Monday, November 29, 2021
Homeसोशल ट्रेंड#IndiaFailed जिसने भी लिखा, उसे #ProudIndian से मिला करारा वाला जबाव

#IndiaFailed जिसने भी लिखा, उसे #ProudIndian से मिला करारा वाला जबाव

पाकिस्तान एक इस्लामिक देश है। इस्लाम में सूअर हराम है। इसलिए जिन ट्वीट में पाकिस्तानियों को सूअर की तरह दिखाया गया है, ऑपइंडिया की संपादकीय नीति के तहत हम उसकी कड़ी निंदा करते हैं।

नून-टिमाटर वाले देश के लोग भी कल रात जाग रहे थे। भूखे पेट भला नींद आए भी तो कैसे! उसी देश का एक मंत्री है – वो भी विज्ञान व तकनीक मंत्री। नाम है फवाद चौधरी। कल रात जब चंद्रयान-2 के लैंडर से संपर्क टूट गया तो उसने एक तंज भरा ट्वीट किया। उसने लिखा – आऊ… जो काम आता नहीं, पंगा नहीं लेते ना… डियर इंडिया। इसके बाद भूखे पेट नींद न आने की बीमारी से ग्रसित पाकिस्तानियों ने #IndiaFailed के साथ ट्वीट करना शुरू कर दिया।

और यहीं वो गलती कर गया। उसे ये याद रखना चाहिए था कि चाहे युद्ध का मैदान हो या साइंस-टेक्नॉलजी… हमने हमेशा तुम्हारी बजाई है। इसलिए सोशल मीडिया पर भी बजाएँगे, और क्या खूब बजाया गया भाई साब! पत्रकारिता और संपादकीय नीति का सम्मान करते हुए नीचे सिर्फ वही ट्वीट लगा सकने में सक्षम हूँ, जिसमें गालियाँ नहीं हैं। वैसे पाठकगण इन ट्वीट को देख कर अंदाजा लगा सकते हैं कि पाकिस्तानियों के कान से खून बह रहा होगा या मवाद!

पाकिस्तानियों के नून-टिमाटर से सहानुभूति रखने वाले कुछ छिछोरे (मतलब लिबरपंथी) भारतीय भी कल रात खुश थे। लेकिन ये अपनी मौत खुद मरेंगे (राजनीतिक रूप से तो लगभग मर ही चुके हैं, सामाजिक छीछालेदर भी समय-समय पर हो ही जाता है) इसलिए इन पर की-बोर्ड क्या ही पीटना!

नोट: पाकिस्तान एक इस्लामिक देश है। इस्लाम में सूअर हराम है। इसलिए जिन ट्वीट में पाकिस्तानियों को सूअर की तरह दिखाया गया है, ऑपइंडिया की संपादकीय नीति के तहत हम उसकी कड़ी निंदा करते हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

‘जिनके घर शीशे के होते हैं, वे दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते’: केजरीवाल के चुनावी वादों पर बरसे सिद्धू, दागे कई सवाल

''अपने 2015 के घोषणापत्र में 'आप' ने दिल्ली में 8 लाख नई नौकरियों और 20 नए कॉलेजों का वादा किया था। नौकरियाँ और कॉलेज कहाँ हैं?"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe