Saturday, July 20, 2024
Homeसोशल ट्रेंड130 करोड़ की आबादी, वोट सिर्फ 30 करोड़ ने दिया: मोदी घृणा में टेनिस...

130 करोड़ की आबादी, वोट सिर्फ 30 करोड़ ने दिया: मोदी घृणा में टेनिस ‘लीजेंड’ भूलीं सामान्य गणित, नेटिजन्स पूछ रहे- ये अनपढ़ है क्या

मार्टिना की नासमझी के कारण उनकी फजीहत हो रही है। उन्होंने एक मोदी वोटर को नीचा दिखाने के लिए भारत की आबादी का हवाला दिया और कहा कि 130 करोड़ होने के बाद भी मोदी को सिर्फ 30 करोड़ लोगों ने वोट दिया। उनके ट्वीट के बाद लोगों ने उन्हें समझाया कि वो जो बोल रही है वो तार्किक बात नहीं है।

एक समय में टेनिस का जाना-माना नाम रहीं मार्टिना नवरातिलोवा (Martina Navratilova) आजकल अपने मोदी विरोधी (Modi Hatred) ट्वीट के कारण काफी फजीहत सह रही हैं। उन्होंने 13 अक्टूबर को अपने ट्विटर पर सवाल किया था, “क्या आपने भी मोदी के लिए वोट किया था।”

इस सवाल के बाद उन्हें बहुत जवाब मिले और लोगों ने खुलकर बताया कि उन्होंने मोदी को वोट किया था और आगे भी करते रहेंगे।

इसी क्रम में लेखक अजीत दत्ता ने भी मार्टिना के ट्वीट पर कहा कि हाँ उन्होंने 30 करोड़ लोगों के साथ नरेंद्र मोदी को वोट दिया था। ये मानव इतिहास का सबसे बड़ा चुनावी जनादेश था।

अजीत दत्ता के इसी जवाब से मार्टिना बौखला गईं और उन्होंने कहा कि जिस देश की आबादी ही 130 करोड़ है वहाँ ये कोई बड़ी जीत नहीं है। आपके पास सबसे ज्यादा वोटर हो सकते हैं लेकिन आपके पास बहुमत नहीं नहीं हो सकता।

अब नरेंद्र मोदी से घृणा दिखाने के चक्कर में मार्टिना यह भूल गईं कि देश की आबादी में वहाँ के नवजात भी शामिल होते हैं और साथ में किशोर और बुजुर्ग भी। लेकिन वोट देने की बारी जब आती है तो उसका अधिकार उन्हीं के पास होता है जो बालिग होते हैं, बूथ तक जाने लायक होते हैं और जिनका नाम वोटर आईडी में होता है। ऐसे में 130 करोड़ आबादी होने का मतलब यह नहीं है कि 130 करोड़ जनता वोट दे दे।

इसी बात पर मार्टिना को फजीहत सहनी पड़ रही है। उनके ट्वीट पर लोग उन्हें जीनियस कहकर तंज कस रहे हैं। लिखा जा रहा है कि एक अच्छा खिलाड़ी एक महान बेवकूफ भी हो सकता है।

एक ट्विटर यूजर लिखता है कि मार्टिना बड़े आराम से टेनिस आइकन से टूलकिट एक्टिविस्ट बन गई हैं। आखिर कोई देश के निर्वाचन तंत्र पर बिना बेसिक्स जाने कैसे कुछ बोल सकता है। मोदी के प्रति नफरत इनकी बेवकूफियों को दर्शा रही है।

एक यूजर ने लिखा कि ये अनपढ़ है क्या? एक ने कहा, “तुम राजनीति छोड़ दो। इस मासूम को तो न तो गणिता का ज्ञान है और न ही इसमें सामान्य बुद्धि है।”

एक ट्विटर यूजर ने पूछा कि क्या अमेरिका में 330 मिलियन की जनता है तो वहाँ हर किसी को वोट देने का अधिकार है। चाहे वो डायपर पहनने वाला बच्चा ही क्यों न हो। क्या बायडन ने 330 मिलियन वोट पाकर जीत हासित की थी। नहीं। लेकिन गजब बात है कि नरेंद्र मोदी ने इतने ही वोट पाकर जीत पाई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली हाईकोर्ट ने शिव मंदिर के ध्वस्तीकरण को ठहराया जायज, बॉम्बे HC ने विशालगढ़ में बुलडोजर पर लगाया ब्रेक: मंदिर की याचिका रद्द, मुस्लिमों...

बॉम्बे हाईकोर्ट ने मकबूल अहमद मुजवर व अन्य की याचिका पर इंस्पेक्टर तक को तलब कर लिया। कहा - एक भी संरचना नहीं गिराई जाए। याचिका में 'शिवभक्तों' पर आरोप।

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -