Tuesday, July 27, 2021
Homeसोशल ट्रेंड82 वर्षीय सास को बेहरमी से मारने वाली महिला हुई गिरफ्तार, Video वायरल होने...

82 वर्षीय सास को बेहरमी से मारने वाली महिला हुई गिरफ्तार, Video वायरल होने के बाद उठी थी कार्रवाई की माँग

कई जानी-मानी हस्तियों ने इस मामले पर संज्ञान लिया। भाजपा नेता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने भी इसे अपने ट्विटर पर शेयर किया और इस पर अधिक जानकारी माँगी। राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने भी इस वीडियो को शेयर करते हुए प्रताड़ित महिला की मदद करने का आश्वासन दिया।

सोशल मीडिया पर पिछले दिनों इंसानियत को शर्मसार करती एक वीडियो वायरल हुई। इस वीडियो में एक बुजुर्ग महिला को दूसरी औरत डस्टपैन से मारती देखी गई। वीडियो को लेकर दावा किया गया कि वह औरत वृद्धा की बहु है। इस बर्बरता को देख सोशल मीडिया पर बहु की गिरफ्तारी की माँग उठने लगी। अब ताजा खबर है कि हरियाणा पुलिस ने आखिरकार इस महिला को गिरफ्तार कर लिया है।

अपनी 82 वर्षीय सास को प्रताड़ित करने वाली इस बहु का नाम सरोज है और ये सारी घटना हरियाणा के सोनिपत सेक्टर 23 की है। महिला के अलावा उसकी माँ को भी गिरफ्तार किया गया है। रिपोर्ट्स के अनुसार, इस संबंध में महिला के पति ने ही अपनी माँ को प्रताड़ित करने के आरोप में उसके ख़िलाफ़ शिकायत करवाई थी। इसके बाद इस मामले को कई आईपीसी धाराओं के तहत दर्ज किया गया।

मीडिया सूत्रों से यह पता चला है कि महिला ककरोई रोड पर बनी एक डिस्पेंसरी में एएनएम के तौर पर काम करती है। अपनी सास को पीटते हुए उसकी यह वीडियो उसके बच्चे ने मोबाइल फोन पर बनाई थी और बाद में इसे उसने अपने पिता को भेज दिया।

कई जानी-मानी हस्तियों ने इस मामले पर संज्ञान लिया। भाजपा नेता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने भी इसे अपने ट्विटर पर शेयर किया और इस पर अधिक जानकारी माँगी। राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने भी इस वीडियो को शेयर करते हुए प्रताड़ित महिला की मदद करने का आश्वासन दिया।

इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट वकील प्रतीक सोम ने भी इस मामले को उठाया है। सरोज की गिरफ्तारी के बाद उन्होंने इस संबंध में ट्वीट भी किया। उन्होंने बताया कि यह वीडियो सरोज के बच्चे ने एक्सीडेंटली बना ली थी।

गौरतलब है कि इस वीडियो के सोशल मीडिया पर सामने आने के बाद लोगों की तरह-तरह की प्रतिक्रियाएँ आई थी। यूजर्स ने इस महिला को जेल में डालकर वृद्धा की मदद और पुनर्वास की गुहार लगाई थी।

लोगों का कहना है कि जो महिला घर में बुजुर्गों का स्वास्थ्य नहीं देख पा रही, वो स्वास्थ्य विभाग में बैठी है। इसी तरह एक महिला लिखतीं हैं कि ऐसी महिलाएँ समाज में यातनाओं को जन्म देती हैं, अगली पीढी भी इनके दिखाए कदमों पर ही चलेगी। बुढापे में अकेलापन ऐसी यातना और घुटन से बहुत बेहतर हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,361FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe