Wednesday, January 26, 2022
Homeरिपोर्ट'मुलायम हैं सपा के पितामह, न होने दें रामपुर में द्रौपदी का चीरहरण': बोलीं...

‘मुलायम हैं सपा के पितामह, न होने दें रामपुर में द्रौपदी का चीरहरण’: बोलीं सुषमा स्वराज

इससे पहले आजम खान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सीएम योगी के खिलाफ भी आपत्तिजनक बयान दे चुके हैं। लेकिन मामले के तूल पकड़ने पर आजम ने बेशर्मी से दावा किया है कि अगर कोई उन्हें दोषी साबित कर देगा को वह इस वर्ष चुनाव नहीं लड़ेंगे।

रामपुर से भाजपा प्रत्याशी जया प्रदा पर आपत्तिजनक बयान देने के बाद सपा नेता आजम खान को हर ओर से आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी ट्विटर के जरिए मुलायम सिंह यादव, अखिलेश यादव और डिंपल यादव से इस मामले पर संज्ञान लेने की बात की है। सुषमा ने कहा “मुलायम भाई- आप पितामह हैं समाजवादी पार्टी के। आपके सामने रामपुर में द्रौपदी का चीर हरण हो रहा हैं आप भीष्म की तरह मौन साधने की गलती मत करिए।”

इससे पहले राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने भी ट्वीट करते हुए आजम खान की इस टिप्पणी को बेहद घिनौना करार दिया था। साथ ही रेखा ने आजम को नोटिस भेजने की बात भी कही थी।

उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा था कि NCW चुनाव आयोग से अनुरोध करेगा कि वह आजम को चुनाव लड़ने से रोकें। बता दें आजम खान की वीडियो को एक यूजर द्वारा अपलोड करने के तुरंत बाद रेखा ने मामले पर संज्ञान लिया था।

कल (अप्रैल 14, 2019) शाहबाद में हुई जनसभा में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की मौजूदगी में रामपुर से सपा प्रत्याशी आजम खान ने जया प्रदा पर निशाना साधते हुए कहा था कि वो जो अंडरवियर पहनती हैं, उसका रंग खाकी है। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए चुनाव आयोग ने जिलाधिकारी से इस मामले पर रिपोर्ट की। इसके बाद वीडियो अवलोकन टीम के प्रभारी द्वारा मामले की जाँच हुई और फिर पुलिस में आजम के ख़िलाफ़ FIR दर्ज की गई।

पुलिस में दर्ज हुई रिपोर्ट में आजम पर आचार संहिता का उल्लंघन करने के साथ ही महिला पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने का भी आरोप लगाया गया है। गौरतलब है इससे पहले आजम खान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सीएम योगी और जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह के खिलाफ भी आपत्तिजनक बयान दे चुके हैं। लेकिन मामले के तूल पकड़ने पर आजम ने बेशर्मी से दावा किया है कि अगर कोई उन्हें उनके हालिया बयान को लेकर दोषी साबित कर देगा को वह इस वर्ष चुनाव नहीं लड़ेंगे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

माइनस 40 डिग्री हो या 15000 फीट की ऊँचाई… ITBP के हिमवीरों ने तिरंगा फहरा यूँ मनाया 73वाँ गणतंत्र दिवस

सीमाओं की रक्षा में तैनात भारतीय तिब्बत बॉर्डर पुलिस (ITBP) ने लद्दाख और उत्तराखंड की बर्फीली ऊँचाई वाली चोटियों में तिरंगा फहराया।

लाल किला में पेशाब से लेकर महिला पुलिस से बदतमीजी तक: याद कीजिए 26 जनवरी, 2021… जब दिल्ली में खेला गया था हिंसक खेल

आइए, याद करते हैं 26 जनवरी, 2021 (गणतंत्र दिवस) को दिल्ली में क्या-क्या हुआ था। किसान प्रदर्शनकारियों ने हिंसा के दौरान क्या-क्या किया। नेताओं-पत्रकारों ने कैसे उन्हें भड़काया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,622FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe