‘मुलायम हैं सपा के पितामह, न होने दें रामपुर में द्रौपदी का चीरहरण’: बोलीं सुषमा स्वराज

इससे पहले आजम खान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सीएम योगी के खिलाफ भी आपत्तिजनक बयान दे चुके हैं। लेकिन मामले के तूल पकड़ने पर आजम ने बेशर्मी से दावा किया है कि अगर कोई उन्हें दोषी साबित कर देगा को वह इस वर्ष चुनाव नहीं लड़ेंगे।

रामपुर से भाजपा प्रत्याशी जया प्रदा पर आपत्तिजनक बयान देने के बाद सपा नेता आजम खान को हर ओर से आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी ट्विटर के जरिए मुलायम सिंह यादव, अखिलेश यादव और डिंपल यादव से इस मामले पर संज्ञान लेने की बात की है। सुषमा ने कहा “मुलायम भाई- आप पितामह हैं समाजवादी पार्टी के। आपके सामने रामपुर में द्रौपदी का चीर हरण हो रहा हैं आप भीष्म की तरह मौन साधने की गलती मत करिए।”

इससे पहले राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने भी ट्वीट करते हुए आजम खान की इस टिप्पणी को बेहद घिनौना करार दिया था। साथ ही रेखा ने आजम को नोटिस भेजने की बात भी कही थी।

उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा था कि NCW चुनाव आयोग से अनुरोध करेगा कि वह आजम को चुनाव लड़ने से रोकें। बता दें आजम खान की वीडियो को एक यूजर द्वारा अपलोड करने के तुरंत बाद रेखा ने मामले पर संज्ञान लिया था।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

कल (अप्रैल 14, 2019) शाहबाद में हुई जनसभा में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की मौजूदगी में रामपुर से सपा प्रत्याशी आजम खान ने जया प्रदा पर निशाना साधते हुए कहा था कि वो जो अंडरवियर पहनती हैं, उसका रंग खाकी है। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए चुनाव आयोग ने जिलाधिकारी से इस मामले पर रिपोर्ट की। इसके बाद वीडियो अवलोकन टीम के प्रभारी द्वारा मामले की जाँच हुई और फिर पुलिस में आजम के ख़िलाफ़ FIR दर्ज की गई।

पुलिस में दर्ज हुई रिपोर्ट में आजम पर आचार संहिता का उल्लंघन करने के साथ ही महिला पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने का भी आरोप लगाया गया है। गौरतलब है इससे पहले आजम खान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सीएम योगी और जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह के खिलाफ भी आपत्तिजनक बयान दे चुके हैं। लेकिन मामले के तूल पकड़ने पर आजम ने बेशर्मी से दावा किया है कि अगर कोई उन्हें उनके हालिया बयान को लेकर दोषी साबित कर देगा को वह इस वर्ष चुनाव नहीं लड़ेंगे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

गौरी लंकेश, कमलेश तिवारी
गौरी लंकेश की हत्या के बाद पूरे राइट विंग को गाली देने वाले नहीं बता रहे कि कमलेश तिवारी की हत्या का जश्न मना रहे किस मज़हब के हैं, किसके समर्थक हैं? कमलेश तिवारी की हत्या से ख़ुश लोगों के प्रोफाइल क्यों नहीं खंगाले जा रहे?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

100,227फैंसलाइक करें
18,920फॉलोवर्सफॉलो करें
106,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: