Thursday, May 30, 2024
Homeविविध विषयअन्यमाँ की मौत की ख़बर के बाद रोया, खूब रोया... लेकिन इस क्रिकेटर ने...

माँ की मौत की ख़बर के बाद रोया, खूब रोया… लेकिन इस क्रिकेटर ने नहीं छोड़ा टीम का साथ

साथी खिलाड़ी की माँ के देहांत पर दुख व्यक्त करते हुए दोनों टीम के खिलाड़ियों ने मैच के तीसरे दिन अपने बाजू़ पर काली पट्टी बांधे रखी।

‘कर्म ही पूजा है’ इस बात को आपने ज़रूर सुना होगा, लेकिन वेस्टइंडीज़ क्रिकेट टीम के तेज़ गेंदबाज अल्ज़ारी ज़ोसेफ़ ने इसको कुछ इस तरह से परिभाषित किया है, जिससे किसी की आँख नम हो जाएँ। जी हाँ वेस्टइंडीज़ के इस गेंदबाज की माँ का निधन इंग्लैंड के ख़िलाफ़ दूसके टेस्ट मैच के दौरान हो गया, बावजूद इसके वह मैच में खेलने के लिए मैदान में उतरे और साथी खिलाड़ियों का बख़ूबी साथ दिया।

अल्ज़ारी ज़ोसेफ़ की माँ शेरॉन का शनिवार की (2 फरवरी 2019) सुबह निधन हो गया था। जिसके बाद वह काफ़ी देर तक माँ की याद में रोए थे। जिसके बाद उनकी टीम के खिलाड़ियों ने उन्हें समझाया और उनके परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की। बता दें कि, अल्ज़ारी ज़ोसेफ़ की माँ काफ़ी समय से बीमार चल रहीं थी। साथी खिलाड़ी की माँ के देहांत पर दुख व्यक्त करते हुए दोनों टीम के खिलाड़ियों ने मैच के तीसरे दिन अपने बाजू़ पर काली पट्टी बांधे रखी।

वेस्टइंडीज़ टीम के मैनेजर रॉल लुइस ने कहा, ‘युवा तेज गेंदबाज अल्ज़ारी ज़ोसेफ़ की माँ शेरॉन जोसेफ़ की सूचना पाकर हम बहुत दुखी हुए। वह अब इस दुनिया में नहीं रहीं। हम यह बात अच्छी तरह जानते हैं कि ये समय अल्ज़ारी और उनके परिवार के लिए मुश्किल भरा है। उम्मीद करते हैं कि वो जल्द से जल्द इससे उबर जाएँगे।’

बता दें कि तीसरे दिन का खेल शुरू होने से पहले अल्ज़ारी विंडीज टीम के हर्डल में मौजूद थे। टीम प्रबंधन ने उनके बल्लेबाजी और गेंदबाजी करने की पुष्टि भी की है। मैच के तीसरे दिन मेजबान वेस्टइंडीज़ की टीम पहली पारी 306 रनों पर समाप्त हुई थी। जिसमें वेस्टइंडीज़ के लिए डेरेन ब्रावो ने 50 रनों की पारी खेली।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -