पश्चिम बंगाल में फिर भड़की हिंसा: 50 देशी बम बरामद, 2 गिरफ्तार, धारा 144 लागू

ये हिंसा उस वक्त शुरू हुई, जब 30 वर्षीय संदिग्ध अपराधी प्रभु शॉ की एक इनकाउंटर में मौत हो गई। प्रभु शॉ की मौत के बाद अगले दिन भाटपारा पुलिस स्टेशन के नजदीक बम फेंके गए, जिसमें 8 लोग घायल हो गए थे।

लोकसभा चुनाव और उसके बाद तक कई राजनीतिक हिंसाओं का गवाह रहे पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना जिले के भाटपाड़ा और कांकिनारा क्षेत्र में एक बार फिर से हिंसा हुई। सोमवार (जुलाई 15, 2019) सुबह 10 बजे से अपराधियों ने कांकीनाड़ा और भाटपाड़ा के एक अस्पताल समेत विभिन्न इलाकों में बमबाजी की। इसमें कई लोग घायल हो गए। अस्पताल के सामने बम फेंकने से मरीजो में दहशत है, तो वहीं स्थानीय लोग भी इस घटना से काफी डरे हुए है। इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

दरअसल, ये हिंसा शुक्रवार (जुलाई 13, 2019) को उस वक्त शुरू हुई, जब कांकीनारा में 30 वर्षीय संदिग्ध अपराधी प्रभु शॉ की एक इनकाउंटर में मौत हो गई। प्रभु शॉ की मौत के बाद अगले दिन भाटपारा पुलिस स्टेशन के नजदीक बम फेंके गए, जिसमें 8 लोग घायल हो गए थे।

धमाके के बाद बैरकपुर पुलिस कमिश्नर मनोज वर्मा के नेतृत्व में रात भर इलाके में तलाशी अभियान चलाया गया। तलाशी के दौरान पुलिस को कांटापुकुर इलाके में 50 से भी ज्यादा जिंदा बम और बम बनाने का सामान मिला। पुलिस ने बमों को खाली स्थान पर ले जाकर निष्क्रिय कर दिया। हालात को देखते हुए मौके पर जगदल थाने की पुलिस को अतिरिक्त बलों का सहारा लेना पड़ा और रैपिड एक्शन फोर्स का सहारा लेना पड़ा। वहाँ के मौजूदा हालात को देखते हुए स्थिति पर नियंत्रित करने के लिए धारा 144 लगा दी गई है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

वहीं, घटना से गुस्साए लोगों ने भाटपाड़ा नगरपालिका व अस्पताल में घुसकर जम कर हंगामा किया। लोगों ने काकिनारा रेलवे स्टेशन पर रेल मार्ग को अवरुद्ध कर विरोध प्रदर्शन किया। 2 घंटे से अधिक समय तक रेल अवरोध होने की वजह से बैरकपुर-नैहाटी डिवीजन में ट्रेन सेवा बुरी तरह प्रभावित हुई। कई ट्रेनों को रद्द करना पड़ा, जबकि कुछ ट्रेनें देर से चलीं। स्थानीय लोगों का आरोप है कि पुलिस के सामने ही अपराधी बम चला रहे  हैं और पुलिस उन्हें गिरफ्तार नहीं कर रही। हालाँकि, बैरकपुर पुलिस कमिश्नरेट के डिप्टी कमिश्नर (जोन 1) अजॉय ठाकुर ने कहा, ‘‘कुछ बदमाशों ने सोमवार को तीन जगहों पर बम फेंके लेकिन स्थिति अब नियंत्रण में है।’’

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सबरीमाला मंदिर
सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के अवाला जस्टिस खानविलकर और जस्टिस इंदू मल्होत्रा ने इस मामले को बड़ी बेंच के पास भेजने के पक्ष में अपना मत सुनाया। जबकि पीठ में मौजूद जस्टिस चंद्रचूड़ और जस्टिस नरीमन ने सबरीमाला समीक्षा याचिका पर असंतोष व्यक्त किया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,578फैंसलाइक करें
22,402फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: