Wednesday, July 28, 2021
Homeसोशल ट्रेंडकेजरीवाल ने खुद को बताया 'राम भक्त', लोगों ने याद दिलाए उनके पुराने 'पाप'...

केजरीवाल ने खुद को बताया ‘राम भक्त’, लोगों ने याद दिलाए उनके पुराने ‘पाप’ : उनके हिन्दू विरोधी टिप्पणी हुए वायरल

केजरीवाल ने घोषणा की कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के बाद वह दिल्ली के बुजुर्गों को अयोध्या में दर्शन के लिए ले जाएँगे। इसके बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने अरविंद केजरीवाल को उनके पुराने ट्वीट्स की याद दिलाई, जिसमें उन्होंने न केवल उनका मजाक उड़ाया था, बल्कि हिंदू धर्म का अपमान भी किया।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार (मार्च 10, 2021) को खुद को भगवान हनुमान का भक्त घोषित किया। उन्होंने यह भी दावा किया कि चूँकि हनुमान, भगवान राम के भक्त हैं, इसलिए वह भी भगवान राम के भक्त हैं।

केजरीवाल ने घोषणा की कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के बाद वह दिल्ली के बुजुर्गों को अयोध्या में दर्शन के लिए ले जाएँगे। इसके बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने अरविंद केजरीवाल को उनके पुराने ‘पाप’ याद दिलाते हुए उन तमाम ट्वीट्स की याद दिलाई, जिसमें उन्होंने न केवल हिन्दू धर्म का मजाक उड़ाया था, बल्कि हिन्दुओं का घनघोर अपमान भी किया था।

केजरीवाल ने पहले उसी राम मंदिर के निर्माण पर सवाल उठाया था जहाँ वह दिल्ली के बुजुर्गों को तीर्थ यात्रा के लिए ले जाना चाहते है।

2019 के आम चुनावों से पहले, केजरीवाल ने एक तस्वीर शेयर किया था जिसमें एक व्यक्ति को हिंदुओं, बौद्धों और जैनों के पवित्र प्रतीक स्वस्तिक चिन्ह को झाड़ू से मारते हुए देखा जा सकता है।

नेटिज़न्स ने यह भी मज़ाक उड़ाया कि मेड इन इंडिया चीनी कोरोना वायरस वैक्सीन लेने के बाद केजरीवाल का अचानक से हृदय परिवर्तन हो गया है। स्वदेशी वैक्सीन का असर दिखने लगा है।

अरविंद केजरीवाल ने कई बार हिंदुओं का अपमान किया।

AAP tweet

पिछले साल अगस्त में, AAP के आधिकारिक ट्विटर हैंडल ने सिक्किम में कंचनजंगा, उत्तराखंड में कामेट पीक, और नंदा देवी पहाड़ियों की तस्वीरें शेयर की थीं और दिल्ली के गाजीपुर में एक अपमानजनक लैंडफिल के साथ उनकी थी। विवादास्पद ट्वीट के साथ कैप्शन था, “भारत का सबसे ऊँचा पर्वत।”

AAP Youth Manifesto during Punjab Elections.

2016 में, पंजाब विधानसभा चुनाव में भाग लेने के दौरान, AAP के युवा घोषणापत्र में AAP के चुनाव चिन्ह, झाड़ू की एक तस्वीर थी, जो स्वर्ण मंदिर में पवित्र कुंड पर थी। इसके अलावा भी अनगिनत ट्वीट्स सोशल मीडिया पर वायरल हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जाति है कि जाती नहीं… यूपी में अब विकास दुबे और फूलन देवी भी नायक? चुनावी मेंढक कर रहे अपराधियों का गुणगान

किसी को ब्राह्मण के नाम पर विकास दुबे और श्रीप्रकाश शुक्ला तो किसी को निषाद के नाम पर फूलन देवी याद आ रही है। वोट के लिए जातिवाद में अपराधियों को ही नायक क्यों बनाया जाता है?

‘बिहारियों के पास ज्यादा दिमाग नहीं होता’: तमिलनाडु के मंत्री KN नेहरू, DMK ने प्रशांत किशोर को बनाया था रणनीतिकार

तमिलनाडु के मंत्री व सत्ताधारी पार्टी DMK नेता KN नेहरू ने सरकारी नौकरियों को लेकर कहा कि बिहारियों के पास हमारी तरह ज्यादा दिमाग नहीं होता।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,617FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe