Friday, July 19, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'ओ चमचे चल, तू जिनकी चाट के काम लेता है, मैं उनकी रोज बजाती...

‘ओ चमचे चल, तू जिनकी चाट के काम लेता है, मैं उनकी रोज बजाती हूँ’: कंगना और दिलजीत दोसांझ में ट्विटर पर छिड़ी जंग

"ओ चमचे चल, तू जिनकी चाट चाट के काम लेता है, मैं उनकी रोज बजाती हूँ, ज्यादा मत उछल, मैं कंगना रनौत हूँ तेरे जैसी चमची नहीं, जो झूठ बोलूँ, मैंने सिर्फ और सिर्फ शाहीन बाग वाली प्रोटेस्टर पर कमेंट किया है, अगर कोई गलत साबित कर दे तो माफी माँग लूँगी।"

कंगना रनौत और दिलजीत दोसांझ के बीच किसान आंदोलन को लेकर ट्विटर पर जंग छिड़ गई हैं। यह बहस इस कदर बढ़ गई कि कंगना ने एक ट्वीट में दिलजीत दोसांझ को ‘करण जौहर का पालतू’ कह डाला। वहीं दिलजीत ने भी जवाब देने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।

असल मे यह जुबानी जंग शाहीन बाग प्रदर्शन की दादी बिलकिस की वजह से छिड़ी है, जिनका कंगना ने किसान प्रदर्शन में शामिल होने पर मजाक उड़ाया था। यही मजाक कई पंजाबी एक्टर को नागवार गुजरा, जिनमें दिलजीत भी शामिल है।

कंगना ने दिलजीत के एक ट्वीट पर मुँहतोड़ जवाब देते हुए लिखा, “ओ करण जौहर के पालतू, जो दादी शाहीन बाग में अपनी नागरिकता के लिए आंदोलन कर रही थी वो ही बिलकिस बानो दादीजी किसान आंदोलन के एमएसपी के लिए भी आंदोलन करती हुई दिखीं। महिंदर कौर जी को तो मैं जानती भी नहीं। क्या ड्रामा चलाया है तुम लोगों ने। इसे तुरंत खत्म करो।”

अब दिलजीत ने इस पर पलटवार करते हुए लिखा, “तूने जितने लोगों के साथ फिल्म की तू उन सबकी पालतू है…? फिर तो लिस्ट लंबी हो जाएगी मालिकों की…? ये बॉलिवुड वाले नहीं पंजाब वाले हैं… झूठ बोलकर लोगों को भड़काना और इमोशंस से खेलना आप अच्छे से जानती हो।”

मामला यहीं नहीं खत्म हुआ। कंगना ने दिलजीत को इस पर जवाब दिया, “ओ चमचे चल, तू जिनकी चाट चाट के काम लेता है, मैं उनकी रोज बजाती हूँ, ज्यादा मत उछल, मैं कंगना रनौत हूँ तेरे जैसी चमची नहीं, जो झूठ बोलूँ, मैंने सिर्फ और सिर्फ शाहीन बाग वाली प्रोटेस्टर पर कमेंट किया है, अगर कोई गलत साबित कर दे तो माफी माँग लूँगी।” इसके बाद दिलजीत ने कंगना को जवाब दिए हैं। हालाँकि, कंगना ने इसे बाद में डिलीट कर दिया।

जब कंगना ने एक जवाब में लिखा था- “पंजाबी समझ आती है मुझे जिन्होंने दिल्ली में दंगे करवाए। खून की नदियाँ बहाईं उनको बचाते हुए शर्म नहीं आती? तुझे क्या शर्म आएगी, करण जौहर कैसे काम देता है, सबको पता है।”

वहीं दिलजीत ने इससे पहले पोस्ट में कंगना को कहा था, “बात क्या हो रही है और ये जा किधर रही है। दिमाग ठीक है तेरा? बात न घुमा, सीधा जवाब दे। जो भौंकी है तू हमारी माँओं के लिए। आके हमारी उन माँओं से बात कर जिन्हें तूने 100 रुपए का कहा, सारी हीरोइनगिरी निकाल देंगी।”

ट्वीट के जरिए दिलजीत और कंगना एक दूसरे पर लगातार हावी होते दिख रहे हैं। एक और पोस्ट में दिलजीत ने कंगना को लेकर लिखा- “आजा आजा, ओए बददिमाग, बदतमीज। बात हो रही है उसकी जिस माँ को तूने 100 रुपए दिहाड़ी वाला कह के फोटो डाली थी। उसका जवाब सुन लिया या दोबारा भेजूँ। ऐसे ही बात न घुमा। जोड़-तोड़ बॉलीवुड में चलता हेागा तेरा, पंजाबियों के साथ नहीं चलना।”

इसके पहले कंगना ने पोस्ट में लिखा था- “ओए डम्बो, बात वही है जब किसी की सिटीजनशिप गई ही नहीं तो शाहीन बाग दादी ने किसके कहने पे प्रोटेस्ट किए? जब एमएसपी हटाया ही नहीं तो फिर वही दादी किसके भेजने पे फार्मर्स प्रोटेस्ट में हिस्सा ले रही हैं। कौन किसको पीछे से प्रॉम्प्ट करता है जब वह बोलती है।”

दरअसल, किसान आंदोलन को लेकर कंगना रनौत ने अपने एक और ट्वीट में शाहीन बाग का जिक्र करते हुए लिखा था, “शर्मनाक… किसानों के नाम पर हर कोई अपनी रोटियाँ सेंक रहा है। आशा है कि सरकार ऐसे राष्‍ट्र विरोधी तत्‍वों को फायदा उठाने का मौका नहीं देगी और फिर से शाहीन बाग जैसे हालात बनाने से रोकेगी।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिंदू लड़की का Video किया वायरल, हिंदुओं पर ही हमला, घर छोड़कर भागे भी हिंदू: यह पाकिस्तान नहीं, झारखंड के एक गाँव में ‘बांग्लादेशी...

हिंदुओं के घरों में तोड़फोड़ का आरोप भाजपा नेताओं ने बांग्लादेशी घुसपैठियों पर लगाया है। बाबू लाल मरांडी ने कहा- झारखंड को तालिबान नहीं बनने देंगे।

अब तक 39 मौतें, स्कूल-कॉलेज-इंटरनेट बंद, सरकारी मीडिया के मुख्यालय पर हमला: ‘आरक्षण’ की आग में जल रहा बांग्लादेश, भारत ने जारी की एडवाइजरी

भारत के पड़ोसी देश बांग्लादेश में आरक्षण को लेकर हो रहे प्रदर्शन हिंसक होता जा रहा है। इस प्रदर्शन में अब तक 39 मौतें हो चुकी हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -