Sunday, August 1, 2021
Homeसोशल ट्रेंडHESH और SHIM: जावेद अख्तर ने अंग्रेजी में बनाए 2 शब्द, लिंग को लेकर...

HESH और SHIM: जावेद अख्तर ने अंग्रेजी में बनाए 2 शब्द, लिंग को लेकर सोशल मीडिया पर हो गए ट्रोल

जावेद अख्तर ने सुझाव दिया है कि अंग्रेजी में उपयोग होने वाले he/she और him/her के स्थान पर क्रमशः लैंगिक समानता आधारित शब्दों 'hesh' और 'shim' का उपयोग किया जाना चाहिए।

बॉलीवुड के गीतकार जावेद अख्तर एक बार फिर चर्चा में हैं लेकिन विवादास्पद बयान के कारण नहीं, बल्कि अपनी ‘सुधारवादी‘ सोच के कारण। दरअसल उन्होंने सुझाव दिया है कि अंग्रेजी में उपयोग होने वाले he/she और him/her के स्थान पर क्रमशः लैंगिक समानता आधारित शब्दों ‘hesh’ और ‘shim’ का उपयोग किया जाना चाहिए।

हालाँकि, जावेद अख्तर के सुधारवादी इरादों के बाद भी यह संभावना है कि जिन्हें केंद्र में रखकर उन्होंने यह सुझाव दिया है वही ‘वोक समाज’ उनके इस विचार को ठुकरा देगा, क्योंकि ‘hesh’ में ‘he’ सर्वनाम और ‘shim’ में ‘him’ शामिल है, जो पुल्लिंग को प्रदर्शित करते हैं। इससे यह पता चलता है कि अख्तर के विचार ‘विषाक्त पुरुषत्व’ से प्रेरित हैं।

जावेद अख्तर के ट्वीट का स्क्रीनशॉट

अपने ट्वीट में जावेद अख्तर ने दो ही तरह के जेंडर या लिंग के बारे में बताया है जबकि वास्तविकता में पुल्लिंग और स्त्रीलिंग के अलावा भी जेंडर होते हैं। अख्तर के इस सुधारवादी ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर उनकी खिंचाई शुरू हो गई जो कि तय ही थी। जावेद अख्तर अक्सर अपने बयानों के कारण सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बने रहते हैं।

हालाँकि, यह साफ है कि अख्तर ने सिर्फ लोकप्रियता हासिल करने के लिए लैंगिक सर्वनाम में सुधार का यह मुद्दा उठाया, लेकिन वे अपना ही मजाक बना बैठे। दूसरी तरफ, उनका ट्वीट यह भी बताता है कि पश्चिम में लैंगिक समानता की आड़ में जो सर्वनाम की राजनीति चलती रहती है, वह अब भारत में भी धीरे-धीरे पहुँच रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

मानसिक-शारीरिक शोषण से धर्म परिवर्तन और निकाह गैर-कानूनी: हिन्दू युवती के अपहरण-निकाह मामले में इलाहाबाद HC

आरोपित जावेद अंसारी ने उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' के खिलाफ बने कानून के तहत हो रही कार्रवाई को रोकने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का रुख किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe