Tuesday, October 19, 2021
Homeसोशल ट्रेंडभ*#, ये नौटंकी मत कर पाँच टाइम का नमाज पढ़: योगा डे पर मोहम्मद...

भ*#, ये नौटंकी मत कर पाँच टाइम का नमाज पढ़: योगा डे पर मोहम्मद कैफ को कट्टरपंथियों ने गरियाया

आजम ने लिखा, "भाई ये नौटंकी मत कर। पॉंच टाइम नमाज पढ़ ले फुल फिट रहेगा।" उसने मजहब की ओर इशारा करते हुए कहा कि कैफ, इरफान, यूसुफ जैसों को इस नौटंकी में नहीं फॅंसना चाहिए।

मौका कोई भी पूर्व अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर मोहम्मद कैफ अपने मजहब के लोगों के निशाने पर आ ही जाते हैं। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस (21 जून 2020) पर भी यही हुआ।

मोहम्मद कैफ ने योग करती अपनी तस्वीर सोशल मीडिया में शेयर की और उन पर गालियों के साथ उन्हीं के मजहब के नाम वाले यूजर्स टूट पड़े। किसी ने इसे नौटंकी कहा तो किसी ने उन्हें भ*# बता दिया।

कैफ ने ट्वीट किया, ‘खुद से प्यार कीजिए। तन, मन, आत्मा से प्यार कीजिए।’

लेकिन, इस्लामी यूजर्स को यह पसंद नहीं आया। आजम ने लिखा, “भाई ये नौटंकी मत कर। पॉंच टाइम नमाज पढ़ ले फुल फिट रहेगा।” उसने मजहब की ओर इशारा करते हुए कहा कि कैफ, इरफान, यूसुफ जैसों को इस नौटंकी में नहीं फॅंसना चाहिए।

रुओ अदनान ने मुस्लिम धर्म के खतरे की बात करते हुए, कैफ के इमाम भटकने की बात कही। साथ ही गद्दार बताते हुए कैफ के लिए अश्लील शब्दों का प्रयोग किया।

जिब्रान अहमद ने कैफ मजाक बनाते हुए कहा “अबे क्या कर रहा है।”

फारुख खान नाम के यूजर योगासन पर उन्हें भ*# कहा।

इमदाद अब्दुल्ला ने कैफ के योगा को पॉलिटिकल स्टंट करार देते हुए इसे बीजेपी से टिकट लेने की तैयारी बता डाला।

फेसबुक पर भी इसी तरह की अश्नलील टिप्पणियॉं देखने को मिली।

इंस्टाग्राम पर भी लोगों ने मजहब का हवाला देते हुए नमाज़ पढ़ने की सीख दी।

गौरतलब है कि सोशल मीडिया एक ऐसी जगह है, जहाँ अक्सर इस्लामी क़ट्टरपंथियों की मन की बात किसी न किसी जरिए सामने आती रहती है। कई मुस्लिम सेलेब्रेटी जब हिंदू त्योहारों को उत्साह के साथ मनाते दिखते हैं या फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील मानकर उसका अनुसरण करते दिखते हैं, तब अक्सर ऐसे कमेंट और मजहबी बातें उनके ट्विट्स का हिस्सा होती हैं।

कोरोना योद्धाओं के लिए कैफ द्वारा 9 मिनट मोमबत्ती जलाने पर

उल्लेखनीय है पीएम मोदी के अपील पर कैफ ने अपनी पत्नी के साथ मोमबत्ती जलाया था। साथ ही कैफ ने कोरोना योद्धाओं को धन्यवाद देते हुए अपने ट्विटर पर रात का विडियो को शेयर भी किया था। मगर, प्रधानमंत्री की बात को मानता देख समुदाय विशेष के कुछ लोग बिदक गिए और उन पर भद्दी और अश्लील टिप्पणियों के ढेर लगा दिए।

जनता कर्फ़्यू का पालन और थाली बजाना भी पड़ा था महँगा

कट्टरपंथियों ने कैफ को जनता कर्फ्यू पर नरेंद्र मोदी की अपील का पालन करता देख भी उलटा-सीधा बोला था। किसी ने उन्हें ताली-थाली बजाने पर कोसा था। तो किसी ने उन्हें अल्लाह से दुआ करने की सलाह दी थी। एक ने तो उन्हें यहाँ तक कहा था, “कैफ भाई, भाभी और आप थाली और बर्तन लेकर रेलवे पर जाओ और नौकरी करो। हिजड़ा की तरह पैसा मिलेंगे बहुत आपको। थाली और ताली बजाते रहो।”

कट्टरपंथियों को नहीं भाया खुद को सुदामा कहना

एक बार तो कैफ द्वारा अपने आप को सुदामा और क्रिकेट के मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर को भगवान कृष्ण का दर्जा देने पर भी कट्टरपंथियों ने उन्हें खूब खरी-खोटी सुनाई थी। कुछ ने उनके खिलाफ फ़तवा जारी करने की भी बात कही थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe