Thursday, July 29, 2021
Homeसोशल ट्रेंडNDTV पत्रकार ने ABVP पर टीएमसी गुंडों के हमले को किया जस्टिफाई, गुल पनाग...

NDTV पत्रकार ने ABVP पर टीएमसी गुंडों के हमले को किया जस्टिफाई, गुल पनाग के पिता को ‘जश्न’ पर लगी लताड़

रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल एचएस पनाग व बॉलीवुड अभिनेत्री गुल पनाग के पिता ने टीएमसी की जीत पर लिखा, “एक तिरस्कृत महिला का गुस्सा नरक के प्रकोप जैसा होता है।"

NDTV पत्रकार सौमित मोहन ने सोमवार (मई 3, 2021) को पश्चिम बंगाल में ABVP कार्यकर्ताओं पर हुए हमले को जस्टिफाई करने का प्रयास किया। मोहन ने ANI के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा, “जैसी करनी वैसी भरनी।”

मोहन ने जिस ट्वीट पर अपनी टिप्पणी दी उसमें बताया गया था कि एबीवीपी कार्यकर्ताओं पर टीएमसी गुंडों ने हमला किया है। इस ट्वीट में लिखा था कि 15-20 टीएमसी गुंडों ने एबीवीपी के कोलकाता ऑफिस पर हमला बोला। वहाँ तोड़फोड़ की। एबीवीपी कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट की और भगवान हनुमान व माँ काली की मूर्ति को भी क्षतिग्रस्त कर दिया।

सौमित की प्रोफाइल पर जाकर देखें तो पता चलता है कि उनके बायो में एनडीटीवी का उल्लेख है। उन्होंने अपना यह कमेंट डिलीट तो कर दिया है लेकिन इसके लिए अब तक माफी नहीं माँगी। हालाँकि एक ट्वीट में उन्होंने बताया कि उनके ट्विटर अकाउंट से 10: 45PM के आसपास छेड़छाड़ हुई थी, जबकि एबीवीपी कार्यकर्ताओं पर हुए हमले को जस्टिफाई 10:36PM पर किया गया था।

बता दें कि 2 मई 2021 को तृणमूल कॉन्ग्रेस ने राज्य में बहुमत लेकर दोबारा सत्ता वापसी की, वहीं भाजपा ने 77 सीटें जीतीं। इस दौरान ममता बनर्जी सुवेंदु अधिकारी से हार गईं। इसी के बाद से वहाँ लगातार भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले होने लगे। किसी को बेरहमी से प्रताड़ित किया गया तो किसी की हत्या कर दी गई। हत्या, हिंसा, आगजनी का आरोप टीएमसी के गुंडों पर लग रहा है।

ऐसी घटनाओं के बावजूद तृणमूल कॉन्ग्रेस की जीत का महिमामंडन करने में लगे एक पूर्व रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल को भी सोशल मीडिया पर नेटीजन्स ने जमकर लताड़ा। रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल एचएस पनाग व बॉलीवुड अभिनेत्री गुल पनाग के पिता ने टीएमसी की जीत पर लिखा, “एक तिरस्कृत महिला का गुस्सा नरक के प्रकोप जैसा होता है। (Hell hath no fury like a woman scorned)”

इस ट्वीट पर नेटीजन्स ने उनको लताड़ लगाते हुए लिखा, “हाँ सर वो तो दिख रहा है जिस तरह वहाँ कल से लोगों के घर जले हैं और मार रहे हैं।”

एक यूजर ने तो अपनी आंटी की कहानी ट्वीट में बताई। यूजर ने कहा कि वह न तो भाजपा समर्थक थीं और न वोटर, लेकिन टीएमसी गुंडों ने उनका घर तोड़ दिया, सिर्फ़ इसलिए क्योंकि उन लोगों को लगा वह भाजपा समर्थक हैं।

इस बीच पनाग ने यूजर्स के ट्वीट देख लिखा, “356 लगा दो! लेकिन इसके लिए हिम्मत चाहिए।”

उल्लेखनीय है कि विधानसभा चुनावों में टीएमसी की जीत के बाद से राज्य में हिंसा का दौर चल रहा है। अब तक 11 लोगों की मौत की रिपोर्ट सामने आ चुकी है। पश्चिम बंगाल में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने आरोप लगाया है कि नतीजों के बाद उनकी पार्टी के करीब 100 दफ्तरों और कार्यकर्ताओं के घरों को तबाह कर दिया गया और कुछ को आग के हवाले कर दिया गया है। ममता बनर्जी ने ये कह कर पल्ला झाड़ लिया है कि जब तक वो शपथ नहीं ले लेतीं, कानून-व्यवस्था उनके हाथ में नहीं है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,739FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe