Saturday, July 13, 2024
Homeसोशल ट्रेंडभारतीय सेना ने PoK वापस लेने की बात की तो 'आहत' हो गई ऋचा...

भारतीय सेना ने PoK वापस लेने की बात की तो ‘आहत’ हो गई ऋचा चड्ढा, ‘गलवान’ का जिक्र कर बलिदानी सैनिकों का उड़ाया मजाक

ऋचा चड्ढा को उस घटना का मजाक उड़ाते देखना बेहद हास्यास्पद है। उन्हें संभवतः यह भी मालूम नहीं होगा कि भारतीय सैनिकों ने बिना किसी हथियार के चीनी सेना से बहादुरी से लड़ाई लड़ी और उन्हें पीछे धकेलने में कामयाब हासिल की।

बॉलीवुड अपने स्तरहीन कंटेंट की वजह से लगातार गर्त में जा रहा है। दर्शक इनकी बेसिर पैर की फिल्मों को ख़ारिज कर रहे हैं। दूसरी ओर बॉलीवुड हस्तियाँ अपने खराब कॉमन सेंस और भारत विरोधी रुख की वजह से भी चर्चा में रहते हैं। इसका ताजा उदाहरण ऋचा चड्ढा (Richa Chadha) हैं। ऋचा चड्ढा ने बुधवार (23 नवंबर 2022) को ट्विटर पर भारतीय सेना का मजाक उड़ाया।

दरअसल भारतीय सेना के उत्तरी कमान के कमांडिंग-इन-चीफ उपेन्द्र द्विवेदी ने एक बयान में कहा था अगर सरकार आदेश जारी करती है तो वे पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) को वापस लेने के लिए तैयार हैं। इस बयान को ‘बाबा बनारस’ नाम के ट्विटर हैंडल से शेयर किया गया था। इसी ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए ऋचा ने भारतीय सेना का मजाक उड़ाया और ताना मारते हुए कहा कि गलवान हाय (Galwan says hi) बोल रहा है।

उल्लेखनीय है कि जून 2020 में गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों की चीनी फौजियों के साथ झड़प हुई थी, जिसमें 20 भारतीय सैनिक ने अपना बलिदान दिया था। घंटों चली झड़प में कई चीनी भी मारे गए थे। लेकिन चीन ने आधिकारिक तौर पर पर अपने मृत सैनिकों की सही संख्या का खुलासा कभी नहीं किया। गलवान संघर्ष के बाद दोनों देशों के बीच लद्दाख में एक तनावपूर्ण युद्धविराम हुआ था। हालाँकि दोनों देशों ने क्षेत्र में करीब 60,000 सैनिक और उन्नत हथियार तैनात कर दिए थे।

ऋचा चड्ढा को उस घटना का मजाक उड़ाते देखना बेहद हास्यास्पद है। उन्हें संभवतः यह भी मालूम नहीं होगा कि भारतीय सैनिकों ने बिना किसी हथियार के चीनी सेना से बहादुरी से लड़ाई लड़ी और उन्हें पीछे धकेलने में कामयाब हासिल की।

देखा जाए तो बॉलीवुड स्टार्स को कभी भी उनके सामान्य ज्ञान के लिए नहीं जाना जाता है, लेकिन ऋचा चड्ढा ने इस मामले में खुद को मूर्ख की तरह प्रस्तुत किया। इतना ही नहीं यह गलवान में बलिदान देने वाले 20 सैनिकों के परिवारों के प्रति असंवेदनशीलता भी है।

जहाँ तक ​​पीओके पर भारतीय सेना की प्रतिक्रिया की बात है, तो यह भारतीय पत्रकारों के मूर्खतापूर्ण सवालों का एक मानक जवाब है। यह पूछे जाने पर कि क्या वे पीओके वापस ले सकते हैं, यह एकमात्र प्रतिक्रिया है जो सेना दे सकती है, इसका मतलब यह नहीं है कि वे कल पाकिस्तान पर आक्रमण कर रहे हैं। हम निश्चित रूप से नहीं चाहते कि सेना यह कहे कि वे पीओके वापस नहीं ले सकते।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -