Monday, April 22, 2024
Homeदेश-समाजUP पुलिस ने बताया- गब्बर सिंह को मिली किस बात की सजा: Video

UP पुलिस ने बताया- गब्बर सिंह को मिली किस बात की सजा: Video

उत्तर प्रदेश पुलिस ने ये वीडियो शेयर करते हुए लिखा है, "गब्बर को मिली किस बात की सजा?"

“अअआआ… थू.. सूअर के बच्चों।” ये वाक्य सुनते ही हमें बॉलीवुड के एक कालजयी किरदार गब्बर सिंह की याद आ जाती है। लेकिन गब्बर सिंह को शोले फिल्म में आखिर में पुलिस अधिकारी ठाकुर बलदेव सिंह द्वारा दी गई सजा भुगतनी पड़ी। गब्बर को जय-वीरू के घूँसों के साथ-साथ नोक वाले जूते से भी मार खानी पड़ी थी।

लेकिन उत्तर प्रदेश पुलिस ने एक सनसनीखेज खुलासा करते हुए बताया है कि गब्बर सिंह को ये सजा बसंती को किडनैप करने या फिर रामगढ़ वालों पर अत्याचार के लिए नहीं मिली, बल्कि यहाँ-वहाँ थूकने के लिए मिली थी।

जी हाँ, उत्तर प्रदेश पुलिस ने कोरोना वायरस महामारी के बीच एक बेहद क्रिएटिव संदेश के जरिए लोगों को जागरूक करने के लिए डायरेक्टर रमेश सिप्पी द्वारा निर्देशित 1975 की फिल्म ‘शोले’ का सहारा लिया है।

उत्तर प्रदेश पुलिस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इस वीडियो सन्देश को शेयर किया है। उत्तर प्रदेश पुलिस ने ये वीडियो शेयर करते हुए लिखा है, “गब्बर को मिली किस बात की सजा?” इस सन्देश में फिल्म के खलनायक गब्बर सिंह को थूकते हुए दिखाया गया है और उसके बाद बताया गया है कि उसे किस तरह से इसका अंजाम भुगतना पड़ा।

वीडियो के अंत में गब्बर सलाखों के पीछे दिखाया गया है और एक सन्देश उभर आता है, “सार्वजानिक स्थानों पर थूकने से Covid-19 के प्रसार का खतरा बढ़ सकता है। यह एक दंडनीय अपराध है।”

उत्तर प्रदेश पुलिस ने वीडियो में एक अंतिम संदेश देते हुए लिखा है, “सार्वजानिक स्थानों पर न थूकें। उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा ‘जान हित’ में जारी। यह वीडियो अब लोगों के बीच बेहद लोकप्रिय हो गया है और बड़े स्तर पर शेयर भी किया जा रहा है।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए विभिन्न राज्यों में सरकारें अपने-अपने तरीके आजमा रही हैं। इस वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे ज्यादा आवश्यक इसके प्रति जागरूकता है। यही कारण है कि लोगों को रचनात्मकता के जरिए सरकार और पुलिस जागरूक करने का प्रयास कर रही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुस्लिमों के लिए आरक्षण माँग रही हैं माधवी लता’: News24 ने चलाई खबर, BJP प्रत्याशी ने खोली पोल तो डिलीट कर माँगी माफ़ी

"अरब, सैयद और शिया मुस्लिमों को आरक्षण का लाभ नहीं मिलता है। हम तो सभी मुस्लिमों के लिए रिजर्वेशन माँग रहे हैं।" - माधवी लता का बयान फर्जी, News24 ने डिलीट की फेक खबर।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe