद नेता का खास है। जिस तरह से पत्थरबाजी हुई, उससे साफ़ पता चलता है कि मस्जिद व घरों की छत्तों पर बड़े-बड़े पत्थर रखे हुए थे। इसी तरह छत्तीसगढ़ के भिलाई की एक मस्जिद से चार महिलाओं समेत आठ लोग मिले हैं। पश्चिम बंगाल के मिदनापुर के रहने वाले ये लोग भी मरकज से निकलकर इस मस्जिद में छिपे थे। स्वास्थ्य विभाग की टीम के पहुॅंचने पर ये हंगामा करने लगे। पुलिस को भी शुरुआत में गुमराह करने की कोशिश की।

इसी तरह महाराष्ट्र के सोलापुर में भी पुलिस पर पत्थरबाजी की गई। पुलिस को लोगों को समझाना पड़ा कि प्रशासन किसी भी मजहब के ख़िलाफ़ नहीं है, वो तो लोगों के हित के लिए ही काम कर रहा है। एसपी को ख़ुद वीडियो जारी कर समझाना पड़ा कि सोशल डिस्टेनसिंग का पालन कराना या करना किसी मजहब के ख़िलाफ़ नहीं है।

इसी तरह 28 मार्च को असम के बोंगाईगाँव में पुलिस पर पत्थरबाजी की गई। पुलिस सोशल डिस्टेनसिंग को ध्यान में रखते हुए पुलिस बड़ा बाजार क्षेत्र में दुकानों को बंद कराने गई थी। बोंगाईगाँव समुदाय विशेष बहुल जिला है। एसपी ने बताया कि दुकानों को बंद कराने समय अचानक से कुछ लोगों ने पत्थरबाजी शुरू कर दी। पत्थर चलाने वालों में अधिकतर नाबालिग थे। पुलिस को वहाँ जान बचाने के लिए फायरिंग तक करनी पड़ी थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘PM मोदी समेत BJP नेता प्रचार कर रहे हैं और पप्पू मछली पकड़ रहा है, फिर कहेंगे EVM खराब है’

भाजपा के सभी वरिष्ठ नेता चुनाव की तैयारियों में व्यस्त है, लेकिन राहुल गाँधी अभी भी मछली पकड़ने में लगे हुए हैं और चुनावों के नतीजों के बाद कॉन्ग्रेस कहेगी की EVM खराब है।

ममता के मंत्री फिरहाद हाकिम का मस्जिद में ऐलान: जीते तो मौलाना-इमामों का बढ़ेगा भत्ता, BJP को वोट न देने की अपील

“वोट हासिल करने के लिए जाति या सांप्रदायिक भावनाओं के लिए कोई अपील नहीं होगी। मस्जिदों, चर्चों, मंदिरों या अन्य पूजा स्थलों को चुनाव प्रचार के लिए मंच के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जाएगा।”

CM योगी के नेतृत्व में यूपी GSDP के मामले में बना भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य: कोरोना काल में तरक्की का कीर्तिमान

योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाला उत्तर प्रदेश, 19.48 लाख करोड़ रुपए के साथ सकल राज्य घरेलू उत्पाद (GSDP) के मामले में भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य बन गया है।

‘अब भी लगता है डर, नहीं हुई नुकसान की भरपाई’: दिल्ली दंगों में जिस पार्किंग में जली थी दर्जनों गाड़ियाँ, 1 साल बाद हम...

दिल्ली हिन्दू विरोधी दंगों में पूरी तरह तबाह शिव विहार पार्किंग के मालिक गजेंद्र परिहार ने बताया कि FIR में उन्होंने डर से कई चीजें नहीं बताई हैं और किसी को निशाना नहीं बनाया है, क्योंकि उन्हें इसी क्षेत्र में रहना है।

नीरव मोदी के विशेषज्ञ गवाह काट्जू की लंदन की कोर्ट में फजीहत, जज ने ‘फर्जी दलीलों’ को बताया निजी अजेंडा

काट्जू ने नीरव मोदी की पैरवी में भाजपा सरकार की तुलना हिटलर से करते हुए कहा था कि सरकार की नजर में नीरव मोदी यहूदी है और वह उसे सभी आर्थिक समस्याओं के लिए जिम्मेदार ठहराएगी।

बाल श्रीराम भी खिलौनों से खेलते थे, चतुरंग और पच्चीसी प्राचीन भारत में भी लोकप्रिय: PM मोदी ने ‘भारत खिलौना मेला’ का किया उद्घाटन

"खिलौनों का जो वैज्ञानिक पक्ष है, बच्चों के विकास में खिलौनों की जो भूमिका है, उसे अभिभावकों को समझना चाहिए और अध्यापकों को स्कूलों में भी उसे प्रयोग करना चाहिए।"

प्रचलित ख़बरें

कोर्ट के कुरान बाँटने के आदेश को ठुकराने वाली ऋचा भारती के पिता की गोली मार कर हत्या, शव को कुएँ में फेंका

शिकायत के अनुसार, वो अपने खेत के पास ही थे कि तभी आठ बदमाशों ने कन्धों पर रायफल रखकर उन्हें घेर लिया और फायरिंग करने लगे।

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

जलाकर मार डाले गए 27 महिला, 22 पुरुष, 10 बच्चे भी रामभक्त ही थे, अयोध्या से ही लौट रहे थे

27 फरवरी 2002 की सुबह अयोध्या से लौट रहे 59 रामभक्तों को साबरमती एक्सप्रेस में करीब 2000 लोगों की भीड़ ने जलाकर मार डाला था।

कॉन्ग्रेस ने मेरा इस्तेमाल नहीं किया, मुझे नीचे गिराने में लगे हैं पार्टी नेता: हार के बाद बोले कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल

हार्दिक पटेल ने कहा कि कॉन्ग्रेस के नेता उन्हें नीचा दिखाना और नीचे गिराना चाहते हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि निकाय चुनावों में कॉन्ग्रेस ने उनका ठीक से इस्तेमाल नहीं किया।

नाबालिग को बुर्का पहनाकर अगवा करने वाले 6 बच्चों के बाप मेहताब की बीवी-भाभी गिरफ्तार, भाई को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू

पुलिस ने अपहरणकर्ता मेहताब की पत्नी और उसकी दो भाभियों को गिरफ्तार किया है, जबकि आरोपित के एक भाई को हिरासत में लिया गया है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,188FansLike
81,829FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe